ITR भरने की लास्ट डेट नहीं बढ़ने का मतलब पता है? आखिरी दिन 1 करोड़ लोग टूट सकते हैं वेबसाइट पर

By Anuj Maurya
July 26, 2022, Updated on : Tue Jul 26 2022 09:22:29 GMT+0000
ITR भरने की लास्ट डेट नहीं बढ़ने का मतलब पता है? आखिरी दिन 1 करोड़ लोग टूट सकते हैं वेबसाइट पर
इस बार सरकार आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख बढ़ाने के मूड में नहीं है। जानिए इसका आप पर क्या होगा असर और आपको इससे दिक्कत होगी या नहीं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

आयकर रिटर्न भरने की आखिरी तारीख को अब बस चंद दिन ही बचे हैं। वहीं सरकार की ओर से कहा गया है कि वह इस बार आखिरी तारीख को 31 जुलाई के आगे बढ़ाने पर विचार नहीं कर रही है। अगर ऐसा होता है तो करीब 3 सालों में पहली बार होगा कि आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख नहीं बढ़ी है। सरकार का मानना है कि आखिरी तारीख तक अधिकतर रिटर्न भर दिए जाएंगे। वैसे 25 जुलाई तक आधे आईटीआर भरे भी जा चुके हैं, लेकिन अभी करीब आधे से अधिक आईटीआर भरे जाने बाकी हैं। ऐसे में अगर सरकार इस बार आईटीआर भरने की आखिरी तारीख को आगे नहीं बढ़ाती है तो हर रोज करीब 50 लाख लोगों को रिटर्न भरना होगा। आइए समझते हैं अगर आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख नहीं बढ़ाई जाती है तो इसका क्या असर होगा।

पहले समझिए कितने रिटर्न भरे, कितने हैं बाकी?

अगर इनकम टैक्स विभाग के आंकड़ों को देखें तो पिछले साल करीब 6.63 करोड़ रिटर्न भरे गए थे। वहीं आयकर विभाग के लेटेस्ट ट्वीट के अनुसार असेसमेंट ईयर 2022-23 में 25 जुलाई तक 3 करोड़ आईटीआर भरे जा चुके हैं। आखिरी तारीख 31 जुलाई में अब सिर्फ 6 दिन बाकी हैं। ऐसे में हर रोज 50 लाख से भी अधिक लोगों को आईटीआर भरना होगा, तब जाकर सभी लोग आईटीआर भर पाएंगे। उम्मीद की जा रही है कि इस बार 7.5 करोड़ तक आईटीआर भरे जा सकते हैं। वित्त सचिव तरुण बजाज ने पिछली बार कहा था कि आखिरी दिन करीब 50 लाख आईटीआर भरे जाएंगे और इस बार उनका कहना है कि आखिरी दिन आईटीआर फाइल करने वालों का आंकड़ा 1 करोड़ पहुंच सकता है।

क्या वेबसाइट इतना ट्रैफिक सपोर्ट कर पाएगी?

एक बड़ा सवाल ये है कि क्या इनकम टैक्स विभाग की नई वेबसाइट इतने भारी भरकम ट्रैफिक को सपोर्ट कर पाएगी? हाल ही में आयकर विभाग ने एक ट्वीट किया था, जिसमें लिखा था कि कुछ करदाताओं को वेबसाइट पर आईटीआर फाइल करने में दिक्कत आ रही है। नई वेबसाइट बनाने वाली कंपनी इंफोसिस के अनुसार पोर्टल पर कुछ अनियमित ट्रैफिक आ रहा है। कुछ ग्राहकों को दिक्कत भी हो रही है।

सरकार को मिलेगा कम टैक्स या जुर्माना लगाने से होगा फायदा?

आईटीआर की तारीख ना बढ़ाए जाने की चिंताओं के बीच इस बात को लेकर भी बहस हो रही है कि क्या इससे सरकार के पास इस साल कम टैक्स आएगा? वहीं एक दूसरा पक्ष ये भी तर्क दे रहा है कि तारीख ना बढ़ाए जाने की वजह से बहुत सारे लोग टैक्स के साथ-साथ जुर्माना भी देंगे, जिससे सरकार का अतिरिक्त फायदा होगा। असली तस्वीर तो इनकम टैक्स के आंकड़ों से 31 जुलाई के बाद ही पता चलेगी।

आखिरी तारीख चूके तो क्या होगा?

हर साल सरकार आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख बढ़ा देती है, जिसके चलते लोग हमेशा लेट-लतीफी करते हैं। अगर इस बार आखिरी तारीख नहीं बढ़ी तो जो लोग चूकेंगे उन पर फाइन पड़ेगा। यानी अगर आप चूकते हैं तो भी आपके पास 31 दिसंबर तक जुर्माने के साथ आईटीआर भरने का समय होगा। अगर आपकी इनकम 5 लाख से कम है तो आपको 1000 रुपये का जुर्माना देना होगा, जबकि अगर आपकी इनकम 5 लाख रुपये से अधिक है तो आपको 5000 रुपये तक का जुर्माना चुकाना होगा। हालांकि, अगर आपकी इनकम 2.5 लाख रुपये से भी कम है तो आप पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा।

...तो बढ़ सकती है आखिरी तारीख

अभी की स्थिति में एक बात तो साफ है कि आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख नहीं बढ़ाई जाएगी। हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि आयकर विभाग की वेबसाइट कोई दिक्कत ना करे। अगर आईटीआर फाइल करते वक्त वेबसाइट में दिक्कतें आईं या वेबसाइट डाउन हुई या फिर किसी वजह से क्रैश हो गई तो आखिरी तारीख बढ़ाना सरकार के लिए जरूर हो जाएगा।