ITI के छात्रों के डिजिटल स्किल डेवेलपमेंट के लिए जेपी मॉर्गन, सिस्को, क्वेस्ट अलायंस ने मिलाये सरकार से हाथ

By Prerna Bhardwaj
September 13, 2022, Updated on : Tue Sep 13 2022 12:11:31 GMT+0000
ITI के छात्रों के डिजिटल स्किल डेवेलपमेंट के लिए जेपी मॉर्गन, सिस्को, क्वेस्ट अलायंस ने मिलाये सरकार से हाथ
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

तेजी से बदलती दुनिया के साथ तालमेल बिठाने में युवा लोगों को सक्षम बनाने और उन्हें कौशल योग्य बनाने की आवश्यकता समझते हुए कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय ने क्वेस्ट एलायंस, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी)और मंत्रालय ने योग्यता कौशल पर एक नया पाठ्यक्रम लॉन्च किया है. इस पहल को फ्यूचर राइट स्किल्स नेटवर्क द्वारा समर्थित किया जा रहा है, जो क्वेस्ट एलायंस, एक्सेंचर, सिस्को और जेपी मॉर्गन द्वारा एक सामूहिक प्रयास है.

फ्यूचर राइट स्किल्स नेटवर्क:

भारत के युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करने के उद्देश्य से एक व्यापक मिशन के साथ एक्सेंचर, सिस्को और जेपी मॉर्गन द्वारा यह एक सामूहिक प्रयास है. फ्यूचर राइट स्किल्स नेटवर्क एक ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के लिए नियोजनीयता कौशल के साथ तकनीकी और व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थानों में युवाओं को सशक्त बनाने के लक्ष्य से काम करता है. फ्यूचर राइट स्किल्स नेटवर्क कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के तहत प्रशिक्षण महानिदेशालय के साथ साझेदारी में नागरिक समाज के संगठनों और राज्य सरकारों द्वारा समर्थित है.

क्वेस्ट एलायंस:

क्वेस्ट एलायंस एक गैर-लाभकारी ट्रस्ट है,जो 21वीं सदी के युवाओं को शिक्षण के क्रम में सक्षम करके कौशल से लैस करता है. इसके लिए आवश्यक शिक्षण के नेटवर्क और सहयोग की सुविधा प्रदान करना और शिक्षकों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण के लिए कमियों को दूर करने में सक्षम बनाना शामिल है.

उद्देश्य:

कोविड महामारी के बाद देश भर में करियर अवसर के लिए युवाओं को तैयार करना, सीखने की मानसिकता का निर्माण और विकास, और नए करियर के बारे में युवाओं में जागरूकता विकसित करना इस पाठ्यक्रम के तीन प्रमुख लक्ष्य हैं. प्रशिक्षण की कमियों का समाधान करना और युवाओं को काम के भविष्य को नेविगेट करने में मदद करना और साथ ही उनकी नियोजनीयता में सुधार करना इस पाठ्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य है. डिजिटलीकरण उत्पादन, मैनुफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर में तेजी से नए कौशल की आवश्यकता को तेजी से बढ़ रही है, इसलिए उम्मीदवारों के लिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि वे लगातार विकसित हो रही प्रौद्योगिकी और व्यावसायिक परिदृश्य के साथ अपने आप को लैश रखें. नया पाठ्यक्रम शिक्षार्थियों को इन सारे कौशल को उन्नत करने और शिक्षा की मिश्रित शिक्षण मॉडल से परिचित कराने में भी मदद करेगा. कुछ मॉड्यूल में नियोजनीयता कौशल, डिजिटल कौशल, नागरिकता, विविधता और समावेशन, करियर विकास और लक्ष्य निर्धारण, काम और उद्यमिता के पाठ्यक्रम भी शामिल किये गए हैं.


यह पाठ्यक्रम के लंबी अवधि और अल्पकालिक दोनों वेरिएंट लॉन्च किए जा रहे हैं. 30, 60 और 90 घंटे की अवधि तीन तरह के पाठ्यक्रम उपलब्ध किये जायेंगे.


15,600 से अधिक सरकारी और निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) के 2.5 मिलियन से अधिक छात्र को इस कार्यक्रम से लाभ मिलाने की उम्मीद की जा रही है.


इस पहल में प्रशिक्षकों को एक सहायक गाइडलाइंस भी प्रदान की जाएगी ताकि वे मिश्रित शिक्षण मॉड्यूल का उपयोग करके संशोधित पाठ्यक्रम को पढ़ा सकें. शिक्षार्थियों के लिए वर्कबुक का एक डिजिटल संस्करण भारत कौशल पोर्टल और रोजगार कौशल पोर्टल पर उपलब्ध होगा.