सवा दो साल में 41% महंगा हुआ सिलेंडर, ग्लोबल मार्केट में दाम 3 गुना चढ़े, तो क्या फिर बढ़ेगी LPG की कीमत?

By Anuj Maurya
August 11, 2022, Updated on : Thu Aug 11 2022 08:12:37 GMT+0000
सवा दो साल में 41% महंगा हुआ सिलेंडर, ग्लोबल मार्केट में दाम 3 गुना चढ़े, तो क्या फिर बढ़ेगी LPG की कीमत?
अप्रैल 2020 से अब तक भारत में एलपीजी के दाम सिर्फ 41 फीसदी बढ़े हैं. वहीं अगर ग्लोबल मार्केट में देखें तो एलपीजी करीब 203 फीसदी महंगी हो गई है. क्या ये भारत में गैस और महंगी होने का एक संकेत है?
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पिछले कुछ महीनों में रसोई गैस (LPG Gas) की कीमतें बहुत तेजी से बढ़ी हैं. मौजूदा समय में दिल्ली में 14.2 किलो वाले घरेलू एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) की कीमत 1053 रुपये हो चुकी है. अगर अप्रैल 2020 से लेकर अब तक देखा जाए तो एलपीजी गैस सिलेंडर करीब 41 फीसदी तक महंगा (LPG Price Rise) हो चुका है. भले ही आपको ये कीमत जानकर हैरानी हो रही हो, लेकिन ग्लोबल मार्केट की तुलना में ये बढ़ोतरी बेहद कम है. ग्लोबल मार्केट में तो दाम 3 गुने तक बढ़ चुके हैं.

ग्लोबल मार्केट में कितने रुपये महंगी हुई एलपीजी

सरकार की तरफ से राज्यसभा में दी गई एक जानकारी के अनुसार अप्रैल 2020 से जुलाई 2022 तक यानी करीब सवा दो साल में ग्लोबल मार्केट में कीमत 236 डॉलर प्रति टन से बढ़कर 725 डॉलर प्रति टन हो गई है. यह दिखाता है कि ग्लोबल मार्केट में एलपीजी की कीमत 203 फीसदी बढ़ चुकी है. वहीं भारत में घरेलू गैस सिलेंडर (14.2 किलो) की कीमत अप्रैल 2020 से अब तक 309 रुपये बढ़ी है. यह दाम 744 रुपये प्रति सिलेंडर से बढ़कर 1053 रुपये हो गया है.

भारत में अभी भी इन 6 देशों से सस्ता है गैस सिलेंडर

हरदीप सिंह पुरी ने कुछ ही दिन पहले एक ट्वीट करते हुए बताया था कि भारत में गैस सिलेंडर कितने रुपये का मिल रहा है. इससे साफ होता है कि भारत में अभी भी गैस सिलेंडर 6 देशों से सस्ता है. उनके अनुसार पड़ोसी देश पाकिस्तान में सिलेंडर 1113.73 रुपये, श्रीलंका में सिलेंडर 1243.32 रुपये और नेपाल में गैस सिलेंडर 1139.93 रुपये में मिल रहा है. इतना ही नहीं, ऑस्ट्रेलिया में गैस सिलेंडर 1764.67 रुपये, अमेरिका में 1754.67 रुपये और कनाडा में 2411.20 रुपये है.

मोदी सरकार के कार्यकाल में कितना महंगा हुआ सिलेंडर

इंडिनय ऑयल के पिछले कुछ महीनों या कहें साल भर के आंकड़े दिखाते हैं कि गैस सिलेंडर के दाम तेजी से बढ़े हैं. वहीं अगर आप 2014 से यानी जब से मोदी सरकार सत्ता में आई, तब से आंकड़े देखेंगे तो पता चलेगा कि दाम में अधिक बढ़ोतरी नहीं हुई है. आज सिलेंडर 1053 रुपये का है, जबकि मई 2014 में गैस सिलेंडर 928.5 रुपये का था. तो क्या पिछले करीब 8 सालों में गैस सिलेंडर सिर्फ 124.5 रुपये महंगा हुआ है?

सब्सिडी... जो कम होते-होते खत्म हो गई

करीब 3 साल पहले जब आप एक गैस सिलेंडर खरीदते थे तो आपको उस पर करीब 400 रुपये की तो सब्सिडी ही मिलती थी. यह सब्सिडी धीरे-धीरे कम होती गई और एक दिन खत्म हो गई. पिछले साल सितंबर के दौरान तो खुद पेट्रोलियम मंत्रालय ने एक ट्वीट कर के कहा था कि मई 2020 से सब्सिडी वाले और बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमत में कोई अंतर नहीं रह गया है, इसलिए ग्राहकों को सब्सिडी नहीं दी जा रही. ऑयल सेक्रेटरी पंकज जैन भी एक न्यूज ब्रीफिंग में कह चुके हैं कि जून 2020 से गैस सिलेंडर पर सब्सिडी देना बंद कर दिया गया है. यानी 8 सालों में गैस सिलेंडर सिर्फ 124.5 रुपये महंगा नहीं हुआ है, बल्कि 400 रुपये से भी अधिक की सब्सिडी खत्म हुई और इसे भी गैस के दाम बढ़ने जैसा ही माना जाना चाहिए.