मध्यप्रदेश सरकार ने मध्यप्रदेश फिल्म पर्यटन नीति-2020 को दी मंजूरी, फिल्म जगत को मिले कई तोहफे

By भाषा पीटीआई
February 20, 2020, Updated on : Thu Feb 20 2020 08:01:31 GMT+0000
मध्यप्रदेश सरकार ने मध्यप्रदेश फिल्म पर्यटन नीति-2020 को दी मंजूरी, फिल्म जगत को मिले कई तोहफे
इस नीति में फिल्म उद्योग को कई तोहफे देते हुए मध्यप्रदेश को फिल्म निर्माताओं के लिए प्रमुख आकर्षण बनाना एवं निजी निवेश को प्रोत्साहित करना शामिल है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भोपाल, मध्यप्रदेश सरकार ने बुधवार को मध्यप्रदेश फिल्म पर्यटन नीति-2020 मंजूर करते हुए इसमें फिल्म जगत के लिए कई तोहफे दिऐ हैं।


k

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (फोटो क्रेडिट: Livemint)



मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग की विज्ञप्ति के अनुसार,

‘‘मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में मंत्रालय में आज हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में मध्यप्रदेश फिल्म पर्यटन नीति-2020 का अनुमोदन किया गया।’’


इस नीति में फिल्म उद्योग को कई तोहफे देते हुए मध्यप्रदेश को फिल्म निर्माताओं के लिए प्रमुख आकर्षण बनाना एवं निजी निवेश को प्रोत्साहित करना शामिल है।


इसके अलावा, इस राज्य में फिल्म शूटिंग के माध्यम से कौशल विकास और रोजगार सृजन, फीचर फिल्म, टी.वी. सीरियल/ शो/वेब ‍सीरीज/शो/डाक्यूमेंट्री की शूटिंग के लिये वित्तीय अनुदान के माध्यम से मध्यप्रदेश में शूटिंग को प्रोत्साहन शामिल है।


इस नीति के तहत मध्यप्रदेश के स्थानों के प्रचार-प्रसार के लिये अधिक स्क्रीन टाइम के लिये विशेष अनुदान, अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म निर्माताओं और दक्षिण भारतीय फिल्म निर्माताओं के लिये विशेष वित्तीय प्रोत्साहन, स्थायी प्रकृति के बुनियादी ढांचे के निर्माण पर वित्तीय प्रोत्साहन/अनुदान/ भूमि आवंटन, फिल्म निर्माताओं के लिये समय सीमा में अनुमति की सुविधा और सहायता देना एवं रियायती दरों पर एमपीएसटीडीसी की ईकाइयों में सेवाएँ उपलब्ध कराई जाएंगी।


इसके अतिरिक्त फिल्म नीति क्रियान्वयन के लिये विशेष समर्पित फिल्म फेसिलिटेशन सेल का निर्माण, सिंगल विन्डो सिस्टम के माध्यम से फिल्मांकन अनुमति के लिये संबंधित विभागों से आवश्यक समन्वय स्थापित करना, फिल्म सिटी, फिल्म स्टूडियो, कौशल विकास केन्द्र आदि के लिये राज्य में फिल्म उद्योग को प्रोत्साहन, फिल्म से संबंधित विभिन्न आयोजनों में सहभागिता से लेकर प्रदेश का प्रचार-प्रसार करना भी शामिल है।