देश के सबसे उम्रदराज अरबपति और आनंद महिंद्रा के चाचा केशब महिंद्रा का 99 साल की उम्र में निधन

हाल ही में केशब महिंद्रा को दौलत आंकने वाली पत्रिका फोर्ब्स ने 2023 की सूची में शामिल किया था. फोर्ब्स ने बताया था कि वह सबसे उम्रदराज भारतीय अरबपति हैं. 99 वर्षीय केशब महिंद्रा की संपत्ति 1.2 बिलियन डॉलर आंकी गई थी. उनका नाम 16 नए अरबपतियों के साथ इस लिस्ट में पहली बार शामिल हुआ था.

देश के सबसे उम्रदराज अरबपति और आनंद महिंद्रा के चाचा केशब महिंद्रा का 99 साल की उम्र में निधन

Wednesday April 12, 2023,

3 min Read

महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) के पूर्व चेयरमैन केशब महिंद्रा (Keshub Mahindra) का 99 साल की उम्र में निधन हो गया है. INSPACe के अध्यक्ष पवन के गोयनका ने अपने ट्विटर हैंडल पर इसकी जानकारी दी है. अपने ट्वीट में पवन गोयनका ने बताया कि बिजनेस जगत ने आज अपने सबसे महान व्यक्तित्व में से एक केशब महिंद्रा को खो दिया है. उनसे मुलाकात करना हमेशा शानदार रहता था. वह हमेशा बिजनेस, इकोनॉमिक्स और सोशल चीजों को शानदार तरीके से जोड़ने की प्रतिभा रखते थे.

9 अक्टूबर 1923 को शिमला में जन्‍मे केशब महिंद्रा ने पेन्सिलवेनिया यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन करने के बाद साल 1947 में ही महिंद्रा ग्रुप के साथ जुड़ गए. इसके बाद साल 1963 में वह इस ग्रुप के चेयरमैन बन गए. उनके नेतृत्व में महिंद्रा ग्रुप ने नई ऊंचाईयों को छुआ और फिर साल 2012 में 48 सालों की सेवा के बाद उन्होंने महिंद्रा चेयरमैन के पद को अपने भतीजे आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) को सौंप दिया.

हाल ही में केशब महिंद्रा को दौलत आंकने वाली पत्रिका फोर्ब्स ने 2023 की सूची में शामिल किया था. फोर्ब्स ने बताया था कि वह सबसे उम्रदराज भारतीय अरबपति हैं. 99 वर्षीय केशब महिंद्रा की संपत्ति 1.2 बिलियन डॉलर आंकी गई थी. उनका नाम 16 नए अरबपतियों के साथ इस लिस्ट में पहली बार शामिल हुआ था. उन्होंने 48 सालों तक महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन रहने के बाद साल 2012 में पद को छोड़ दिया था. उन्होंने टाटा स्टील, सेल, टाटा केमिकल्स, इंडियन होटल्स जैसी कई कंपनियों में बोर्ड के स्तर पर भी काम किया.

साल 2004 से 2010 के बीच वह प्रधानमंत्री के काउंसिल ऑन ट्रेड एंड इंडस्ट्री के सदस्य भी रहे. वे ASSOCHAM की सर्वोच्च सलाहकार परिषद के सदस्य भी रहे.

अपने लगभग 5 दशक के लंबे कार्यकाल में केशब महिंद्रा ने महिंद्रा ग्रुप को न सिर्फ देश बल्कि पूरी दुनिया में एक बड़ी कंपनी के रूप स्थापित किया. उन्होंने कंपनी को कामकाज और माल ढुलाई के लिए वाहन निर्माण के क्षेत्र में बड़ा प्लेयर बनाने में अहम भूमिका निभाई. आज के समय में महिंद्रा एंड महिंद्रा को अपने ट्रैक्टरों, एसयूवी केस साथ ही हॉस्पिटैलिटी, रियल एस्टेट और सॉफ्टवेयर सेक्टर में सर्विसेज के लिए भी जाना जाता है. बिजनेस जगत में अपने योगदान के लिए साल 1987 में फ्रांस की सरकार द्वारा उन्हें सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया गया है. इसके अलावा केशब महिंद्रा को साल 2007 में अर्न्स्ट एंड यंग द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड दिया गया था.

यह भी पढ़ें
सीरियल आंत्रप्रेन्योर, ऑर्गन डोनर और वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में रिकॉर्ड बनाने वाली अंकिता श्रीवास्तव से मिलिए