शिक्षा को व्यवसाय बनाना हमारे सामाजिक उद्देश्य के प्रतिकूल: उपराष्ट्रपति ने चेताया

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को किसी भी समाज को बेहतर बनाने वाला सबसे प्रभावशाली परिवर्तनकारी तंत्र बताते हुए, उपराष्ट्रपति ने ‘अपनी बुद्धि और विदेशी मुद्रा को देश से बाहर बर्बाद करने’ के प्रति आगाह किया.

शिक्षा को व्यवसाय बनाना हमारे सामाजिक उद्देश्य के प्रतिकूल: उपराष्ट्रपति ने चेताया

Tuesday October 31, 2023,

3 min Read

भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने सोमवार को शिक्षा को राष्ट्र की सेवा के रूप में लेने की आवश्यकता पर जोर दिया और सभी से आग्रह किया कि ‘आप राष्ट्र से जो भी लें उसे वापस लौटा दें.’ उन्होंने कहा, ‘वाणिज्य और व्यवसाय बनाने के उद्देश्य से शिक्षा का उपयोग करना सामाजिक कारणों और हमारी सभ्यता की उत्कृष्टता, सद्गुणों के विपरीत है.’

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को किसी भी समाज को बेहतर बनाने वाला सबसे प्रभावशाली परिवर्तनकारी तंत्र बताते हुए, उपराष्ट्रपति ने ‘अपनी बुद्धि और विदेशी मुद्रा को देश से बाहर बर्बाद करने’ के प्रति आगाह किया.

सोमवार को गुवाहाटी में रॉयल असम ग्लोबल यूनिवर्सिटी के तीसरे दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए, उपराष्ट्रपति ने दीक्षांत समारोह को ‘आपके शिक्षकों द्वारा दिए गए प्रशिक्षण का पुरस्कार, परिवार की आशाओं और आकांक्षाओं का फल’ बताया. उन्होंने छात्रों को सलाह दी कि वे ऐसी गतिविधियों में शामिल होने से बचें जो उनके शिक्षकों और माता-पिता को बदनाम कर सकती हैं.

राष्ट्रीय शिक्षा नीति की प्रशंसा करते हुए, उपराष्ट्रपति ने रेखांकित किया कि इस नीति के कार्यान्वयन द्वारा छात्रों को एक साथ कई पाठ्यक्रम करने की अनुमति देकर ज्ञान और कौशल का एकीकरण हुआ है.

2019 में एक असफल प्रयास के बाद, चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-3 की हाल ही में सफल लैंडिंग की सराहना करते हुए, उपराष्ट्रपति ने रेखांकित किया कि ‘विफलता सफलता के लिए एक आवश्यक कदम है.‘ एक उदाहरण देते हुए, उन्होंने विफलता की तुलना पानी के गिलास से की जिसे आधा भरा या आधा खाली देखा जा सकता है.

उपराष्ट्रपति ने दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के फलने-फूलने में पूर्व छात्रों के योगदान और संरक्षण द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका को भी रेखांकित किया. इसके अतिरिक्त, उन्होंने छात्रों से अपने संस्थान के साथ स्थायी संबंध स्थापित करने और शिक्षा की बेहतरी के लिए इसके संसाधनों में लगातार योगदान देने का आग्रह किया.

राजकोषीय सामर्थ्य के बजाय आवश्यकता के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग करने की आवश्यकता पर जोर देते हुए, श्री धनखड़ ने इन संसाधनों के अधिकतम उपयोग का आह्वान किया.

उपाधियाँ और पदक प्रदान करते समय, उपराष्ट्रपति ने प्रसन्नता व्यक्त की कि ‘उनमें से दो-तिहाई से अधिक लड़कियाँ थीं.’ उन्होंने इसे राष्ट्र की ‘बदलती प्रोफ़ाइल’ का प्रतिबिंब बताया. धनखड़ ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि संसद में महिला आरक्षण विधेयक का पारित होना ग्रह पर सबसे बड़े लोकतंत्र के लिए एक ऐतिहासिक कदम था.

अपने एक दिवसीय दौरे के दौरान, उपराष्ट्रपति ने पहले गुवाहाटी में कॉटन विश्वविद्यालय का दौरा किया और छात्रों और संकाय सदस्यों के साथ बातचीत की.