कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच मुंबई में गरीब बच्चों के मुफ्त में बाल काट रहा है ये शख्स

By yourstory हिन्दी
June 11, 2020, Updated on : Thu Jun 11 2020 12:31:30 GMT+0000
कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच मुंबई में गरीब बच्चों के मुफ्त में बाल काट रहा है ये शख्स
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पूरे भारत में नाई समुदाय को कोरोनोवायरस महामारी के कारण इस दौरान बड़ा झटका मिला है, हालांकि बिरारी ने अपने तरीके से समाज में योगदान करने के लिए एक कदम उठाया है।

रवींद्र बिरारी मुंबई में एक बच्चे के बाल काटते हुए। (चित्र: ANI)

रवींद्र बिरारी मुंबई में एक बच्चे के बाल काटते हुए। (चित्र: ANI)



लॉकडाउन की घोषणा के बाद से भी नाई की दुकान बंद होने से बड़े पैमाने पर लोगों को असुविधा हो रही है। इस दौरान कई लोगों ने अपने बालों की छंटनी करने के लिए परिवार के सदस्यों और दोस्तों से मदद लेनी शुरू कर दी।


भारत सरकार के द्वारा सैलून को कुछ स्थानों पर संचालित करने की अनुमति देने के बावजूद, कई दुकान मालिकों को महामारी के लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) और सुरक्षा प्रोटोकॉल को लागू करना मुश्किल हो रहा है।


इस सब के बीच महाराष्ट्र के ठाणे जिले के टिटवाला के एक नाई रविन्द्र बिरारी, सप्ताह में एक बार जरूरतमंद बच्चों को मुफ्त में बाल कटाने का काम करते हैं। वह उन बच्चों के बालों को ट्रिम करते हैं जो इसके लिए पैसे नहीं दे सकते।


बिरारी ने एएनआई को बताया,

“यह लॉकडाउन दो महीने से अधिक समय से लागू है और इस दौरान सभी सैलून बंद हैं। सड़क पर रहने वाले गरीब बच्चे अपने बाल कटवाने के लिए कहीं नहीं जा सकते हैं, इसलिए मैं उन्हें मुफ्त में बाल कटवा रहा हूं।"

कई अन्य नाइयों की तरह बिरारी को भी मुंबई में कोरोना मामलों की अधिक संख्या के कारण भांडुप में अपना सैलून बंद करना पड़ा। हालांकि वह अपने जीवन को वंचितों को समर्पित करने में संकोच नहीं करते हैं।


पूरे भारत में नाई समुदाय को कोरोनोवायरस महामारी के कारण इस दौरान बड़ा झटका मिला है, हालांकि बिरारी ने अपने तरीके से समाज में योगदान करने के लिए एक कदम उठाया है।


10 जून तक भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 94 हज़ार से अधिक मामले पाये जा चुके हैं, जिनमें 52 हज़ार मामले सिर्फ मुंबई से हैं।