मिलें भारत की पहली पेशेवर महिला पोलो खिलाड़ी, शू डिजाइनर, बिजनेसविमन और DJ रीना शाह से

By Sindhu Kashyaap|8th Apr 2021
एक शू डिजाइनर, एक बिजनेस की मालिक और डीजे, रीना शाह भारत की पहली महिला पोलो खिलाड़ी भी हैं। वह मानती है कि एक बार जब आप अपने जुनून और पैसे की खोज कर लेते हैं तो सफलता पीछे-पीछे आती है।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

2010 में रीना शाह को मुंबई में एक मैच देखने के बाद पोलो से प्यार हो गया। वह सरपट दौड़ते घोड़ों से अपनी आँखें नहीं हटा पा रही थीं और सोच रही थीं कि केवल पुरुष ही इस खेल को क्यों खेल सकते हैं। और फिर 38 साल की उम्र में, रीना ने पेशेवर रूप से पोलो को चुनने का फैसला किया। यह कोई ऐसा प्रोफेशन नहीं था जिसे महिलाओं के लिए जाना जाता था। इस स्पोर्ट में उनकी एंट्री कोई पहले से प्लान नहीं थी। दिलचस्प बात यह है कि रीना ने पहले से ही अपने प्रीमियम फुटवियर ब्रांड रिनाल्डी डिजाइन (Rinaldi Designs) की स्थापना की थी, जिसमें नाओमी कैंपबेल, नताली पोर्टमैन, गोल्डी हॉवन, रेखा, शिल्पा शेट्टी और करीना कपूर खान सहित कुछ नामी ग्राहक शामिल हैं। रीना ने डीजे स्कूल ऑफ एम्स्टर्डम में खुद को टॉप 10 डीजे के रूप में भी स्थापित और प्रमाणित किया है।


अपनी पोलो यात्रा के बारे में बात करते हुए रीना कहती हैं,

“मैं हमेशा एक कठिन खेल खेलना चाहती थी लेकिन पोलो के बारे में कभी नहीं सोचा। घोड़ों ने मेरा दिली जीत लिया। उस समय यह कुछ ऐसा था जिसे भारत में एक महिला नहीं कर रही थी। मैं कभी घोड़े पर नहीं बैठी थी, इसलिए मुझे पोलो के लिए घुड़सवारी सीखने में लगभग एक साल लगा, जो सामान्य घुड़सवारी से बहुत अलग है। मुझे पता था कि भारत में कोई पोलो स्कूल नहीं हैं, इसलिए मुझे एक महीने के लिए अर्जेंटीना जाना था, और फिर सैंटा बारबरा और इंग्लैंड।"


तब तक, वह भारत में सक्रिय रूप से पोलो खेलने वाली एकमात्र महिला बन गई थीं। यहां तक कि रीना ने एक पोलो स्कूल भी स्थापित किया है। रिनाल्डी पोला, आज उनकी पोलो टीम में समीर सुहाग, चिराग पारेख, गौरव सेगल और महामहिम महाराजा पद्मनाभ सिंह जैसे दिग्गज खिलाड़ी हैं।

g

कभी हार नहीं मानने वाली

घुड़सवारी के खेल में शामिल होने वाली पहली महिलाओं में से एक होने के नाते, रीना कहती हैं, भले ही उन्हें किसी स्पष्ट पूर्वाग्रह का सामना नहीं करना पड़ा, लेकिन यह स्पेस पुरुष-प्रधान था और चुनौतियों का अपना सेट था।


वे कहती हैं,

"शुरू में, लोगों ने मुझे गंभीरता से नहीं लिया और मेरा मजाक उड़ाया, और मुझे भी शक था कि मैं इस खेल में सर्वाइव कर भी पाऊंगी। उन्होंने सोचा कि मैं कई चोटें खाने के बाद इसे छोड़ दूंगी और फिर कभी नहीं लौटूंगी। लेकिन मैं कभी हार नहीं मानने वाली थी। अभी, विशेष रूप से भारत में, यह केवल पुरुष-प्रधान है, लेकिन मैं कई महिलाओं प्रेरित करने की कोशिश करती हूं और आशा करती हूं कि हमारे यहां कई और महिलाएं इस राजसी खेल को खेलेंगी। 2019 में, मैंने विभिन्न देशों की महिलाओं को मुंबई में एक केवल-महिला स्पोर्ट खेलने के लिए आमंत्रित किया।”


पोलो सीखने के लिए प्रेरित करने वाले सुरेशजी के साथ मुंबई के एमेच्योर राइडर्स क्लब में अपने राइडिंग लेसन के दौरान, उन्हें अपने घोड़े से गिरने और हंसी-मजाक करने वाले लोग याद आते हैं। लेकिन उनके लिए लोगों का हँसना कोई बड़ी समस्या नहीं थी। वह पहले से ही अन्य शू डिजाइनर्स और बिजनेसेस से कई चुनौतियों का सामना कर चुकी थीं, जब उन्होंने पहली बार रिनाल्डी डिजाइन शुरू किया था।


वे कहती हैं,

"कई लोगों ने सोचा कि मेरा इस उम्र में पोलो खेलना शुरू करना बेवकूफी था लेकिन मैं निराश नहीं हुई। मुझे पता था कि मैं हार नहीं मानना चाहती। मैंने अपना पहला छोटा टूर्नामेंट खेला जिसने मुझे विश्वास दिया कि कुछ भी असंभव नहीं है।"

f

सफलता का मीठा दर्द

इसके तुरंत बाद, रीना विशाल सिंह के साथ प्रशिक्षण लेने के लिए जयपुर चली गईं। चूंकि रीना को रिनाल्डी डिजाइन भी चलाना था, इसलिए वह पूरे सप्ताह मुंबई में काम करती थीं और खेलने और प्रशिक्षण के लिए वीकेंड में जयपुर आती थी।


वे कहती हैं,

"वह टाइम काफी हेक्टिक था क्योंकि मुझे कम नींद मिलती थी और शरीर में दर्द के साथ काम करना था। लेकिन यह मीठा दर्द था क्योंकि मैं 40 की उम्र में कुछ अलग कर रही थी। अपनी टीम को लॉन्च करने के तुरंत बाद, मैंने मुंबई में अपना पहला बड़ा चार-गोल का टूर्नामेंट खेला, जिसमें मेरा घोड़ा और मुझे जोर की पटक लगी, लेकिन मैं गेम खत्म होने के 2 मिनट पहले घोड़े पर वापस आ गई और गेम जीता।”


यह वह क्षण था जब उन्होंने महसूस किया कि वह खेल की कितनी दीवानी थीं। गिरने से फ्रैक्चर और गंभीर पीठ दर्द हुआ, जिसे ठीक होने में कई महीने लग गए। लेकिन, एक बार जब वह घोड़े पर वापस आईं, तो वह एक महीने की ट्रेनिंग के लिए इंग्लैंड चली गईं।


रीना कहती हैं,

"मैं अपनी लाइफ में काफी देर से इस गेम में आई और युवा खिलाड़ियों के साथ खेल रही थी जिन्होंने अपने पूरे जीवन ट्रेनिंग की थी, इसलिए मुझे काफी संघर्ष करना पड़ा। मैंने जयपुर, जोधपुर, अमेरिका, दिल्ली, बैंकॉक, पटाया, दक्षिण अफ्रीका, आदि में खेला, मैं अभी भी राइडिंग और कोचिंग पर काम कर रही हूं क्योंकि पोलो को कभी भी उत्कृष्ट नहीं बनाया जा सकता है; आपको इसे जारी रखना होगा।"


रीना कहती हैं कि वे भले ही कभी भी शीर्ष पोलो खिलाड़ी नहीं बन सकती हैं, लेकिन 46 साल की उम्र में, एक पुरुषों के खेल खेलने में सक्षम होने के साथ-साथ उन खिलाड़ियों के साथ खेल रही हैं जो 18-35 हैं इसलिए उन्हें इस बात पर गर्व है कि उन्होंने क्या हासिल किया।


वे कहती हैं,

“मैं यह खेल खेलने वाली बहुत कम महिलाओं में से एक हूं। मैंने साबित कर दिया है कि कोई भी अपना दिमाग जहां लगाता है उसे हासिल कर सकता है और उम्र कभी बाधा नहीं बनती है।"

सपना जारी है

इस साल, रीना इबिजा में जाने और बीच पोलो खेलने का लक्ष्य बना रही है और अगले साल वह सेंट मोरित्ज में जाकर स्नो पोलो खेलना चाहती हैं। वह एक और फैशन ब्रांड शुरू करने की योजना बना रही है, जो प्रारंभिक चरणों में है।


फिर, वह अपना खुद का टेक्नो ड्रम शुरू करना चाहती हैं। युवा लड़कियों के लिए, वह कहती है, "हमेशा बड़ा सपना देखें लेकिन इसे ईमानदारी, कड़ी मेहनत और दूसरों के प्रति दया की भावना रखते हुए हासिल करें।" वह कहती हैं कि जीवन में कुछ भी हासिल करने के लिए, आपको कड़ी मेहनत करनी होगी और पूरे दिल से इसे चाहना होगा।


“कोई शॉर्टकट नहीं है! मैंने जीवन में जो कुछ भी किया है वह कड़ी मेहनत के साथ, कई चीजों का त्याग करके, इसे अपना जीवन लक्ष्य बनानाकर हासिल हुआ है। तो, पहले, अपने जुनून और पैसे की खोज करें और सफलता अपने आप आएगी।”


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close