आइजोल में जुटे 300 से अधिक SC-ST उद्यमी, MSME मंत्रालय का था विशाल सम्मेलन

By yourstory हिन्दी
October 18, 2022, Updated on : Tue Oct 18 2022 07:43:13 GMT+0000
आइजोल में जुटे 300 से अधिक SC-ST उद्यमी, MSME मंत्रालय का था विशाल सम्मेलन
इससे पहले एमएसएमई मंत्रालय ने SC-ST एंटरप्रेन्योर्स के लिए ऐसा ही एक कॉन्क्लेव 28 सितंबर 2022 को अहमदाबाद में आयोजित किया था.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME) ने 15 अक्टूबर, 2022 को मिजोरम के आइजोल में राष्ट्रीय एससी-एसटी हब (एनएसएसएच) कॉन्क्लेव का आयोजन किया. यह आयोजन आइजोल के दावरपुई बहुउद्देशीय केंद्र में किया गया. कॉन्क्लेव का उद्देश्य उद्यमिता संस्कृति को बढ़ावा देना और एनएसएसएच योजना व मंत्रालय की अन्य योजनाओं के बारे में जागरूकता फैलाना है.


मिजोरम सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, उच्चतर और तकनीकी शिक्षा, वाणिज्य व उद्योग मंत्री डॉ. आर. ललथंगलियाना इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे. इसके अलावा अन्य गणमान्य लोगों के साथ मिजोरम सरकार के वाणिज्य और उद्योग विभाग की प्रधान सचिव एस्तेर लालरूआत्किमी भी उपस्थित थीं. इस आयोजन में 300 से अधिक एससी-एसटी उद्यमियों ने हिस्सा लिया. इससे पहले एमएसएमई मंत्रालय ने SC-ST एंटरप्रेन्योर्स के लिए ऐसा ही एक कॉन्क्लेव 28 सितंबर 2022 को अहमदाबाद में आयोजित किया था.

उद्यमियों के लिए क्या था कॉन्क्लेव में

इस कार्यक्रम ने इच्छुक और मौजूदा एससी-एसटी उद्यमियों को सीपीएसई, ऋण देने वाली संस्थाओं, जीईएम और आरएसईटी आदि के साथ बातचीत करने के लिए एक मंच प्रदान किया. इसमें भारतीय खाद्य निगम, पावर ग्रिड कॉरपोरेशन लिमिटेड, उत्तर पूर्वी इलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड जैसी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों ने भागीदारी की. इन कंपनियों ने अपनी विक्रेता सूचीकरण प्रक्रिया और खरीदे जाने वाले उत्पादों/सेवाओं के विवरण को प्रस्तुत किया. इस कार्यक्रम में यूको बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, उत्तर पूर्वी विकास वित्त निगम (एनईडीएफआई), जैसे वित्तीय संस्थान भी उपस्थित थे, जिन्होंने एमएसएमई क्षेत्र से संबंधित विभिन्न ऋण योजनाओं के बारे में बताया. अन्य सरकारी संगठनों जैसे जीईएम, आरएसईटीआई आदि ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया और एमएसएमई की सहायता के लिए अपनी विभिन्न योजनाओं को सामने रखा. इस कार्यक्रम में आयोजन स्थल पर ही एससी/एसटी एमएसई प्रतिभागियों के पंजीकरण की सुविधा के लिए उद्यम पंजीकरण और जीईएम की सुविधा डेस्क भी लगाई गई थी.

राष्ट्रीय SC-ST हब योजना का उद्देश्य

एमएसएमई मंत्रालय की संयुक्त सचिव मर्सी एपाओ ने इस मौके पर कहा कि एमएसएमई मंत्रालय ने समावेशी विकास के लिए एससी/एसटी उद्यमियों के लिए एक इकोसिस्टम बनाने और सार्वजनिक खरीद नीति के अनुसार 4 प्रतिशत सार्वजनिक खरीद में उनकी भागीदारी सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय एससी-एसटी हब योजना को लागू किया है. इस कार्यक्रम में एमएसएमई मंत्रालय के सचिव बी. बी. स्वैन ने अपने संबोधन में क्षमता को बढ़ाने व भारत में एमएसएमई व उद्यमिता संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एमएसएमई मंत्रालय के ठोस प्रयासों के बारे में विस्तार से बताया.


वहीं, मुख्य अतिथि डॉ. ललथंगलियाना ने एनएसएसएच योजना के लाभार्थियों का सम्मानित करने के साथ इस कार्यक्रम में उपस्थित इच्छुक उद्यमियों को प्रेरित किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मिजोरम के एससी-एसटी उद्यमियों को एनएसएसएच और एमएसएमई मंत्रालय की विभिन्न अन्य योजनाओं के तहत दिए जाने वाले लाभों से लाभान्वित होते हुए देखकर प्रसन्नता होगी. उन्होंने प्रतिभागियों से इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करने और उन अवसरों के बारे में चर्चा करने का अनुरोध किया, जिनका लाभ उठाया जा सकता है. उन्होंने आगे यह भी कहा कि मिजोरम सरकार को राज्य के एमएसएमई क्षेत्र के विकास को बढ़ाने के लिए भारत सरकार के एमएसएमई मंत्रालय के साथ मिलकर काम करना जरूरी है.



Edited by Ritika Singh