12 साल की उम्र में एक सपना लेकर मुंबई आया, अब 100 करोड़ रुपये के रेवेन्यू वाला शराब कारोबार चलाता है ये शख्स

एक युवा लड़के के रूप में, भीमजी पटेल ने मुंबई में रहने के लिए एक अलग तरह की नौकरी की। उन्होंने एक छोटे से जनरल स्टोर की शुरुआत की, इसे एक सुपरमार्केट में विकसित किया, और बाद में मोनिका एंटरप्राइजेज - एक सफल शराब थोक व्यवसाय शुरू किया। कुछ ऐसी है सेल्फ-मेड उद्यमी की कहानी है।

12 साल की उम्र में एक सपना लेकर मुंबई आया, अब 100 करोड़ रुपये के रेवेन्यू वाला शराब कारोबार चलाता है ये शख्स

Wednesday March 31, 2021,

5 min Read

1981 में, 12 वर्षीय भीमजी पटेल गुजरात के कच्छ में अपने मेघपार गाँव को छोड़ सपनों के शहर मुंबई चले गए। एक अच्छे पाठक और गणित के प्रति उत्साही, भीमजी अपनी प्रतिभा को हलचल वाले शहर में इस्तेमाल करने के लिए दृढ़ संकल्पित थे।


उन्होंने अपने चचेरे भाई के साथ हाथ मिलाया और मुंबई में रहने के लिए नौकरी की। इस विनम्र शुरुआत ने दृढ़ता, कड़ी मेहनत और जुनून की एक स्व-निर्मित कहानी की नींव रखी।


कुछ वर्षों तक खोजबीन करने के बाद, उन्होंने अपने बड़े भाई से लगभग 30,000 रुपये का ऋण लिया और एक जनरल स्टोर शुरू किया। छोटे ही सही, लेकिन आत्मविश्वास से भरे कदमों को आगे बढ़ाते हुए भीमजी ने धीरे-धीरे अपने स्टोर को एक सुपरमार्केट में विस्तारित किया।


उनके बेटे, कुणाल पटेल YourStory को बताते हैं:


“मेरे पिता ने उनके रास्ते में आने वाले सभी अवसरों को भुनाया। उन्हें विदेशों से आए विभिन्न उत्पादों विशेषकर शराब के लिए एक कमीशन एजेंट बनने का मौका मिला। नेटवर्किंग के लिए उनके निरंतर प्रयास ने उन्हें भारत में विदेशी दूतावासों में आयातित शराब की आपूर्ति करने में मदद की।”


आयातित शराब यानी इंपोर्टेड लिकर के लिए कमीशन एजेंट के रूप में भीमजी के दिनों ने उन्हें मूल्यवान अनुभव प्रदान किया और मोनिका एंटरप्राइजेज के लिए एक मंच तैयार किया। मोनिका एंटरप्राइजेज एक थोक और वितरण व्यवसाय है जिसे उन्होंने 2008 में मुंबई में लॉन्च किया था।

कुणाल पटेल, लीड स्ट्रेटैजिस्ट एंड चीफ़ मेवरिक, मोनिका एंटरप्राइजेज

कुणाल पटेल, लीड स्ट्रेटैजिस्ट एंड चीफ़ मेवरिक, मोनिका एंटरप्राइजेज

सफल वितरण मॉडल

तब से, भीमजी और उनके परिवार द्वारा संचालित व्यवसाय ने भारत में प्रीमियम आयातित शराब ब्रांडों को बेचने में एक लंबा सफर तय किया है। बुशमिल्स आयरिश व्हिस्की, जोस क्यूर्वो टकीला, रॉन डिप्लोमैटिको रम, बेलेनकाया वोदका, और रूसी स्टैंडर्ड वोदका कुछ विदेशी शराब ब्रांड हैं जिन्हें भीमजी ने भारत में पेश किया है।


उन्होंने इन ब्रांडों का आयात किया और अपने उत्पादों को देश भर में भागीदारों के माध्यम से वितरित किया। प्रत्येक राज्य को खुदरा शराब के लिए एक युनीक लाइसेंस की आवश्यकता होती है, इसलिए भीमजी ने स्थानीय वितरकों के साथ भागीदारी की।


आज भीमजी एक स्व-निर्मित उद्यमी हैं और उनका व्यवसाय फलफूल रहा है। उनके लिए 125 लोग काम करते हैं।


2013 में व्यवसाय में शामिल हुए कुणाल का दावा करते हैं कि पिछले साल, मोनिका एंटरप्राइजेज ने राजस्व में 100 करोड़ रुपये दर्ज किए। एक प्रमुख रणनीतिकार के रूप में कुणाल मोनिका एंटरप्राइजेज की बोटल्ड इन ओरिजिनल (बीआईओ) शराब के लिए जिम्मेदार थे और साथ ही इसके वेयरहाउसिंग और वितरण नेटवर्क को ऑप्टिमाइज करने के लिए।


वे कहते हैं, “जब मैं शामिल हुआ, तब हम छोटे पैमाने पर विदेशी शराब का आयात कर उन्हें थोक में बेच रहे थे। दूसरी तरफ, मेरे पिता द्वारा बेची गई शराब ब्रांड मोनिका एंटरप्राइजेज के लिए एक्सक्लूसिव नहीं थे। हमारे द्वारा बेचे गए ब्रांड हमारे जैसे ही सैकड़ों अन्य थोक विक्रेताओं और वितरकों के साथ काम कर रहे थे।”


कुणाल ने इसे एक कदम आगे बढ़ाने की सोचकर, विदेशी शराब ब्रांडों के साथ भारत में उनके प्रोडक्ट्स को एक्सक्लूसिवली बेचने के लिए एक्सक्लूसिव पार्टनरशिप की। कंपनी अब भारत में 42 विदेशी ब्रांडों का प्रतिनिधित्व करती है जिनमें स्प्रिट्स और वाइन के लगभग 120 लेबल शामिल हैं।

मोनिका एंटरप्राइजेज द्वारा डिस्ट्रीब्यूट की जाने वाली रशियन स्टैंडर्ड वोडका

मोनिका एंटरप्राइजेज द्वारा डिस्ट्रीब्यूट की जाने वाली रशियन स्टैंडर्ड वोडका

टैक्सेशन को लेकर चुनौती

जैसा कि अपेक्षित था, भीमजी और उनके व्यवसाय के लिए प्राथमिक चुनौती भारत में राज्यों के कराधान (taxation) नियमों के साथ रही है। चूंकि राज्यों में शराब की खुदरा बिक्री के लिए कर कानून अलग-अलग हैं, इसलिए भीमजी को नए राज्यों में जाने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी पड़ी।


कुणाल बताते हैं, “राज्यों के बीच, नियम बदलते हैं, और इसलिए हमें अपनी कैल्कुलेशन बनाए रखनी पड़ता है। नए राज्यों में प्रवेश करने के लिए, पंजीकरण प्रक्रिया भी अपने आप में कठिन हो सकती है। हमें उन सही लोगों को खोजने के लिए जांच-परख पर भरोसा करना था जो स्थानीय राज्य बाजारों को अच्छी तरह से जानते थे और हमें उसमें एंट्री करने में मदद करने के लिए तैयार थे।"


हालांकि, कुणाल का मानना है कि कर कानूनों में एकरूपता की कमी को सकारात्मक रोशनी में देखा जा सकता है।


वे कहते हैं, “कोई वास्तविक एकरूपता नहीं है और यह इस उद्योग में प्रवेश के लिए एक बाधा हो सकती है। इस प्रकार, बाजार में बहुत सारे अन्य प्लेयर्स और प्रतिस्पर्धी नहीं हैं।”


भीमजी और उनके परिवार का व्यवसाय महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तेलंगाना, दिल्ली, हरियाणा, यूपी, असम और मेघालय में प्राथमिक बाजारों में गिना जाता है। महाराष्ट्र और गोवा में, मोनिका एंटरप्राइजेज ने वितरण के लिए अपनी स्वयं की साझेदार कंपनियों की स्थापना की है।

मोनिका एंटरप्राइजेज द्वारा डिस्ट्रीब्यूट की जाने वाली जोस क्यूवरो टकीला

मोनिका एंटरप्राइजेज द्वारा डिस्ट्रीब्यूट की जाने वाली जोस क्यूवरो टकीला

आगे का रास्ता

कभी कुछ बड़ा करने का एक साधारण सा सपना रखने वाले भीमजी के लिए यह केवल शुरुआत है। भारत के बड़े युवा जनसंख्या आधार, डिस्पोजेबल आय में वृद्धि और टियर II और टियर III शहरों के शहरीकरण के कारण भारत में मादक पेय पदार्थों के लिए भारत का बाजार बढ़ रहा है।


इस तरह के विकास कारकों के आधार पर, गोल्डस्टीन रिसर्च के अनुसार, 2016 और 2024 के बीच भारत में अल्कोहल पेय पदार्थों का बाजार 7.4 प्रतिशत के सीएजीआर से बढ़ने और 39.7 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है।


इस बढ़ते बाजार में टैप करने के लिए, भीमजी के अगले कदमों में स्कॉच और वाइन का अपना लेबल लॉन्च करना शामिल है। हालांकि, वह सीधे मैन्युफैक्चरिंग में नहीं आएंगे।


कुणाल बताते हैं कि उनके पिता भारत में नए ब्रांड लॉन्च करने के लिए मौजूदा स्कॉच और वाइनमेकर्स के साथ साझेदारी करेंगे।