ये है 130000% का रिटर्न देने वाला शेयर, 10 हजार बन गए 1.30 करोड़, जानिए कितने दिन में हुआ ऐसा

गुजरात की सिंथेटिक मैन्युफैक्चरिंग कंपनी ज्योति रेजिन एडहेसिव्स ने निवेशकों को तगड़ा रिटर्न दिया है. 15 साल में इस कंपनी ने 1.30 लाख फीसदी का रिटर्न दिया है. जिसने मार्च 2008 में 10 हजार रुपये लगाए होंगे, उसके पैसे आज 1.30 करोड़ से ज्यादा हो गए हैं.

ये है 130000% का रिटर्न देने वाला शेयर, 10 हजार बन गए 1.30 करोड़, जानिए कितने दिन में हुआ ऐसा

Wednesday March 22, 2023,

3 min Read

पिछले कुछ हफ्तों में शेयर बाजार (Share Market) में भारी गिरावट देखी जा रही है. तमाम शेयर लाल निशान में पहुंच रहे हैं. मार्केट कैप के हिसाब से देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने भी हाल ही में अपना 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर छू लिया था. वहीं देखने को मिला कि पिछले कुछ सालों में रिलायंस ने बहुत ही कम रिटर्न भी दिया है. ऐसे में लोग यही सोचने लगे कि शेयर बाजार में पैसे लगाने का कोई फायदा है भी या नहीं. इसी बीच एक खबर आई है गुजरात की सिंथेटिक मैन्युफैक्चरिंग कंपनी ज्योति रेजिन एडहेसिव्स (Jyoti Resins and Adhesives) को लेकर, जिसने कई निवेशकों की किस्मत बदल दी है. इस शेयर ने निवेशकों को 15 सालों में करीब सवा लाख फीसदी से भी ज्यादा का रिटर्न (Stock Market Return) दिया है.

सवा लाख फीसदी से भी ज्यादा का रिटर्न दिया इस पेनी स्टॉक ने

ज्योति रेजिन एडहेसिव्स का शेयर मार्च 2008 में करीब 0.89 रुपये के लेवल पर था. यानी उस वक्त ये शेयर एक पेनी स्टॉक था. 2013 तक कंपनी का शेयर उछलकर 3.68 रुपये पर पहुंच गया. वहीं अब ये शेयर 22 मार्च तक 1165 रुपये के करीब पहुंच गया है. यानी पिछले 15 सालों में इस शेयर ने करीब 1,30,798 फीसदी का रिटर्न दिया है. इस दौरान शेयर की कीमत करीब 1308 गुना बढ़ी है.

10 हजार रुपये को बना दिया 1.30 करोड़ रुपये

अगर किसी शख्स ने मार्च 2008 में 0.89 रुपये के लेवल पर इस कंपनी में सिर्फ 10 हजार रुपये लगाए होंगे और अब तक उन्हें निकाला नहीं होगा तो आज उसके पैसे 1.30 करोड़ रुपये से भी अधिक बन चुके हैं. हालांकि, ऐसे बहुत ही कम निवेशक होते हैं तो 15 साल यानी लंबे वक्त के लिए निवेश जारी रखें, लेकिन राकेश झुनझुनवाला, वॉरेन बफे जैसे दिग्गज निवेशक ऐसा ही करते रहे हैं और इसी की सलाह भी देते रहे हैं.

कैसे हैं कंपनी के आंकड़े?

अगर कंपनी के फाइनेंशियल्स की बात करें तो साल 2022 में कंपनी की ग्रॉस सेल में करीब 35 फीसदी का इजाफा हुआ है. कंपनी की ग्रॉस सेल का ये आंकड़ा अब करीब 182 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. साल 2008 में यह करीब 2.04 करोड़ रुपये था. बात अगर कंपनी के मुनाफे की करें तो पिछले कुछ साल में यह तेजी से बढ़ा है. 2018 में कंपनी का मुनाफा सिर्फ 1 करोड़ रुपये था, जो 2019 में दोगुना होकर 2 करोड़ रुपये हो गया. 2020 में ये चार गुना बढ़कर 8 करोड़ रुपये हो गया. 2021 में मुनाफा 12 करोड़ और 2022 में 19 करोड़ रुपये हो गया.

यह भी पढ़ें
अमेरिकी बैंक डूबने से भारत को हो सकते हैं ये 3 फायदे, तेजी से गिर रहा शेयर बाजार बन सकता है रॉकेट!