भोजनालयों में इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल को बायोडीजल में बदल रहा है मुंबई का यह स्टार्टअप

भोजनालयों में इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल को बायोडीजल में बदल रहा है मुंबई का यह स्टार्टअप

Friday January 07, 2022,

6 min Read

क्या आप जानते हैं कि आपके स्थानीय रेस्तरां द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला तेल आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है? इसके अलावा, खाना पकाने के लिए इस्तेमाल किए गए तेल के संबंध में तमाम सरकारी दिशानिर्देश भी जारी हुए हैं, जिसका अक्सर इन भोजनालयों के मालिकों द्वारा उल्लंघन किया जाता है।


स्टेटिस्टा की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत ने वित्त वर्ष 2011 में अनुमानित 22 मिलियन मीट्रिक टन से अधिक वनस्पति तेलों की खपत की है। हालाँकि, भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा जारी किए गए आदेशों के अनुसार इस्तेमाल हो चुके को फिर से तलने के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है।


उद्यमी और मुंबई स्थित ARIS बायोएनेर्जी के संस्थापक उमेश वाघधारे कहते हैं, अधिकतर कंपनियां और व्यवसाय इस मानदंड का पालन नहीं कर रहे हैं। इसके अलावा, वह इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि यदि इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल का पुन: उपयोग नहीं किया जाता है, तो इसे अक्सर बहा दिया जाता है, जो पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुंचाता है।


2019 से पहले, उमेश महाराष्ट्र में इथेनॉल फैक्ट्री स्थापित करने की योजना बना रहे थे। हालाँकि, विश्व जैव ईंधन दिवस के उपलक्ष्य में दिल्ली में एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद उन्होंने महसूस किया कि इस खंड में एक व्यावसायिक अवसर मौजूद है जिसे तलाशा जाना चाहिए।


वे योरस्टोरी को बताते हैं, "हमने एक एकत्रीकरण प्रणाली विकसित करने के बारे में सोचा जहां इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल को एकत्र किया जाये और बायोडीजल में परिवर्तित किया जाए।"


उन्होंने एकत्रीकरण प्रक्रिया शुरू करने के लिए जनवरी 2019 में मुंबई में ARIS बायोएनर्जी की स्थापना की। उन्होने इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल को खरीदने के लिए मुंबई और उसके आसपास के स्थानीय खाने के आउटलेट्स के साथ करार किया। इसके बाद कंपनी इसे बायोडीजल में संसाधित करने के लिए FSSAI के साथ नामांकित रिफाइनरियों को बेंचती है।


टीम का कहना है कि इस तेल को जैव ईंधन में परिवर्तित करने से न केवल पर्यावरण को लाभ होता है बल्कि इसका उद्देश्य अर्थव्यवस्था के लिए कई समस्याओं को हल करना भी है।


उमेश बताते हैं, "रूपांतरण के बाद बायोडीजल को पारंपरिक डीजल के साथ मिश्रित किया जा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप आयात और कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी।"

महामारी से पहले 

एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में सालाना लगभग 2,700 करोड़ लीटर खाना पकाने के तेल का उपयोग किया जाता है, जिसमें से 140 करोड़ लीटर थोक उपभोक्ताओं जैसे होटल, रेस्तरां, कैंटीन आदि के लिए एकत्र किया जा सकता है, जिससे एक साल में करीब 110 करोड़ लीटर बायोडीजल मिलेगा। 


उमेश कहते हैं कि बेंचमार्क पार करने के बाद लोगों को इस तेल छोड़ने के लिए राजी करना मुश्किल था।


वे कहते हैं, "हालांकि हमने आउटलेट्स को FSSAI दिशानिर्देश दिखाए, हमने महसूस किया कि वे इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल से छुटकारा पाने के लिए तैयार नहीं थे। इसके अलावा, वे इस्तेमाल किए गए तेल में ताजा तेल जोड़ते रहते हैं और फिर से इसका इस्तेमाल करते हैं।"


उन्होंने यह भी कहा कि टीम को शुरुआत में कुछ प्रतिरोध का सामना करना पड़ा।


वे कहते हैं, "कुछ लोग यह कहते हुए हमसे सहमत नहीं थे कि उन्हें ऐसा कोई दिशानिर्देश प्राप्त नहीं हुआ है।"


उनका कहना है कि प्रचार, ऑडिट और सरकार द्वारा दिशा-निर्देशों को लागू करने के मामले में सख्ती से इस सेगमेंट के परिप्रेक्ष्य को बदलने और अधिक मालिकों को ARIS के साथ पंजीकरण कराने में एक भूमिका निभाई।


उमेश और उनकी टीम ने बेंगलुरू स्थित स्टार्टअप की मदद से एक लॉजिस्टिक एप्लिकेशन भी विकसित किया, जिसने भोजनालयों से इस तरह के तेल के पिकअप को सुनिश्चित किया गया है।


वे कहते हैं, “एक बार जब कोई आउटलेट हमारे साथ पंजीकृत हो जाता है, तो उसे भौगोलिक स्थान पर टैग किया जाता है। मैनुअल संग्रह की योजना सॉफ्टवेयर के माध्यम से की जाती है। यह हमें तेल एकत्र करने के लिए कवर किए जा रहे क्षेत्रों को समझने में भी मदद करता है। जब एकत्रित तेल हमारे गोदामों तक पहुंचता है तो एप्लिकेशन सूचनाएं देती है और फिर तेल को रिफाइनरियों तक पहुंचाया जाता है। इन रिफाइनरियों में इस्तेमाल किए गए खाना पकाने के तेल को बायोडीजल में बदल दिया जाता है।”


ARIS बायोएनर्जी ने अप्रैल 2019 और जनवरी 2020 के बीच लगभग 9 लाख किलोग्राम तेल को बायोडीजल में बदलने का दावा किया है, जिसमें मुंबई, नागपुर, नासिक, कोल्हापुर, कर्नाटक, गोवा, तेलंगाना और अन्य क्षेत्रों को शामिल किया गया है।

k

टीम ARIS BioEnergy

महामारी के बीच संचालन

2020 की शुरुआत में ARIS बायोएनर्जी इस तरह के तेल को बायोडीजल में बदलने के लिए मुंबई में अपनी खुद की एक रिफाइनरी स्थापित करने के लिए कमर कस रही थी। हालाँकि, जब मार्च 2020 में कोरोना महामारी आई तो व्यवसाय को अपना संचालन पूरी तरह से रोकना पड़ा। कंपनी ने 2020 की शुरुआत में भारत में रिफाइनरी स्थापित करने के लिए यूके स्थित जैव ईंधन कंपनी ग्रीन फ्यूल्स के साथ एक संयुक्त उद्यम भी बनाया।


इसके अलावा लॉकडाउन ने कई भोजनालयों को दुकान बंद करने के लिए मजबूर किया, जिसने कंपनी का संकट और बढ़ गया क्योंकि वे प्राथमिक हितधारक थे।


उमेश कहते हैं, "हालांकि हम अपने कर्मचारियों के संपर्क में रहे और कई नए कर्मचारियों को भी शामिल किया।"


उमेश का कहना है कि उनकी टीम ने बंद किए गए आउटलेट की भी मैपिंग की और नए लोगों की पहचान की जिन्हें पंजीकृत किया जा सकता है। इसने तेल को एकत्र करने के लिए मैनुफेक्चुरिंग कंपनियों और हल्दीराम और रिबेल फूड्स जैसी कंपनियों को भी पंजीकृत किया।


वे कहते हैं, "हमें बहुत सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ा, लेकिन यह केवल कुछ समय की बात थी जब तक कि व्यापार स्थिर नहीं हो गया और हम पूर्व-महामारी के स्तर पर ठीक होने लगे।" 


हालांकि उमेश ने राजस्व के आंकड़ों का खुलासा नहीं किया, लेकिन उन्होंने कहा कि यह कारोबार तिमाही-दर-तिमाही 15-20 प्रतिशत की गति से बढ़ रहा है। आज, इसका नेटवर्क भी देश भर में 27,000 आउटलेट्स तक बढ़ गया है।


आगे बढ़ते हुए, कंपनी की योजना इस वित्तीय वर्ष के अंत तक बायोडीजल संयंत्र स्थापित करने की है, साथ ही लंबी अवधि में ARIS ग्रीनफ्यूल्स के तहत 20 रिफाइनरियां स्थापित करने की भी है। कंपनी की अगले कुछ महीनों में कोलकाता और दिल्ली-एनसीआर में अपने एग्रीगेशन बिजनेस मॉडल का विस्तार करने की भी योजना है।


ARIS का दीर्घकालिक लक्ष्य बड़ी मात्रा में जैव ईंधन का उत्पादन करना भी है जिसका उपयोग विमानन क्षेत्र में किया जा सकता है।


Edited by Ranjana Tripathi

Daily Capsule
CleverTap unfazed by funding winter
Read the full story