इस आंत्रप्रेन्योर के ऑर्गेनिक ब्रांड ने चार वर्षों में हासिल किया बड़ा मुकाम, 250 करोड़ रुपये के प्रोडक्ट करता है एक्सपोर्ट

By Palak Agarwal
June 18, 2021, Updated on : Fri Jun 18 2021 07:15:19 GMT+0000
इस आंत्रप्रेन्योर के ऑर्गेनिक ब्रांड ने चार वर्षों में हासिल किया बड़ा मुकाम, 250 करोड़ रुपये के प्रोडक्ट करता है एक्सपोर्ट
2017 में स्थापित, Naturevibe Botanicals ने अमेरिका और यूरोप से अपना व्यवसाय संचालन शुरू किया और फिर 2019 में भारतीय बाजार में प्रवेश किया। महामारी के दौरान, कंपनी ने हेल्थ फूड की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए D2C मार्ग अपनाया।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"मुंबई स्थित ऋषभ का पारिवारिक व्यवसाय फार्मास्यूटिकल्स में था। इससे ऋषभ के लिए वेलनेस और उससे संबंधित उद्योगों का अध्ययन करना आसान हो गया। उन्होंने ऑर्गेनिक फूड इंडस्ट्री में एक बड़ा अवसर महसूस किया, और उसी तर्ज पर अपना व्यवसाय स्थापित करने का फैसला किया।"

जब ऋषभ चोखानी (32) ने स्वच्छ भोजन अपनाने का फैसला किया, तो उन्हें अपने शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव पर यकीन नहीं हुआ। परिवर्तन दिखने में देर नहीं लगी, और परिणाम आश्चर्यजनक थे - शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से। इसने उन्हें वनस्पति विज्ञान यानी बॉटनिकल्स पर रिसर्च करने के लिए प्रेरित किया, जिसके कारण उन्होंने 2017 में नेचरवाइब बॉटनिकल (Naturevibe Botanicals) नामक हेल्थ फूड का अपना ब्रांड शुरू किया।


मुंबई स्थित ऋषभ का पारिवारिक व्यवसाय फार्मास्यूटिकल्स में था। इससे ऋषभ के लिए वेलनेस और उससे संबंधित उद्योगों का अध्ययन करना आसान हो गया। उन्होंने ऑर्गेनिक फूड इंडस्ट्री में एक बड़ा अवसर महसूस किया, और उसी तर्ज पर अपना व्यवसाय स्थापित करने का फैसला किया।


YourStory से बातचीत में वे कहते हैं,

“भारत में, उस समय, जैविक उत्पादों का बाजार बढ़ रहा था, लेकिन अमेरिका में, इसका पहले से ही बहुत बड़ा क्रेज था। हालांकि किसी भी प्रोडक्ट में इस्तेमाल किए जाने वाले अधिकांश प्राकृतिक अवयवों की जड़ें भारत में हैं, लेकिन विदेशी बाजार में बहुत कम भारतीय आपूर्तिकर्ता थे। यही वह स्थान है जिसमें मैं टैप करना चाहता था।"


जब उन्होंने ब्रांड लॉन्च किया, तो ऋषभ ने अमेरिकी बाजार को सप्लाई करना शुरू किया, और जल्द ही यूरोप में इसका विस्तार किया। इन विदेशी बाजारों में काम करने और उद्योग की जानकारी हासिल करने के बाद, ऋषभ ने 2019 में भारतीय बाजार में कदम रखा। आज, ऋषभ का दावा है, कंपनी 250 करोड़ रुपये के भारतीय वनस्पति (Indian botanicals) का निर्यात कर रही है, और वित्त वर्ष 20-21 में 140 करोड़ रुपये का कारोबार किया है, जिसमें वैश्विक ग्राहक प्रतिधारण दर 40 प्रतिशत है।

जैविक रूप से बढ़ना

ग्लोबल ऑर्गेनिक फूड और बेवरेजेस का मार्केट साइज 2026 तक 3,50,050 मिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है, जो 2021 में 1,67,070 मिलियन डॉलर था, और 2021-2026 के बीच 13.1 प्रतिशत की सीएजीआर के साथ बढ़ने का अनुमान है। भारत में, ऑर्गेनिक फूड मार्केट 2020 में 849.5 मिलियन डॉलर के मूल्य पर खड़ा था। 2021 और 2026 की पूर्वानुमान अवधि में बाजार के लगभग 20.5 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है, जो कि 2026 तक लगभग 2,601 मिलियन डॉलर के मूल्य तक पहुंच जाएगा। इन उत्साहजनक आंकड़ों की ओर इशारा करते हुए, ऋषभ कहते हैं कि आने वाले वर्षों में ऑर्गेनिक फूड बिजनेस के विकास की गुंजाइश बहुत अधिक है।


उनके अनुसार, पिछले डेढ़ वर्षों में, स्वस्थ खाने के प्रति जागरूकता बढ़ने के साथ, ऑर्गेनिक प्रोडक्ट्स की मांग में केवल ऊपर की ओर बढ़ता रुझान देखा गया है।


वह कहते हैं,

"हम एक साफ लेबल वाले ब्रांड हैं - हमारे प्रोडक्ट पूरी तरह से प्राकृतिक हैं, और केमिकल और आनुवंशिक रूप से संशोधित जीवों (जीएमओ) के बिना हैं। वे एक केमिकल फ्री लाइफस्टाइल को बढ़ावा देते हैं, और आयुर्वेद और वनस्पति विज्ञान के सिद्धांतों को मिलाकर गहन शोध के बाद निर्मित होते हैं।"


नेचरवाइब बॉटनिकल्स की सूची में सुपरफूड्स, ऑर्गेनिक फूड, आयुर्वेदिक सप्लीमेंट्स, स्टेपल, ग्रॉसरी, एसेंशियल ऑयल, मसाज ऑयल आदि शामिल हैं। 650 से अधिक रेंज में प्रोडक्ट, रायगढ़, महाराष्ट्र में स्थित इसकी मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी में तैयार होते हैं।


पांच लोगों की टीम के साथ शुरू हुई कंपनी में अब कर्मचारियों के रूप में 400 से अधिक लोग हैं। ऋषभ कहते हैं कि लगभग 1200 अनुबंधित किसानों का उनका नेटवर्क और लगभग 45 मौसमी किसान स्वच्छ और शुद्ध कच्चे माल की खरीद में मदद करते हैं।

मील का पत्थर हासिल करना

भारत में परिचालन शुरू करने के एक साल बाद, देश COVID-19 के चलते लॉकडाउन में चला गया, और कई व्यावसायिक कार्य ठप हो गए।


2019 में, जब ऋषभ ने देश में अपना व्यवसाय शुरू किया था, तो उन्होंने अपने उत्पादों को अमेजॉन पर सूचीबद्ध करके शुरू किया था। हालांकि, रातोंरात लॉकडाउन ने ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म के माध्यम से अधिकांश पिनकोड को अनुपयोगी बना दिया। ऋषभ ने जुलाई 2020 में अपना खुद का D2C मॉडल स्थापित करने के बारे में सोचा ताकि वह सीधे अपने ग्राहकों को उत्पाद वितरित कर सके।


वह बताते हैं,

“अमेजॉन भारत और अमेरिका दोनों में हमारा प्राथमिक बिक्री चैनल रहा है, लेकिन महामारी ने हमें D2C बाजार में प्रवेश करने का अवसर दिया। अब हमारी वेबसाइट पर दिए गए ऑर्डर की संख्या अमेजॉन से हमारे ऑर्डर से बहुत पीछे नहीं है।”

Naturevibe Botanicals

Naturevibe Botanicals की प्रोडक्ट रेंज

ऋषभ कहते हैं,

“महामारी के दौरान, जब ज्यादातर कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी कर रही थीं, हम और लोगों को काम पर रखने की तलाश में थे क्योंकि हमारा कारोबार रुका नहीं था।”


कंपनी ने अमेजॉन संभव समिट 2021 में 'जॉब क्रिएटर ऑफ द ईयर' का खिताब जीता।

चुनौतियां और प्रतियोगिता

ऋषभ अपनी उद्यमशीलता की यात्रा के शुरुआती दिनों को याद करते हैं, और मानते हैं कि कई चुनौतियां थीं। वह किसानों की मानसिकता से निपटने और केमिकल के जरिए कीटों के हमलों को रोकने के उनके अभ्यस्त तरीकों का हवाला देते हैं, जो उन्होंने पहली बाधाओं में से एक के रूप में निपटा। ऋषभ कहते हैं कि उन्हें कुछ किसानों को जैविक खेती में बदलाव करने और इसके बारे में धैर्य रखने के लिए मनाने में काफी समय लगा।


यह ब्रांड ओजिवा, बोल्डफिट, और अन्य जैसों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है, हालांकि ऋषभ कहते हैं कि कोरोनावायरस महामारी ने केवल प्रतिरक्षा के लिए स्वस्थ और प्राकृतिक भोजन की वैश्विक मांग को बढ़ा दिया है, जैसे कि यह उनकी कल्पना को पार कर गया है।

आगे का रास्ता

नेचरवाइब बॉटनिकल्स के कई नए प्रोडक्ट पाइपलाइन में हैं। विस्तार योजनाओं पर, ऋषभ कहते हैं कि वह आशावादी हैं कि उनके ब्रांड की दुनिया के हर हिस्से में पहुंच होगी।


वह कहते हैं,

“हम निर्यात का लाभ उठाने की योजना बना रहे हैं, और फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर को सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले ऑर्गेनिक फूड और बॉटनिकल्स प्रोडक्ट का निर्यात करने के लिए तैयार हैं। लेकिन इससे पहले, हम भारत के हर ई-कॉमर्स चैनल पर टैप करना चाहते हैं।” 


Edited by Ranjana Tripathi