अगले माह इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट हो जाएगा नौ साल का असाधारण प्रतिभाशाली लॉरेंट

By जय प्रकाश जय
November 18, 2019, Updated on : Mon Nov 18 2019 05:13:41 GMT+0000
अगले माह इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट हो जाएगा नौ साल का असाधारण प्रतिभाशाली लॉरेंट
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कितनी हैरानी की बात हो सकती है कि कोई नौ साल का मेधावी बच्चा इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन कर ले। असाधारण प्रतिभाशाली सिमंस ऐसा ही है। अगले माह वह ग्रेजुएट हो जाएगा। फिर मेडिकल और पीएचडी की पढ़ाई करना चाहता है। उसके टैलेंट से माता-पिता, दादा-दादी और उसके सभी टीचर भी आश्चर्यचकित हैं।  

k

बेल्जियम में नौ साल का असाधारण प्रतिभाशाली लॉरेंट सिमंस आइंडहोवन यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी (टीयूई) में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कर रहा है। यूनिवर्सिटी स्टाफ के मुताबिक, वह दिसंबर 2019 में अपनी डिग्री पूरी कर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट हो जाएगा।


क

लॉरेंट के पिता एलेक्जेंडर सिमोंस बताते हैं कि वह ग्रेजुएशन के बाद मेडिकल की डिग्री के साथ ही, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी करना चाहता है। लॉरेंट की मां लिडा बताती हैं कि उसके शिक्षकों ने उसमें कुछ खास देखा है। एलेक्जेंडर और लिडा को पता नहीं है कि लॉरेंट कैसे सब कुछ जल्दी-जल्दी सीख लेता है?


मजाकिया अंदाज में लिडा इतना जरूर बताती हैं कि वह प्रेगनेंसी के दौरान मछली बहुत खाती थीं। मात्र साल की उम्र में इंजीनियर जैसा कठिन कोर्स पूरा कर रहे लॉरेंट के टैलेंट से उसके शिक्षक और माता-पिता हैरत में हैं। 


लॉरेंट अपनी उम्र के अन्य बच्चों की तुलना में बिलकुल अलग-सा है। वह कृत्रिम अंगों का विकास करना चाहता है। वह ग्रेजुएशन के बाद छुट्टी मनाने के लिए जापान जाना चाहता है।


लॉरेंट अन्य आम छात्रों जैसा नहीं। उनकी तुलना में वह अपना पाठ्यक्रम तेजी से समझ लेता है। टीयूई के शिक्षा निदेशक जोएर्ड हल्शॉफ कहते हैं कि विशेष छात्रों के लिए हम एक बेहतर कार्यक्रम की व्यवस्था करते हैं। उसी तरह से हम उन छात्रों की भी मदद करते हैं, जो मुख्य खेलों में भाग लेते हैं।




लॉरेंट असाधारण है। वह आज के छात्रों के लिए प्रेरणा स्रोत जैसा है। वह यहां के छात्रों में सबसे बेहतर है। वह न केवल बुद्धिमान है, बल्कि बेहद शालीन भी है।


क

लॉरेंट अपने पेरेंट्स के साथ

उसका सबसे पसंदीदा विषय इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग है। वह चिकित्सा में भी उच्च शिक्षा लेना चाहता है। वह रटता नहीं, बल्कि नेचुरल तरीके से रीडिंग करता है।


नन्हा लॉरेंट सिमंस जब पैदा हुआ था तो उसके दादा-दादी ने कहा था कि उन्हे भगवान की ओर से तोहफा मिला है।


जब स्कूल में पढ़ने के दौरान शिक्षक भी उसकी आए दिन तारीफ करने लगे तो घर वाले भी हैरानी के साथ उसकी सुविधा-असुविधाओं पर विशेष ध्यान रखने लगे।


इतनी कम उम्र में अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के लिए लॉरेंट को आइंडहोवन प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से अनुमति मिल गई है।


इस समय वह अपनी नॉलेज को बढ़ाने और नई चीजों के डिस्क्राइब करने में व्यस्त रहता है। घर वाले चाहते हैं कि वह पढ़ाई के अलावा अपने बचपन को एंजॉय भी करता रहे।


वह कभी-कभी ही अपने कुत्ते सैमी से खेलने के साथ ही अपने फोन का इस्तेमाल करता है।