अब नेटफ्लिक्‍स के इस फैसले से होगी आपकी सच्‍ची दोस्‍ती की पहचान

By yourstory हिन्दी
October 26, 2022, Updated on : Thu Oct 27 2022 05:42:41 GMT+0000
अब नेटफ्लिक्‍स के इस फैसले से होगी आपकी सच्‍ची दोस्‍ती की पहचान
अब नेटफ्लिक्‍स कसने जा रहा है पासवर्ड शेयरिंग पर लगाम.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पुराने जमाने में सच्‍ची दोस्‍ती को परखने के जो भी पैमाने रहे हों, इस डिजिटल युग में तो एक ही पैमाना है- सच्‍चा दोस्‍त वही, जो अपना नेटफ्लिक्‍स पासवर्ड आपके साथ शेयर करे. नेटफ्लिक्‍स पासवर्ड शेयर करना कभी खुद नेटफ्लिक्‍स के लिए भी जोक था, जिस पर आए दिन वो कुछ मजेदार ट्वीट कर दिया करते थे. लेकिन यही जोक अब नेटफ्लिक्‍स के गले की हड्डी बन गया है.


नेटफ्लिक्‍स का कहना है कि उनकी ग्रोथ में जो कारण बाधक रहे हैं, उसमें से एक बड़ा कारण है पासवर्ड शेयरिंग. लोग नेटफ्लिक्‍स का सब्‍टसक्रिप्‍शन खरीदने की बजाय अपने दोस्‍तों, मित्रों, परिचितों और रिश्‍तेदारों के पासवर्ड से काम चला रहे हैं. लोग आपस में पासवर्ड शेयर करके ओटीटी प्‍लेटफॉर्म के मजे ले रहे हैं और नेटफ्लिक्‍स के को पैसे मिल रहे हैं सिर्फ एक अकाउंट के.


पासवर्ड शेयरिंग नेटफ्लिक्‍स के लिए इतनी बड़ी समस्‍या बन गया है कि अब इस निपटने का नेटफ्लिक्‍स ने एक रास्‍ता ढूंढ लिया है. अगले साल यानी 2023 की शुरुआत से अब अपना पासवर्ड शेयर करने वाले यूजर्स को अपने अकाउंट सब्‍सक्रिप्‍शन के अलावा एक्‍स्‍ट्रा कीमत चुकानी होगी.


नेटफ्लिक्‍स ने अपनी क्‍वाटरली रिपोर्ट में यह बात कही है कि अगले साल से यह नया नियम लागू होने जा रहा है. नेटफ्लिक्‍स के पास पूरी डीटेल होती है कि किस लॉगिन आईडी से किन-किन डिवाइसेस में लॉगिन किया गया है. अभी एक ही लॉगिन आईडी से अलग-अलग शहरों, राज्‍यों और यहां तक कि देशों में भी बैठकर अकाउंट लॉगिन किया जा सकता है. जैसे आप अमेरिका में रह रहे किसी व्‍यक्ति के नेटफ्लिक्‍स अकाउंट को यहां इंडिया में बैठकर भी लॉगिन कर सकते हैं. ये बात अलग है कि फिल्‍म, शो और प्रोग्राम आपको वही दिखेंगे, तो इंडिया में रिलीज किए गए हैं.


इस लेवल की ग्‍लोबल एक्‍सेसबिलिटी होने के कारण ज्‍यादातर लोग नेटफ्लिक्‍स का अपना अकाउंट सब्‍सक्रिप्‍शन लेने की बजाय आपस में पासवर्ड और कॉस्‍ट दोनों शेयर करना प्रिफर करते हैं. लेकिन इसका नुकसान तो अंत में ओटीटी प्‍लेटफॉर्म को ही उठाना पड़ता है.


नेटफ्लिक्‍स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पिछले कुछ समय से ग्‍लोबली नेटफ्लिक्‍स का परफॉर्मेंस अच्‍छा नहीं है, जबकि उसके प्रोग्राम और ओरिजिनल शो काफी पसंद किए जाते हैं. बावजूद इसके सब्‍सक्राइबर्स की संख्‍या में कोई इजाफा नहीं हो रहा है और इसकी सबसे बड़ी वजह पासवर्ड शेयरिंग है.


नेटफ्लिक्‍स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि भविष्‍य ओटीटी का ही है. धीमी रफ्तार से ही सही, लेकिन ये प्‍लेटफॉर्म आने वाले समय में ग्रो करेगा. इसलिए जरूरी है कि इसे मजबूत बनाने के लिए इसकी कॉस्‍ट थोड़ी बढ़ाई जाए.


हालांकि नेटफ्लिक्‍स सब्‍सक्रिप्‍शन फीस में कोई इजाफा नहीं कर रहा है. सिर्फ अपना लॉगिन और पासवर्ड शेयर करने वाले यूजर्स को कुछ अतिरिक्‍त पैसों का भुगतान करना पड़ेगा. नेटफ्लिक्‍स का मानना है कि ऐसा करने से पासवर्ड शेयरिंग के चलन में थोड़ी कमी आ सकती है.  


Edited by Manisha Pandey