Nykaa की सीईओ फाल्गुनी नायर बोनस मुद्दे पर कायम, ट्रेडिंग रणनीति में मानी गलती

Nykaa का शुद्ध मुनाफा अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 71 फीसदी गिरकर 8.5 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि में 29 करोड़ रुपये था. विश्लेषकों के अनुमान के अनुसार, इस अवधि के लिए कंपनी का रेवेन्यू साल-दर-साल 33% बढ़कर 1,463 करोड़ रुपये था.

Nykaa की सीईओ फाल्गुनी नायर बोनस मुद्दे पर कायम, ट्रेडिंग रणनीति में मानी गलती

Tuesday February 14, 2023,

5 min Read

Nykaa की फाउंडर और सीईओ फाल्गुनी नायर (Nykaa founder & CEO Falguni Nayar) ने कहा कि पिछली तिमाही में विवादास्पद बोनस मुद्दा सभी शेयरधारकों के लिए बराबर था और वैल्यू क्रिएट करने के उद्देश्य से था. वहीं उन्होंने स्वीकार किया कि ब्यूटी और लाइफस्टाइल रिटेल कंपनी ने बोनस शेयरों की ट्रेडिंग कब की जा सकती है, इसकी समय-सीमा का अनुमान लगाने में गलती की. (Nykaa results)

नायर ने कहा कि कंपनी ने मान लिया था कि शेयरधारक इस मुद्दे पर वोटिंग के 4-5 दिनों के भीतर बोनस शेयरों की ट्रेडिंग शुरू कर सकेंगे.

कंपनी के रिजल्ट्स की घोषणा के बाद मीडिया के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा, "बोनस इश्यू सभी शेयरधारकों के लिए समान था... यह केवल वैल्यू क्रिएट कर सकता है लेकिन इसे कम नहीं कर सकता.. इसे सभी शेयरधारकों का भरपूर समर्थन मिला."

एक नज़र Nykaa के रिजल्ट्स पर

Nykaa का शुद्ध मुनाफा अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 71 फीसदी गिरकर 8.5 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि में 29 करोड़ रुपये था. विश्लेषकों के अनुमान के अनुसार, इस अवधि के लिए कंपनी का रेवेन्यू साल-दर-साल 33% बढ़कर 1,463 करोड़ रुपये था.

Nykaa का कुल खर्च तीसरी तिमाही में सालाना आधार पर 36% बढ़कर 1,456 करोड़ रुपये हो गया.

कर्मचारी लाभ, मूल्यह्रास और अन्य खर्चों में वृद्धि से EBITDA मार्जिन में गिरावट आई, जो कंपनी के रेवेन्यू के प्रतिशत के रूप में परिचालन लाभ (operating profit) का एक उपाय है.

ब्यूटी एंड पर्सनल केयर (BPC) सेगमेंट, Nykaa का सबसे बड़ा रेवेन्यू जनरेटर, GMV में 26% बढ़कर 1,901 करोड़ रुपये हो गया, जबकि फैशन सेगमेंट 50% बढ़कर 724.4 करोड़ रुपये हो गया.

बता दें कि Nykaa का लॉक-इन पीरियड 10 नवंबर को समाप्त हो गया था और बोनस जारी करने की रिकॉर्ड तिथि 11 नवंबर निर्धारित की गई थी. इस बीच, बोनस मुद्दे पर 2 नवंबर को वोटिंग पूरी हो चुकी थी और नए शेयरों का आवंटन 12 नवंबर को हुआ था.

लॉक-इन पीरियड समाप्त होने के साथ बोनस जारी करने का समय - मैनेजमेंट द्वारा लॉक-इन पीरियड समाप्त होने पर निवेशकों को अपनी होल्डिंग बेचने से रोकने के लिए एक चाल के रूप में कुछ निवेशकों ने इसे देखा. उन्होंने इसे निवेशकों को नकारने के रूप में देखा, विशेष रूप से खुदरा निवेशक जिन्होंने हाई आईपीओ मूल्य पर प्रवेश किया. यह एक उचित निकास था क्योंकि उनके पास कुछ दिनों के लिए अतिरिक्त शेयरों तक पहुंच नहीं थी - उनकी होल्डिंग का 5-6 फीसदी.

Nykaa के लिए, इस इश्यू ने स्टॉक की कीमत को भी स्थिर कर दिया, जो 9 नवंबर को 8 प्रतिशत गिर गया था, और पिछले एक महीने में लगभग 20 प्रतिशत गिर गया था. स्टॉक 10 नवंबर को 171 रुपये एक्स-बोनस पर खुला, और दिन में 185 रुपये के उच्च स्तर पर पहुंचा. यह दूसरे दिनों में बाजार में 5 प्रतिशत से अधिक की बढ़त थी.

इस कदम को कंपनी के प्रारंभिक चरण के निजी इक्विटी निवेशकों के लिए भी फायदेमंद माना गया क्योंकि इससे उन्हें टैक्स की बचत होगी क्योंकि वे न्यूनतम पूंजीगत लाभ कर के साथ आंशिक रूप से स्टॉक से बाहर निकल सकते थे.

आपको बता दें कि Nykaa के शेयर 13 फरवरी को बीएसई पर 3.26 प्रतिशत की गिरावट के साथ 149.65 रुपये पर बंद हुए.

गौरतलब हो कि पूर्व निवेश बैंकर, फाल्गुनी ने 50 साल की उम्र में आंत्रप्रेन्योरशिप को अपनाया और 2012 में ब्यूटी एंड वेलनेस प्रोडक्ट्स के लिए एक ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म के रूप में Nykaa की शुरुआत की थी. बॉलीवुड अभिनेत्रियों - आलिया भट्ट और कैटरीना कैफ - दोनों ने Nykaa में पैसा लगाया है. यह पब्लिक होने वाला भारत का एकमात्र महिला-स्थापित यूनिकॉर्न था. लिस्टिंग के बाद फाल्गुनी की कुल संपत्ति 6.5 अरब डॉलर आंकी गई और इसी के साथ उन्हें सेल्फमेड-बिलेनियर का तमगा हासिल हुआ.

बोनस शेयर का मतलब?

अगर कोई कंपनी बोनस शेयर देने की घोषणा करती है तो बहुत से निवेशक सोचते हैं उन्हें अतिरिक्त शेयर मुफ्त में मिल रहे हैं. बात सही भी है, अतिरिक्त शेयर मुफ्त में मिलते ही हैं, लेकिन इसमें एक ट्विस्ट है. बोनस शेयर मिलने बाद सिर्फ शेयरों की संख्या बढ़ती है, उनकी वैल्यू नहीं. उदाहरण के लिए अगर आपके पास 500 रुपये का कोई शेयर है और कंपनी आपको प्रति शेयर एक बोनस शेयर दे, तो आपके पास दो शेयर हो जाएंगे. हालांकि, ऐसी स्थिति में आपके शेयर का भाव कम होकर 250 रुपये रह जाएगा. आपको बोनस शेयर का फायदा डिविडेंट मिलने के वक्त होगा, क्योंकि तब प्रति शेयर के हिसाब से डिविडेंड दिया जाता है.

कंपनियां क्यों देती हैं बोनस शेयर?

अमूमन कंपनियां बोनस शेयर इसलिए देती हैं, क्योंकि वह शेयर की लिक्विडिटी को बढ़ाना चाहती हैं. मान लीजिए कि कोई शेयर 500 रुपये का है, ऐसे में प्रति शेयर एक बोनस शेयर दिए जाएं तो एक शेयर की कीमत 250 रुपये हो जाएगी. इससे शेयर सस्ता दिखने लगेगा और कम पैसे लगाने वाले निवेशक भी इसमें पैसा लगा सकेंगे. मौजूदा वक्त में नायका का शेयर करीब 1300 रुपये का है, ऐसे में बहुत से लोगों को यह महंगा लगता होगा. बोनस शेयर जारी करने की ये एक बड़ी वजह हो सकती है कि कंपनी अपने शेयरों को सस्ता बनाना चाहती है. इतना ही नहीं, बोनस शेयर की खबर से अक्सर कंपनियों के शेयर चढ़ जाते हैं. ऐसे में बोनस शेयर को कई कंपनियां शेयरों की कीमत पंप करने की एक रणनीति की तरह भी इस्तेमाल करती हैं.