तटीय कटाव, जलवायु परिवर्तन से प्रभावित लोगों के लिए ओडिशा बनाएगा पहली पुनर्वास कॉलोनी

जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से प्रभावित लोगों को बागपटिया में बसाया जा रहा है क्योंकि सतभाया क्षेत्र कटाव के कारण समुद्र में डूब गया है. जलवायु परिवर्तन से प्रभावित लोगों के पुनर्वास के लिए यह देश की पहली कॉलोनी है.

देश की पहली पुनर्वास कॉलोनी ओडिशा में बनने जा रही है. तटीय कटाव और जलवायु परिवर्तन के कारण विस्थापित हुए लोगों के लिए केंद्रपाड़ा जिले के सतभाया में यह कॉलोनी बनाई जाएगी. (india's first resettlement colony in Odisha)

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बागपटिया में कॉलोनी के पहले विकास चरण के लिए ₹22.5 करोड़ मंजूर किए. मुख्यमंत्री कार्यालय (CMO) ने रविवार को कहा, "सीएम पटनायक ने बागपटिया में कॉलोनी के पहले चरण के विकास के लिए 22.5 करोड़ रुपये मंजूर किए. यह राज्य सरकार की आदर्श कॉलोनी पहल का हिस्सा होगा."

अधिकारियों ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि विस्थापित लोगों के लिए घरों, पीने के पानी, बिजली कनेक्शन, सड़क और अन्य सुविधाओं के निर्माण के लिए फंड्स का उपयोग किया जाएगा.

CMO ने एक आधिकारिक बयान में कहा, "स्वीकृत राशि विस्थापितों के लिए घरों के निर्माण, पीने के पानी, बिजली कनेक्शन, सड़कों और अन्य सुविधाओं के लिए काम में ली जाएगी. इसके साथ ही, राज्य सरकार ने सतभाया के ग्रामीणों को कृषि भूमि प्रदान करने की भी योजना बनाई है जो तटीय कटाव के कारण अपनी आजीविका खो चुके हैं."

इस बीच, सीएम पटनायक ने पर्यटन विभाग को इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार करने और क्षेत्र में स्थित प्रसिद्ध पंचुबारही तीर्थ का सौंदर्यीकरण करने और इसे एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का भी निर्देश दिया है.

जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से प्रभावित लोगों को बागपटिया में बसाया जा रहा है क्योंकि सतभाया क्षेत्र कटाव के कारण समुद्र में डूब गया है. जलवायु परिवर्तन से प्रभावित लोगों के पुनर्वास के लिए यह देश की पहली कॉलोनी है.

यह भी पढ़ें
भारतीय सेना ने आर्टिलरी रेजिमेंट में 5 महिला अधिकारियों के पहले बैच को कमीशन किया