महामारी के बीच उबर के इन पूर्व अधिकारियों ने मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र में रखे कदम

By Prasannata Patwa
February 24, 2022, Updated on : Thu Feb 24 2022 08:25:39 GMT+0000
महामारी के बीच उबर के इन पूर्व अधिकारियों ने मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र में रखे कदम
साल 2021 में शुरू किया गया लिसन एक चैटबॉट ऐप है जो यूजर्स की मानसिक स्वास्थ्य गंभीरता पर विश्लेषण प्रदान करता है। ऐप उन्हें पेशेवरों से भी जोड़ता है और वर्तमान में गूगल प्ले स्टोर पर इसके 500 से अधिक डाउनलोड हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

जब हम मानसिक स्वास्थ्य के बारे में सोचते हैं तो हमारे दिमाग में बहुत सी बातें आती हैं। डिप्रेशन और एंग्जायटी इनमें से सबसे आम हैं, हालांकि दिमाग की कुछ समस्याएं समझ में भी नहीं आती हैं।


कृष्ण वीर सिंह और Uberके उनके परिचित तरुण गुप्ता ऐसी ही स्थिति में थे, जब उन्होंने फैसला किया कि उन्हें मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में कुछ करना है। इसने उन्हें साल 2021 में Lissunनामक एक ऐप लॉन्च करने के लिए प्रेरित किया।


गुरुग्राम स्थित लिसन एक मानसिक स्वास्थ्य स्टार्टअप है। यह एक कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) आधारित चैटबॉट है, कृष्णा का दावा है कि जैसे-जैसे यूजर्स इसके साथ बातचीत करना शुरू करते हैं, ऐप और गहराई में चला जाता है।


कृष्णा कहते हैं, "हमारा चैटबॉट किसी के मानसिक स्वास्थ्य की गंभीरता का विश्लेषण करने की कोशिश करता है और उसके अनुसार आवश्यक उपाय बताता है।"

ऐसे हुई शुरुआत

कैब एग्रीगेटर उबर और ऑनलाइन मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट के पूर्व एग्जीक्यूटिव कृष्णा का कहना है कि उन्होंने बहुत तनाव का अनुभव किया है, जो स्टार्टअप इकोसिस्टम में काम करने के एक हिस्से के रूप में आता है। लेकिन इसी के साथ महामारी ने उन्हें और उनके परिवार को बड़े स्तर पर प्रभवित किया है।


कृष्णा ने योरस्टोरी को बताया, “मैंने यह जानने के लिए कई कंपनियों में काम किया है कि कोई नियमित तनाव या मानसिक स्वास्थ्य समस्या कब होती है। लेकिन इस बार, यह निश्चित रूप से अलग था।”


हालांकि यह महामारी के कारण परिवार के सदस्यों के बीमार पड़ने का प्रत्यक्ष प्रभाव नहीं था, लेकिन जब उनका बेटे का स्वास्थ्य ठीक नहीं था और चारों ओर से आ रहीं सभी बुरी खबरों के बीच कृष्णा को भी तनाव महसूस होने लगा था।

Shutterstock

फोटो साभार: Shutterstock

फिर उन्होंने इसके बारे में कुछ करने का फैसला किया और मानसिक स्वास्थ्य ऐप शुरू करने पर तरुण के साथ काम करना शुरू कर दिया।

यह कैसे काम करता है?

यदि ऐप को पता चलता है कि यूजर्स दिन-प्रतिदिन के तनाव से पीड़ित है तो यह जर्नलिंग और ध्यान सहित उपायों का सुझाव देता है। लेकिन अगर स्थिति गंभीर लगती है, तो ऐप यूजर्स को मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से जोड़ने की कोशिश करता है।


ऐप के पास वर्तमान में स्टार्टअप के साथ नियमित रूप से काम करने वाले लगभग 10 मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर हैं। यह मार्केटप्लेस मॉडल से अलग है, जहां वेबसाइट पर पेशेवरों की एक सूची सूचीबद्ध होती है और यह यूजर्स पर निर्भर करता है कि वे उनसे जुड़ें।


कृष्णा कहते हैं, "यूजर्स को समझना एक क्रमिक प्रक्रिया है और हमारे बॉट को समझने में समय लगता है और फिर कोई भी उपचार सुझाता है क्योंकि गलत निदान यूजर्स के लिए हानिकारक हो सकता है।"


संस्थापकों के अनुसार, ऐप के लिए एल्गोरिदम दो मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों के परामर्श से बनाया गया था।


लिसन वर्तमान में दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में सक्रिय है। यह सामान्य अभ्यास में डॉक्टरों के साथ भी काम करता है, जो अपने उत्पाद की सिफारिश करने और ऐप के लिए वर्ड ऑफ माउथ रेफरेंस बनाने में मदद कर सकते हैं।

Lissun

Credit: YourStory Design

यह स्टार्टअप को डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से ग्राहकों को प्राप्त करने में कम निवेश करने में मदद करता है, जो पहले से ही कई मानसिक स्वास्थ्य चैटबॉट से भरा हुआ है। कृष्णा कहते हैं, "संदर्भ शायद वह है जो हमारे लिए सबसे अच्छा काम करेगा क्योंकि लोग प्लेटफॉर्म का उपयोग करने की अधिक संभावना रखते हैं।"

महामारी और मानसिक स्वास्थ्य

मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों के अनुसार, आत्महत्या आमतौर पर कुछ गंभीर मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के कारण होती है।


भारत में आत्महत्या की दर दुनिया में सबसे ज्यादा है, लेकिन यहाँ अवसाद और चिंता के बारे में बात करना अभी भी प्रतिबंधित है। अधिकांश आबादी मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से अवगत भी नहीं है, लेकिन महामारी ने चीजों को थोड़ा बदल दिया है।


जैसे-जैसे महामारी के कारण लॉकडाउन ने काम और पारिवारिक जिम्मेदारियों को जोड़ा, प्रियजनों को पीड़ित और अकेलेपन की भावना को समझने में मदद मिली है। इसने मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों तक पहुंच की आवश्यकता को रेखांकित किया।


डब्ल्यू हेल्थ वेंचर्स के कार्यकारी उपाध्यक्ष डॉ पंकज जेठवानी ने पहले की बातचीत में योरस्टोरी को बताया था कि, "महामारी से जुड़े अकेलेपन और चिंता ने समस्या की गंभीरता को स्वीकार करने के लिए आबादी को संवेदनशील बना दिया है, चाहें भले ही मानसिक स्वास्थ्य भारतीय समाज में एक वर्जित विषय रहा हो।"

बाजार और फंडिंग

लिसन ने अब तक एंजेल निवेशकों के एक समूह से फंडिंग के रूप में 5 लाख डॉलर जुटाए हैं और यह यूजर्स से प्रति सत्र 700 रुपये से 2,500 रुपये के बीच शुल्क लेता है।


स्टार्टअप Wysaके साथ प्रतिस्पर्धा करता है, जो Kae Capital द्वारा समर्थित AI चैटबॉट है। इसी के साथ यह लाइटबॉक्स वेंचर्स-समर्थित Inner Hourऔर इस स्पेस में कई अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्टार्टअप के साथ भी प्रतिस्पर्धा में है।


लिसन अब ऑर्गेनिक माध्यमों से अपने ऐप यूजर बेस को बढ़ाने की योजना बना रहा है। यह अधिक डॉक्टरों के साथ भी गठजोड़ कर रहा है जो जरूरतमंद लोगों को ऐप की सिफारिश कर सकते हैं।


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close