Paytm 30 रुपये में दे रहा 10,000 रुपये तक का साइबर फ्रॉड कवर, क्या है इसके मायने?

Paytm 30 रुपये में दे रहा 10,000 रुपये तक का साइबर फ्रॉड कवर, क्या है इसके मायने?

Tuesday December 20, 2022,

3 min Read

पेटीएम (Paytm) अब साइबर फ्रॉड पॉलिसी के तहत इंश्योरेंस कवर लेकर आया है. यानि कि अगर किसी ने साइबर फ्रॉड करके आपके पेटीएम वॉलेट से पैसे निकाल लिए हैं, तो यह 30 रुपये के प्रीमियम पर 10,000 रुपये तक के फ्रॉड का इंश्योरेंस कवर दे रहा है.

कवर 'पेटीएम पेमेंट प्रोटेक्ट' (Paytm Payment Protect) HDFC ERGO General Insurance द्वारा जारी ग्रुप इंश्योरेंस पॉलिसी के जरिए मुहैया किया जाता है. कंपनी ने कहा कि डिजिटल पेमेंट्स में भरोसा बढ़ाने के लिए यह स्कीम लॉन्च की जा रही है, जिससे इसे अपनाने में तेजी आएगी.

इंश्योरेंस कवर सभी ऐप्स और वॉलेट्स में UPI के जरिए किए गए टांजेक्शन की सुरक्षा करता है. इंश्योरेंस कवरेज One97 Communications द्वारा मुहैया किया गया है, जो पेटीएम की पैरेंट कंपनी है. पेटीएम में लेंडिंग और पेमेंट हेड के सीईओ भावेश गुप्ता ने कहा, "हम यूजर्स को सुरक्षित रखने और साइबर क्राइम से लड़ने के विजन के साथ सुविधाजनक दावों के साथ एक इंश्योरेंस कवर की पेशकश कर रहे हैं."

HDFC ERGO में रिटेल बिजनेस के अध्यक्ष पार्थनील घोष के अनुसार, महामारी के दौरान डिजिटल भुगतान के उपयोग में तेजी से वृद्धि ने साइबर फ्रॉड के लिए अधिक लोगों को अतिसंवेदनशील बना दिया है.

साइबर फ्रॉड से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

बढ़ते इंटरनेट के प्रयोग से साइबर फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़े हैं. समय-समय पर सरकार, बैंक और सुरक्षा एजेंसियां लोगों को सचेत करती हैं. लेकिन बावजुद इसके एक छोटी सी लापरवाही के कारण हम बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं. पूरी दुनिया में ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड एक बड़ी समस्या बन गई है और ऐसे में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है.

एसएमएस और ईमेल पर आने वाले किसी भी तरह के अनजाने लिंक पर क्लिक न करें. किसी भी व्यक्ति के साथ अपने बैंक खाते से जुड़ी गोपनीय जानकारियां न दें. किसी भी तरह के संदिग्ध फोन, मैसेज या मेल का जवाब न दें और उन्हें ब्लॉक कर दें. बताते चलें कि ये ठग आपको करोड़ों रुपये की लॉटरी जीतने के साथ-साथ निवेश करने पर मोटे मुनाफे का लालच देकर आपसे पैसों की भी मांग कर सकते हैं. इसलिए किसी भी अनजान व्यक्ति को लालच में आकर पैसे न भेजें.

अगर आप साइबर ठगी के शिकार होते हैं तो उसके शुरुआती दो-तीन घंटे बहुत महत्वपूर्ण होते हैं. ऐसे में आप जितना जल्दी रिपोर्ट करेंगे साइबर टीम उतना ही जल्दी एक्शन लेगी. इससे आपके पैसे वापस आने की संभावना भी बढ़ जाती है.

यह भी पढ़ें
1040 रुपये वाला रसोई गैस सिलेंडर अब यहां मिलेगा 500 रुपये में