PhonePe ने Walmart से 20 करोड़ डॉलर और जुटाए

फोनपे के मुताबिक इस फंड का इस्तेमाल कंपनी के पेमेंट्स और इंश्योरेंस बढ़ाने में किया जाएगा. लेंडिंग, स्टॉकब्रोकिंग, ONDC पर आधारित शॉपिंग औरअकाउंट एग्रीगेटर्स जैसे नए कारोबार भी आक्रामक तरीके शुरू किए जाएंगे.

PhonePe ने Walmart से 20 करोड़ डॉलर और जुटाए

Friday March 17, 2023,

3 min Read

डिजिटल पेमेंट्स और फाइनेंशियल सर्विसेज यूनिकॉर्न फोनपे (PhonePe) ने प्राइमरी फंडिंग राउंड में वॉलमार्ट से अतिरिक्त 20 करोड़ डॉलर जुटा चुकी है. इस फंडिंग को मिलाकर कंपनी सभी ग्लोबल इनवेस्टर्स से टोटल 65 करोड़ डॉलर जुटा चुकी है.

कंपनी ने यह फंडिंग 12 अरब डॉलर के प्री-मनी वैल्यूएशन पर जुटाई है. फोनपे ने जनवरी में 1200 करोड़ डॉलर के वैल्यूएशन पर 100 करोड़ डॉलर (8246.18 करोड़ रुपये) जुटाने का ऐलान किया था. 

इसके तहत कंपनी ने जनरल अटलांटिक से 35 करोड़ डॉलर (2886.16 करोड़ रुपये) के साथ-साथ टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, रिबिट कैपिटल और टीवीएस कैपिटल से 10 करोड़ डॉलर (824.62 करोड़ रुपये) हासिल किए थे.

कंपनी को अभी और निवेश मिलने की उम्मीद है. 100 करोड़ डॉलर के लक्ष्य से अभी यह 35 करोड़ डॉलर (2885.94 करोड़ रुपये) दूर है.

फोनपे के फाउंडर और सीईओ समीर निगम ने कहा, हमारे मेजॉरिटी इनवेस्टर वॉलमार्ट को उनके लॉन्ग टर्म सपोर्ट के लिए शुक्रियाअदा करते हैं. यह निवेश मिलने के साथ हम इंडियन कंज्यूमर्स और मर्चेंट्स के लिए तैयार नए प्रॉडक्ट्स ऑफर करने के लिए उत्साहित हैं. इस कदम से साथ हम देश भर में ज्यादा से ज्यादा लोगों डिजिटल फाइनेंस सिस्टम में ला सकेंगे.

फोनपे के मुताबिक इस फंड का इस्तेमाल कंपनी के पेमेंट्स और इंश्योरेंस बढ़ाने में किया जाएगा. लेंडिंग, स्टॉकब्रोकिंग, ओएनडीसी (ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स) पर आधारित शॉपिंग औरअकाउंट एग्रीगेटर्स जैसे नए कारोबार भी आक्रामक तरीके शुरू किए जाएंगे. नए बिजनेस ऑफरिंग्स को अगले कुछ सालों में शुरू करने की योजना है.

फोनपे को 2015 में फ्लिपकार्ट के पूर्व एंप्लॉयीज समीर निगम, राहुल चारी और बुर्जिन इंजीनियर ने शुरू किया था. अगले ही साल 2016 में फ्लिपकार्ट ने इसे खरीद लिया था और कंपनी सिंगापुर शिफ्ट हो गई थी. इसके बाद जब वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को खरीद लिया तो यह वॉलमार्ट के हाथ चली गई.

पिछले साल फोनपे को फ्लिपकार्ट से अलग कर भारत शिफ्ट कर दिया गया. फ्लिपकार्ट से अलग होने और भारत शिफ्ट होने के बाद फोनपे पहली बार भारी-भरकम फंड जुटा रही है. यूपीआई ट्रांजैक्शंस के मामले में 47 फीसदी मार्केट शेयर के साथ यह मार्केट लीडर है. इसके पास 40 करोड़ से अधिक रजिस्टर्ड यूजर्स हैं.

2017 में इसने फाइनेंशियल सर्विसेज की शुरुआत की थी, जिसके अंतर्गत गोल्ड खरीदने, इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने और म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने जैसी सर्विसेज को जोड़ा गया. वॉलमार्ट इंटरनैशनल के प्रेसिडेंट और सीईओ Judith Mckenna ने कहा, ‘हम फोनपे के फ्यूचर प्लान को लेकर बेहद उस्ताहित हैं और उनके प्लान पर पूरा भरोसा है.’ 


Edited by Upasana