डाकघर की किस सेविंग्स स्कीम के लिए कितना मिनिमम बैलेंस जरूरी? ये है डिटेल

बचत खाता मिलाकर डाकघर की कुल 9 सेविंग्स स्कीम्स हैं.

डाकघर की किस सेविंग्स स्कीम के लिए कितना मिनिमम बैलेंस जरूरी? ये है डिटेल

Friday November 18, 2022,

5 min Read

पोस्ट ऑफिस (Post Office) की छोटी बचत योजनाओं (Small Savings Schemes) पर नागरिकों का भरोसा आज भी कायम है. इसकी प्रमुख वजह है कि डाकघर में जमा पैसे पर सॉवरेन गारंटी रहती है, यानी ग्राहक का एक-एक पैसा सुरक्षित होता है. वहीं बैंकों में किसी ग्राहक की केवल 5 लाख रुपये तक की जमा ही इंश्योर्ड होती है. इसके अलावा एक अन्य कारण यह भी है कि स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स पर रिटर्न अच्छा रहता है. इसलिए ये निवेश के लिए आकर्षक विकल्प बनी हुई हैं.

बचत खाता मिलाकर डाकघर की कुल 9 सेविंग्स स्कीम्स हैं. ये स्कीम्स हैं- नेशनल सेविंग्स रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट यानी पोस्ट ऑफिस RD, नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट यानी पोस्ट ऑफिस FD/TD, नेशनल इनकम मंथली इनकम अकाउंट (MIS), सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS), पब्लिक प्रोविडेंट फंड, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC), किसान विकास पत्र (KVP), सुकन्या समृद्धि अकाउंट (SSY) और डाकघर बचत खाता. आज इस रिपोर्ट में हम आपको बता रहे हैं पोस्ट ऑफिस की सेविंग्स स्कीम के तहत किस अकाउंट में कितना मिनिमम बैलेंस रखा जाना जरूरी है...

सेविंग्‍स अकाउंट

पोस्‍ट ऑफिस में 500 रुपये में बचत खाता खुल जाता है. अकांउट में मिनिमम बैलेंस 500 रुपये रखना जरूरी है. ऐसा नहीं होने पर हर वित्त वर्ष के आखिरी दिन खाते से 100 रुपये की मेंटीनेंस फीस काट ली जाएगी. फीस काटने के बाद अगर खाते में बैलेंस निल हो गया तो यह अपने आप बंद हो जाएगा.

पोस्‍ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट (TD)

डाकघर में 1 साल से लेकर 5 साल तक की TD खुलवा सकते हैं. अकाउंट को मिनिमम 1000 रुपये में खुलवाया जा सकता है, मैक्सिमम लिमिट नहीं है. TD सिंगल या जॉइंट में, 10 साल से अधिक उम्र के नाबालिग या दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के नाम पर कराई जा सकती है.

5 साल वाला रिकरिंग डिपॉजिट (RD)

पोस्‍ट ऑफिस में मिनिमम 100 रुपये प्रति माह के इन्‍स्‍टॉलमेंट पर RD खुल जाती है. इसका मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है. इसे 3 साल बाद प्रीमैच्योरली क्लोज करा सकते हैं. अकाउंट को मैच्योरिटी पीरियड खत्म होने के बाद और 5 साल के लिए एक्सटेंड कराने की सुविधा उपलब्ध है.

PPF

पोस्‍ट ऑफिस PPF अकाउंट को मिनिमम 500 रुपये से शुरू किया जा सकता है. अकाउंट में एक वित्त वर्ष में मिनिमम 500 रुपये और मैक्सिमम 1.5 लाख रुपये जमा करना जरूरी है. अगर अकाउंट में मिनिमम सालाना अमाउंट डिपॉजिट न किया गया तो अकाउंट इनएक्टिव हो जाता है और फिर पिछला बकाया, 50 रुपये का चार्ज और एक इंस्टॉलमेंट भरने के बाद ही फिर से एक्टिव होता है.

पोस्‍ट ऑफिस मंथली इनकम स्‍कीम अकाउंट (MIS)

MIS का मैच्‍योरिटी पीरियड 5 साल है. पोस्‍ट ऑफिस MIS में मिनिमम 1000 रुपये से अकाउंट खोला जा सकता है. मैक्सिमम इन्वेस्टमेंट लिमिट सिंगल अकाउंट के लिए 4.5 लाख और ज्वॉइंट अकाउंट के लिए 9 लाख रुपये है.

सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम

SSY अकाउंट को मिनिमम 250 रुपये से शुरू कर सकते हैं. इसमें एक वित्त वर्ष में न्यूनतम जमा 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये तय की गई है. सुकन्या समृद्धि स्कीम में अधिकतम 15 साल तक निवेश किया जा सकता है.

सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS)

इस स्‍कीम का मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है. इस अकाउंट में केवल एक ही बार निवेश किया जा सकता है, जो मिनिमम 1000 रुपये से लेकर मैक्सिमम 15 लाख रुपये तक है. SCSS के तहत 60 साल या उससे ज्यादा की उम्र का व्यक्ति अकाउंट खुलवा सकता है. अगर कोई 55 साल या उससे ज्यादा का है लेकिन 60 साल से कम का है और VRS ले चुका है तो वह भी SCSS में अकाउंट खोल सकता है. लेकिन शर्त यह है कि उसे रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक माह के अंदर यह अकाउंट खुलवाना होगा और इसमें डिपॉजिट किया जाने वाला अमाउंट, रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमांउट से ज्यादा नहीं होना चाहिए.

NSC और KVP

NSC का मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है. इसमें मिनिमम 1000 रुपये से निवेश शुरू किया जा सकता है. निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है. KVP को मिनिमम 1000 रुपये में लिया जा सकता है. मैक्सिमम इन्वेस्टमेंट लिमिट नहीं है.

तिमाही आधार पर तय होता है ब्याज

स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स के लिए ब्याज दर को हर तिमाही पर संशोधित किया जाता है. सरकार ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए कुछ स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स पर ब्याज दरों में 0.3 प्रतिशत तक की वृद्धि की थी. PPF, NSC, सुकन्या समृद्धि स्कीम और डाकघर RD की ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया गया. वहीं अन्य स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स, जिन पर हासिल होने वाली आय कर के दायरे में आती है, पर ब्याज दरों में 0.3 प्रतिशत तक की वृद्धि की गई. ब्याज बढ़ने वाली स्कीम्स हैं- डाकघर एफडी, सीनियर सिटीजन सेंविंग्स स्कीम, किसान विकास पत्र और मंथली इनकम स्कीम. सरकार ने किसान विकास पत्र यानी KVP के लिए मैच्योरिटी पीरियड को घटा दिया है. इसके चलते अब किसान विकास पत्र 124 महीने के बजाय 123 महीने में ही मैच्यो​र हो जाएगा.

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors