दिवाली पर रिलायंस रिटेल स्टोर्स पर मिलेंगी लाल स्वीट्स और चवन्नीलाल हलवाई की मिठाइयां!

By yourstory हिन्दी
October 19, 2022, Updated on : Wed Oct 19 2022 08:06:42 GMT+0000
दिवाली पर रिलायंस रिटेल स्टोर्स पर मिलेंगी लाल स्वीट्स और चवन्नीलाल हलवाई की मिठाइयां!
लड्डू, बर्फी और पेड़ा जैसी ये पैकेज्ड मिठाई रिलायंस रिटेल के ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म JioMart के अलावा सभी रिलायंस किराना स्टोरों जैसे स्मार्ट बाजार, स्मार्ट और अन्य किराना स्टोर्स पर रखी जा रही हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) की रिटेल आर्म, रिलायंस रिटेल (Reliance Retail) ने भारत भर के 50 से अधिक पारंपरिक, क्षेत्रीय मिठाई (मिठाई) निर्माताओं के साथ डिस्ट्रीब्यूशन पार्टनरशिप्स की हें. यह पार्टनरशिप मिठाइयों के वितरण, बड़े पैमाने पर उत्पादन, पैकेजिंग के आधुनिकीकरण और एक्सटेंडेट शेल्फ लाइफ के साथ पारंपरिक भारतीय मिठाई विकसित करने के लिए है. यह जानकारी इकनॉमिक टाइम्स (ET) की एक रिपोर्ट से सामने आई है.


लड्डू, बर्फी और पेड़ा जैसी ये पैकेज्ड मिठाई रिलायंस रिटेल के ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म JioMart के अलावा सभी रिलायंस किराना स्टोरों जैसे स्मार्ट बाजार, स्मार्ट और अन्य किराना स्टोर्स पर रखी जा रही हैं. इसके पीछे मकसद कैडबरी और किटकैट जैसे चॉकलेट ब्रांडों के साथ पारंपरिक मिठाइयों की प्रतिस्पर्धा को मजबूत करना है.

पार्टनरशिप वाले कुछ प्रमुख नाम

रिलायंस रिटेल ने जिन क्षेत्रीय मिठाई निर्माताओं के साथ साझेदारी की है, उनमें से कुछ इस तरह हैं- जयपुर का दूध मिष्ठान भंडार, मैसूर का लाल स्वीट्स, पश्चिम बंगाल का प्रभुजी एंड भीखाराम चांदमल और अजमेर का चवन्नीलाल हलवाई. इस वक्त त्योहारी सीजन है और इसके बाद शादी का सीजन शुरू हो जाएगा. इस दौरान स्वीट्स की बिक्री पीक पर रहती है. ईटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि रिलायंस रिटेल और पारंपरिक मिठाई निर्माताओं के बीच पार्टनरशिप्स के तहत मिठाई के सिंगल सर्व पैक्स भी तैयार किए जा रहे हैं और इन्हें भी किराना स्टोर्स पर रखा जा रहा है.

अभी तक 500 से अधिक पैक और 100 वेरायटी हो चुकीं हैं तैयार

अपने किराने स्टोर्स पर, रिलायंस रिटेल ने पारंपरिक मिठाइयों के लिए कई बे और फ्री स्टैंडिंग यूनिट्स बनाई हैं जैसा कि आधुनिक ट्रेड स्टोर चॉकलेट और कन्फेक्शनरी ब्रांडों के लिए करते हैं. इस साझेदारी के तहत अब तक 500 से अधिक पैक और पारंपरिक मिठाइयों की सौ किस्मों विकसित की जा चुकी हैं. कंपनी और अधिक लोकल मिठाई निर्माताओं के साथ साझेदारी करना चाह रही है.

चॉकलेट्स से 10 गुना ज्यादा बिक्री है टार्गेट

कहा जा रहा है कि रिलायंस रिटेल ने चॉकलेट्स से 10 गुना ज्यादा सेल्स के लिए इंटरनल प्रोजेक्शन सेट किया है. हालांकि पैकेज्ड चॉकलेट निर्माताओं के साथ प्रतिस्पर्धा करना चुनौतीपूर्ण होगा. रिसर्च फर्म IMARC ग्रुप की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय चॉकलेट बाजार 2021 में 2.2 अरब अमेरिकी डॉलर के मूल्य पर पहुंच गया और चॉकलेट के लिए दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक है. शोधकर्ता ने 2027 तक भारतीय चॉकलेट बाजार के 3.8 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंचने का अनुमान लगाया है. चॉकलेट कंपनियों में बड़े नाम मॉन्डेलेज, नेस्ले, मार्स रिगली, फेरेरो हैं. इसके विपरीत पारंपरिक मिठाइयों का बाजार काफी हद तक असंगठित है, जिसमें सैकड़ों विशिष्ट स्थानीय खिलाड़ी हैं.



Edited by Ritika Singh