क्रिप्टोकरेंसी चोरी को रोकने के लिए इस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बनाया खास प्रोटोटाइप

By रविकांत पारीक
September 26, 2022, Updated on : Mon Sep 26 2022 12:03:39 GMT+0000
क्रिप्टोकरेंसी चोरी को रोकने के लिए इस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बनाया खास प्रोटोटाइप
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

एक तो पहले ही क्रिप्टो मार्केट बीते कुछ महीनों से मंदा चल रहा है, और फिर लगातार ख़बरें आती रहीं है कि हैकर्स क्रिप्टो एक्सचेंज और यूजर के वॉलेट्स को निशाना बनाकर क्रिप्टोकरेंसी चुरा रहे हैं. लेकिन अब इस चोरी पर लगाम लग सकती है.


स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी (Stanford University) के शोधकर्ताओं ने कथित तौर पर एक तरह का खास प्रोटोटाइप बनाया है. शोधकर्ताओं ने एथेरियम-बेस्ड रिवर्सिबल ट्रांजेक्शन के लिए यह प्रोटोटाइप तैयार किया है. उनका तर्क है कि इससे क्रिप्टोकरेंसी चोरी में कमी आ सकती है.


Cointelegraph के अनुसार, हाल के एक ट्वीट में, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के ब्लॉकचेन शोधकर्ता कैली वांग (Kaili Wang) ने एथेरियम-ओरिएंटेड रिवर्सिबल टोकन आइडिया का एक रन डाउन शेयर किया, जिसमें कहा गया था कि यह चर्चा को आगे बढ़ाने और ब्लॉकचेन कम्यूनिटी से समाधान प्राप्त करने का प्रोटोटाइप है.


"हमने अब तक जितनी भी हैकिंग देखी हैं, वे निर्विवाद रूप से मजबूत सबूत के साथ चोरी हैं. यदि ऐसी परिस्थितियों में उन चोरी को उलटने का कोई तरीका होता, तो हमारा इकोसिस्टम अधिक सुरक्षित होता. हमारा प्रोटोटाइप केवल जजेज के डिसेंट्रलाइज्ड कोरम द्वारा अप्रूव होने पर ही रिवर्सल की अनुमति देता है," वांग ने कहा.


इस प्रोटोटाइप को स्टैनफोर्ड के ब्लॉकचेन शोधकर्ताओं द्वारा तैयार किया गया था, जिसमें वांग, डैन बोनेह, किनचेन वांग शामिल थे, और इसमें ERC-20 और ERC-721, डब्ड ERC-20R और ERC-721R से संबंधित ऑप्ट-इन टोकन स्टैंडर्ड्स को ERC करार दिया गया था. वांग ने स्पष्ट किया कि प्रोटोटाइप ERC-20 टोकन को बदलने या एथेरियम को रिवर्सिबल बनाने के लिए नहीं था. प्रोटोटाइप टोकन स्टैंडर्ड्स के तहत, यदि किसी की क्रिप्टोकरेंसी चोरी हो जाती है, तो एसेट्स पर एक गवर्नेंस कॉन्ट्रैक्ट के लिए एक फ्रीज रिक्वेस्ट भेजी जा सकती है. ट्रांजेक्शन के दोनों पक्ष न्यायाधीशों के पास सबूत देंगे, ताकि उनके पास उचित निर्णय लेने में सक्षम होने के लिए पर्याप्त जानकारी हो. हालांकि, प्रोटोटाइप ने स्वीकार किया कि फंजिबल टोकन को फ्रीज करना जटिल है, क्योंकि चोर दूसरे अकाउंट्स में फंड्स शेयर कर सकते हैं, एनॉनिमिटी मिक्सर का उपयोग करके उन्हें प्रोसेस कर सकते हैं या दूसरी डिजिटल एसेट्स में एक्सचेंज कर सकते हैं.


इसके अलावा, वांग के ट्विटर पोस्ट ने बहुत चर्चा की, लोगों ने और सवाल पूछे, इस विचार का समर्थन किया, इसका खंडन किया या अपने स्वयं के विचार बताए. ईथर (ETH) बुल और पॉडकास्टर एंथनी सासानो (Anthony Sassano) ने ट्वीट पर अपनी नाराजगी व्यक्त की, और बताया कि रिवर्सल कंट्रोल और उपभोक्ता सुरक्षा को एक्सचेंजों और कंपनियों जैसे उच्च स्तरों पर रखा जाना चाहिए.


सासानो ने कहा, "इसे ERC20/721 स्तर पर करना मूल रूप से "बेस लेयर" पर करना होगा जो मुझे नहीं लगता कि यह सही है. एंड-यूज़र सिक्योरिटी को उच्च स्तर पर रखा जा सकता है जैसे कि फ्रंट-एंड.”


ऐसे में अब देखना होगा कि ये प्रोटोटाइप मार्केट में लागू हो पाता है कि नहीं. अगर लागू होता है तो कब तक? इसके अलावा यह क्रिप्टोकरेंसी को चुराने से रोकने में कितना कारगर साबित होगा? क्या इसके लिए क्रिप्टो एक्सचेंज यूजर्स/ट्रेडर्स से अलग से कोई फीस लेंगे, अधिक सिक्योरिटी का हवाला देकर? आदि कुछ सवाल हैं, जिनके जवाबों के लिए अभी थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा.