500 से ज्यादा मॉमप्रेन्योर को घर का बना खाना बेचने में मदद कर रहा है इंदौर का स्टार्टअप MomsKart

2021 में लॉन्च किए गए, MomsKart के पास अपने प्लेटफॉर्म पर लगभग 1,000 होममेड नॉन-पेरिशेबल फूड प्रोडक्ट्स हैं, जिसमें 500 से अधिक महिला विक्रेता और 5,000 से अधिक ब्लॉगर्स का समुदाय है।

Naina Sood

रविकांत पारीक

500 से ज्यादा मॉमप्रेन्योर को घर का बना खाना बेचने में मदद कर रहा है इंदौर का स्टार्टअप MomsKart

Friday May 06, 2022,

8 min Read

इक्कीस वर्षीय अमन पोरवाल अपनी माँ को एक माता-पिता और एक आंत्रप्रेन्योर की भूमिका के बीच तालमेल बैठाते हुए देखकर बड़े हुए हैं। उनकी आँखों में गर्व और खुशी की भावना ने इंजीनियर को अपनी माँ के घर के बने स्नैक्स को व्यापक दर्शकों तक पहुँचाने में मदद करने के लिए प्रेरित किया था।

शुरुआत करने के लिए, उन्होंने एक छोटी सी वेबसाइट और एक सोशल मीडिया पेज बनाया, जिसका नाम मॉम मेड नमकीन वाला था, और घर पर अपनी माँ द्वारा बनाए गए फूड प्रोडक्ट्स को लिस्ट करना शुरू कर दिया। प्लेटफॉर्म की सफलता ने अमन को यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि यह कैसे इस तरह की और अधिक मॉमप्रेन्योर्स को अपने घर के बने फूड प्रोडक्ट्स जैसे अचार, जैम और स्नैक्स को एक संगठित तरीके से जोड़ने और मोनेटाइज करने में मदद कर सकता है।

जल्द ही, उनकी माँ के लिए शुरू हुआ प्लेटफॉर्म देश भर में अपने घर के बने फूड प्रोडक्ट्स को बेचने वाले विभिन्न राज्यों की 500 से अधिक मॉमप्रेन्योर्स की कम्यूनिटी में बदल गया।

ये माताओं द्वारा बनाए गए घर के बने फूड प्रोडक्ट्स को बेचने वाले ईकॉमर्स मार्केटप्लेस, MomsKartके बुवाई के बीज थे। इनमें 25 दिनों की न्यूनतम शेल्फ लाइफ के साथ अचार, जैम और स्नैक्स जैसे खराब न होने वाले प्रोडक्ट्स शामिल हैं।

MomsKart

वेबसाइट से स्टार्टअप तक का सफर

mom made namkeen wala से MomsKart तक पहुँचने में अमन को लगभग दो साल तक कड़ी मेहनत करनी पड़ी, जो लगातार सीखने की चाह रखते थे।

Acropolis Institute of Technology and Research, Indore में अपने कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग दिनों के दौरान आंत्रप्रेन्योरशिप ने युवा इंजीनियर का ध्यान आकर्षित किया। उन्हें अपने पहले वर्ष के दौरान ई-सेल से परिचित कराया गया था, और स्टार्टअप स्पेस के बारे में तुरंत उत्साहित थे।

“मैं पूरी तरह से आंत्रप्रेन्योर्स की संस्कृति और जुनून से जुड़ा हुआ था। मैं कभी भी एक सेमिनार, गेस्ट लेक्चर, या स्टार्टअप्स से जुड़े वर्कशॉप से नहीं चूका, और शुरू से ही कुछ करने के लिए दृढ़ था, ” अमन कहते हैं।

फाउंडर ने अपने पहले "इन्फॉर्मल वेंचर" के बारे में एक दिलचस्प कहानी साझा की। अमन ने अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए असाइनमेंट / प्रोजेक्ट करने के लिए जूनियर्स के एक ग्रुप को एक साथ रखा था, जो अक्सर विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी के कारण अपने लेक्चर से चूक जाते थे। "मैंने अपनी पूरी इंजीनियरिंग की फीस उस बिजनेस से बनाई," अमन ने बताया।

पकड़े जाने पर डांटने या दंडित होने के बजाय, अमन को उसके ई-सेल प्रोफेसरों द्वारा बिजनेस करने की हिम्मत के लिए सराहना और प्रोत्साहित किया गया। "एक तरह से, इसने मुझे स्टार्टअप की दुनिया में जगह बनाने के लिए आत्मविश्वास और प्रेरणा की भावना दी," वे कहते हैं।

ग्रेजुएशन के दूसरे वर्ष में, अमन ने एक रीसाइक्लेबल बेबी डायपर सॉल्यूशन विकसित किया, जिसे भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) द्वारा आयोजित टॉप 25 इनोवेशंस में शामिल किया गया।

MomsKart

फीडबैक लूप

2019 में मॉम मेड नमकीन वाला का विस्तार करने का फैसला करने के बाद, अमन को पिछले साल MomsKart को बाजार में लाने में लगभग दो साल लग गए। वह अपने बचपन के एक दोस्त और एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर शुभम जैन को MomsKart से जोड़ने में कामयाब रहे। जबकि अमन ने प्रोडक्ट डिपार्टमेंट संभालते हैं। शुभम MomsKart में चीफ़ टेक्नोलॉजी ऑफिसर (सीटीओ) हैं।

“हमने फीडबैक लूप पेश करके प्लेटफॉर्म के निर्माण और सुधार पर आक्रामक रूप से काम किया। मैंने समिट, इवेंट और स्टार्टअप पिचों में भाग लिया, बहुत से विशेषज्ञों के साथ बात की, और प्रोडक्ट में तब तक सुधार किया जब तक हम इसे बाजार में लॉन्च करने के लिए पर्याप्त आश्वस्त नहीं थे, ”अमन कहते हैं, जिन्होंने टेक्नोलॉजी की बेहतर समझ हासिल करने के लिए इससे जुड़े विभिन्न सर्टिफिकेट कॉर्स किए।

इन इवेंट्स के माध्यम से, टीम ने बड़ी मात्रा में नकद और 10,000 डॉलर मूल्य के क्रेडिट पुरस्कार जीते, जिसका उपयोग Momskart के निर्माण के लिए किया गया था। 2021 में, स्टार्टअप Shark Tank India में टॉप 250 स्टार्टअप (85,000 ऐप्लीकेशन में से) में जगह बनाने में सफल रहा।

प्लेटफॉर्म ने 2020 में इंदौर से अपने पहले विक्रेता को ऑनबोर्ड किया। प्लेटफॉर्म तैयार होने के बाद, टीम ने वर्ड-ऑफ-माउथ और सोशल मीडिया के माध्यम से मॉमप्रेन्योर्स से संपर्क करना शुरू कर दिया। दो से तीन महीनों की अवधि में, इसने लगभग 25-30 विक्रेताओं को अपने साथ जोड़ लिया था, और नेटवर्क बढ़ता रहा। आज, इसके जम्मू और कश्मीर, चेन्नई, जामनगर और दार्जिलिंग सहित पूरे भारत में विक्रेता हैं।

अमन कहते हैं, “हमने महिला गृह उद्योग और ऐसे अन्य स्वयं सहायता समूहों से संपर्क किया, जिनमें हस्तनिर्मित / घर के बने प्रोडक्ट्स पर काम करने वाली 10-15 महिलाएं शामिल हैं। हम उन्हें बिचौलियों के माध्यम से जाने के बजाय सीधे अपने प्लेटफॉर्म पर बेचने और अपना खुद का ब्रांड बनाने में मदद करते हैं।”

MomsKart

बिजनेस और रेवेन्यू मॉडल

फाउंडर के अनुसार, MomsKart के प्लेटफॉर्म पर लगभग 1,000 प्रोडक्ट लिस्टेड हैं, जिसमें 500 से अधिक महिला विक्रेता (अतिरिक्त 1,000 आवेदन प्रक्रिया में हैं), और 5,000 से अधिक ब्लॉगर्स की कम्युनिटी है। यह लगभग 20,000 पिन कोड में अपनी सेवाएं दे रहा है, जिसमें अधिकांश मांग मेट्रो शहरों में दर्शकों की "घर के बने प्रामाणिक लोकल फूड प्रोडक्ट्स की चाह" से आती है।

स्टार्टअप ने विक्रेताओं और उनके प्रोडक्ट्स की ऑनबोर्डिं के लिए एक निश्चित बेंचमार्क सेट किया है, और टीम द्वारा उचित परिश्रम किया जाता है। एक बार जब विक्रेता ऐप डाउनलोड कर लेते हैं, तो उन्हें डॉक्यूमेंटेशन जैसी बुनियादी औपचारिकताओं से गुजरना पड़ता है, अपनी प्रोफ़ाइल पूरी करनी होती है, और ट्रेनिंग (ऐप, पैकेजिंग, मार्केटिंग, फाइनेंस का उपयोग कैसे करना है) करनी होती है, जबकि सोर्सिंग टीम प्रोडक्ट्स की क्वालिटी का आकलन करती है।

अमन कहते हैं, "हम प्रोडक्ट्स की क्वालिटी और पैकेजिंग के मामले में मानकीकरण (standardisation) लाने की कोशिश कर रहे हैं, और इसलिए विक्रेता के साथ आगे बढ़ने से पहले कुछ मानक तय किए हैं।"

अभी के लिए, स्टार्टअप साइन-अप या विक्रेताओं को दी जाने वाली ट्रेनिंग के लिए कोई शुल्क नहीं लेता है।

वे अपने प्रोडक्ट्स को एक विशेष बिक्री बिंदु तक मुफ्त में सूचीबद्ध करने और बेचने में सक्षम हैं, और उसके बाद मासिक लेनदेन शुल्क लिया जाता है।

स्टार्टअप के लिए रेवेन्यू का दूसरा स्रोत थर्ड-पार्टी सेलर्स से कमीशन से आता है, जिसमें लॉजिस्टिक्स, पैकेजिंग, मार्केटिंग, सोशल मीडिया आदि शामिल हैं, जो सेलर के ऐप पर अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं। ऐप पर ऐसी लगभग 25 सेवाएं उपलब्ध हैं।

MomsKart माइक्रोफाइनेंस स्पेस की भी खोज कर रहा है और भविष्य में अपने विक्रेताओं को सेवा के रूप में छोटे टिकट वाले लोन प्रदान करेगा।

फाउंडर कहते हैं, “हम इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग में बड़े हैं और हमने 5,000 से अधिक ब्लॉगर्स के साथ करार किया है। हमने अपने प्लेटफॉर्म पर महिला उद्यमियों की प्रेरक कहानियों को साझा करने, प्रेरणा और गति को बनाए रखने के लिए एक अलग सोशल मीडिया हैंडल भी बनाया है।”

स्टार्टअप तीन महीने का इंटर्नशिप प्रोग्राम भी चला रहा है, जहां इंटर्न को मॉमप्रेन्योर के बारे में रिसर्च और बाजार विश्लेषण करने का काम सौंपा जाता है। यह अपने नेटवर्क में अधिक मॉमप्रेन्योर्स को खोजने और जोड़ने का एक तरीका है।

अमन पोरवाल एक्सपो 2020 दुबई में द इंडिया पवेलियन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करते हुए

अमन पोरवाल एक्सपो 2020 दुबई में द इंडिया पवेलियन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करते हुए

मार्केट एनालिसिस और यूएसपी

Shopify, Dukaan, Instamojo, Bikayi, और Udaan सहित विभिन्न प्लेटफॉर्म हैं, जो यूजर्स को प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन बेचने और अपनी ई-कॉमर्स यात्रा शुरू करने की अनुमति देते हैं।

Amazon और Flipkart जैसी लोकप्रिय वेबसाइटें सालों से कारोबार में हैं। इसके अलावा, देश भर में विभिन्न मॉमप्रेन्योर ग्रुप हैं जो महिलाओं को सही संसाधन खोजने और अपना स्मॉल-स्केल बिजनेस ऑनलाइन शुरू करने में मदद करते हैं।

MomsKart के लिए जो चीज बिकती है, वह है इसके लक्षित विक्रेता - 'मॉम्प्रेन्योर्स', विशेष रूप से टियर II, III और IV क्षेत्रों में। इसका लक्ष्य मॉमप्रेन्योर्स की बड़ी कम्युनिटी/नेटवर्क पर खेलना और व्यापक दर्शकों को लक्षित करना है।

“उद्देश्य छोटे क्षेत्रों में महिलाओं को सशक्त बनाते हुए क्षेत्रीय प्रामाणिक प्रोडक्ट्स को एक प्लेटफॉर्म पर जोड़ना है। हमारे प्लेटफॉर्म में अगले तीन वर्षों में अप्रत्यक्ष रूप से लगभग दस लाख महिलाओं को रोजगार देने की क्षमता है, विशेष रूप से महिला गृह उद्योग के माध्यम से,” अमन कहते हैं।

भविष्य की योजनाएं

अपने प्लेटफॉर्म पर उधार सेवाओं को जोड़ने के अलावा, MomsKart भोजन से परे नए प्रोडक्ट्स जैसे हाथ से बने खिलौने, हस्तशिल्प, आभूषण, फर्नीचर आदि को जोड़ना चाहता है।

स्टार्टअप ने अपने प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रोडक्ट्स को बेचने के लिए अपनी सीएसआर नीतियों के तहत सरकार और कॉरपोरेट्स के साथ गठजोड़ करने की भी योजना बनाई है।

यह वर्तमान में लगभग 2-2.5 लाख ($ 2,000-3,000) का मंथली रिकरिंग रेवेन्यू (MRR) है, और वित्त वर्ष 2021 में बतौर रेवेन्यू रुपये 15,27,491 ($20,000) कमाए हैं। MomsKart के पास इस समय 10 लोगों की रिमोट टीम है।

स्टार्टअप में लगभग 10-15 लाख रुपये का निवेश करने वाले अमन कहते हैं, "हम प्रति विक्रेता न्यूनतम 50,000 की मासिक बिक्री का लक्ष्य बना रहे हैं, और इस साल बाहरी फंडिंग जुटाना चाहते हैं।"

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors