EV के लिए चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को प्रमोट करने को लेकर सरकार ने उठाए हैं क्या कदम, ये है डिटेल

इसके अलावा, फेम इंडिया योजना के फेज-2 के तहत 9 एक्सप्रेसवे और 16 राजमार्गों पर 1576 चार्जिंग स्टेशनों को भी मंजूरी दी गई है.

EV के लिए चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को प्रमोट करने को लेकर सरकार ने उठाए हैं क्या कदम, ये है डिटेल

Wednesday December 14, 2022,

2 min Read

सरकार का कहना है कि फेम-इंडिया योजना के फेज-2 के तहत इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के लिए चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए 1000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए है. भारी उद्योग मंत्रालय की ओर से जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि मंत्रालय ने 25 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के 68 शहरों में 2,877 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशनों को मंजूरी दी है. इसके अलावा, फेम इंडिया योजना के फेज-2 के तहत 9 एक्सप्रेसवे और 16 राजमार्गों पर 1576 चार्जिंग स्टेशनों को भी मंजूरी दी गई है. फेम इंडिया योजना के फेज-2 के अंतर्गत स्वीकृत चार्जिंग स्टेशनों का राज्य-वार विवरण इस तरह है...

फेम-इंडिया फेज-2: 68 शहरों में मंजूर हुए 2877 EV चार्जिंग स्टेशन

steps-taken-by-the-government-to-promote-charging-infrastructure-for-electric-vehicles-ministry-of-heavy-industries

फेम-इंडिया फेज-2: 9 एक्सप्रेसवे और 16 राजमार्गों पर मंजूर 1576 चार्जिंग स्टेशन

steps-taken-by-the-government-to-promote-charging-infrastructure-for-electric-vehicles-ministry-of-heavy-industries

फेज-1 की अपडेट

फेम इंडिया योजना के पहले चरण के तहत भारी उद्योग मंत्रालय ने चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने के लिए 520 चार्जिंग स्टेशनों को मंजूरी दी थी. इनमें से 479 चार्जिंग स्टेशन, 7 दिसंबर 2022 तक इंस्टॉल हो चुके हैं. इनकी डिटेल इस तरह है...

steps-taken-by-the-government-to-promote-charging-infrastructure-for-electric-vehicles-ministry-of-heavy-industries

यह पूरी जानकारी केंद्रीय भारी उद्योग राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने एक लिखित उत्तर में लोकसभा में दी है. बता दें कि देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के त्वरित अंगीकरण एवं विनिर्माण के दूसरे चरण (फेम इंडिया फेज 2) को 2019 में मंजूरी दी गई थी. इसके तहत शुरू में प्रति kWh पर 10000 रुपये की सब्सिडी दी जाती थी. बाद में जून 2021 में सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए यह सीमा बढ़ाकर 15,000 रुपये प्रति kWh कर दिया. इसे FAME-II नाम दिया गया. FAME यानी Faster Adoption and Manufacturing of Electric and Hybrid Vehicles.

2 साल में 3000 अतिरिक्त ई-बसों का लक्ष्य

इस साल अक्टूबर मा​ह में भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा था कि फेम-2 योजना के तहत अगले दो साल में देश के विभिन्न शहरों में 3,000 से अधिक अतिरिक्त इलेक्ट्रिक बसें चलने लगेंगी. गुजरात के केवड़िया में आयोजित किए गए 'इंडस्ट्री 4.0' सम्मेलन में पांडेय ने इसकी जानकारी दी थी. उन्होंने बताया था कि फिलहाल देश के विभिन्न हिस्सों में 3,049 इलेक्ट्रिक बसें चल रही हैं.

यह भी पढ़ें
हर साल बिजली बचाने को क्यों कहती है सरकार?


Edited by Ritika Singh