मलेशिया की इस लड़की ने 10 अरब यूएस डॉलर वाली कंपनी खड़ी कर दी है

By Manisha Pandey
June 06, 2022, Updated on : Mon Jun 20 2022 11:46:22 GMT+0000
मलेशिया की इस लड़की ने 10 अरब यूएस डॉलर वाली कंपनी खड़ी कर दी है
महिलाएं जब मालिक और सीईओ बनती हैं तो वो क्‍या करती हैं? वही जो तान हुई कर रही हैं. उनकी कंपनी में 40 फीसदी टॉप बॉस महिलाएं होंगी और औरतों और मर्दों को बराबर सैलरी मिलेगी.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बिल गेट्स, मार्क जुकरबर्ग, एलन मस्‍क और जैक मा को तो सब जानते हैं. लेकिन क्‍या आप 10 अरब यूएस डॉलर की कंपनी ग्रैब की सह संस्‍थापक मलेशिया की इस लड़की तान हुई लिंग को जानते हैं? जाहिर है नहीं जानते होंगे क्‍योंकि ‘गर्ल्‍स हू कोड’ की एक स्‍टडी के मुताबिक दुनिया के टेक मिलियनेयर्स और बिलियनेयर्स मर्दों का नाम तो सब जानते हैं, औरतों का कोई नहीं जानता.


तान हुई के बारे में जरूरी बातें बताने से पहले से बताते हैं कि अभी तान हुई का जिक्र क्‍यों हो रहा है. तान हुई सिंगापुर स्थित अरबों डॉलर की फूड डिलिवरी कंपनी ग्रैब की सह-संस्‍थापक हैं. आज की तारीख में ग्रैब की मार्केट वैल्‍यू 10 अरब डॉलर है. ग्रैब शुरू करने से पहले वो मैकिंजी एंड कंपनी में बिजनेस एनालिस्‍ट थीं.


तान ने जब से टेक की दुनिया में कदम रखा है, ताकत, पैसा और रुतबा हासिल किया है, वो टेक, बिजनेस की दुनिया में मर्दवाद और मर्दों के बनाए नियमों को लगातार चुनौती दे रही हैं.

हाल ही में तान हुई ने घोषणा की है 2030 तक ग्रैब में 40 फीसदी टॉप महत्‍वपूर्ण और आधिकारिक पदों पर औरतें होंगी. साथ ही उन्‍होंने यह भी घोषणा की है कि उनकी कंपनी जेंडर पे गैप को खत्‍म करने के लिए ठोस कदम उठाएगी.


तान हुई ने यह सु‍निश्चित करने का दावा किया है कि उनकी कंपनी में औरतों और मर्दों को समान काम का समान वेतन मिलेगा.

आज की तारीख में टेक वर्ल्‍ड में जेंडर पे गैप 57 फीसदी है. यानि मर्द औरतों के मुकाबले 57 गुना ज्‍यादा पैसा कमा रहे हैं. तान हुई इस यथास्थिति को बदलने और औरतों को मर्दों की बराबरी पर लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.


तान हुई कहती हैं कि टेक वर्ल्‍ड में जेंडर गैप अन्‍य क्षेत्रों के मुकाबले और ज्‍यादा है. कारण यही है कि लड़कियों को विज्ञान, गणित, इंजीनियरिंग और टेक्‍नोलॉजी जैसे विषय पढ़ने के लिए बहुत उत्‍साहित नहीं किया जाता.


स्‍टेम में पूरी दुनिया में महिलाओं की हिस्‍सेदारी का प्रतिशत वैसे भी बहुत कम है. यूनेस्‍को की साल 2019 की एक रिपोर्ट कहती है कि दुनिया में स्‍टेम के क्षेत्र में महज 32 फीसदी महिलाएं हैं.

तान इस यथास्थिति को तोड़ने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं. उनकी कंपनी महिलाओं को लीडरशिप रोल लेने के लिए प्रोत्‍सा‍हित करती है और उसके लिए अलग से लीडरशिप प्रोग्राम भी चलाती है. वह नई आने वाली लड़कियों को गाइड और मेंटर करने के लिए भी प्रोग्राम चलाती हैं.


तान मानती हैं कि जब तक कंपनियां कामकाजी महिलाओं के लिए एक सहयोगपूर्ण माहौल नहीं बनाएंगी, परिवार और मातृत्‍व उनके कॅरियर की राह में एक दीवार की तरह रहेगा और वह बीच रास्‍ते में कॅरियर छोड़ देंगी. उनकी कंपनी में वर्किंग मांओं के लिए हर तरह की सुविधाएं और मौके हैं.