करीब 18 साल बाद टाटा ग्रुप की ये कंपनी ला रही है IPO, जानिए क्या है Ratan Tata की प्लानिंग!

By Anuj Maurya
December 12, 2022, Updated on : Mon Dec 12 2022 06:05:57 GMT+0000
करीब 18 साल बाद टाटा ग्रुप की ये कंपनी ला रही है IPO, जानिए क्या है Ratan Tata की प्लानिंग!
टाटा ग्रुप की एक कंपनी टाटा टेक्‍नोलॉजीज जल्द ही आईपीओ लाने वाली है. ये कंपनी अगले साल अप्रैल-जून में आईपीओ ला सकती है. इसके लिए कंपनी ने तैयारियां शुरू कर दी हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

टाटा ग्रुप (Tata Group) की तरफ से करीब 18 साल बाद एक और कंपनी का आईपीओ लाने की प्लानिंग हो रही है. इस कंपनी का नाम है टाटा टेक्‍नोलॉजीज (Tata Technologies), जिसके IPO की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. टाटा टेक्नोलॉजीज कंपनी दुनियाभर में इंजीनियरिंग और डिजिटल सेवाएं मुहैया कराती है. इससे पहले आखिरी बार 2004 में TCS का आईपीओ आया था. खबर है कि अगले साल अप्रैल-जून में यह आईपीओ बाजार में आ सकता है. भारतीय इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्रीज 2025 तक 300 अरब डॉलर तक पहुंच सकती है. ऐसे में रतन टाटा (Ratan Tata) की नजर इस कारोबार पर बनी हुई है और वह जल्द ही इस बाजार पर अपनी पकड़ बनाने की कोशिश में है.


ईटी नाऊ की खबर के मुताबिक टाटा ग्रुप अपनी कंपनी टाटा टेक्नोलॉजीज का आईपीओ वित्त वर्ष 2023-24 की पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून में ला सकती है. खबर ये भी है कि अगली ही तिमाही में टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीई के लिए डीएचआरपी सेबी में दाखिल की जा सकती है. साथ ही यह भी पता चला है कि अभी टाटा ग्रुप मर्चेंट बैंकर्स के साथ बात कर रहा है, ताकि आईपीओ लाने की दिशा में आगे बढ़ा जा सके. इस आईपीओ के तहत कुछ नए शेयर होंगे और कुछ शेयर ऑफर फॉर सेल के तहत बाजार में जारी किए जाएंगे. कंपनी करीब 10 फीसदी की हिस्सेदारी आईपीओ के तहत ऑफर कर सकती है. इस कंपनी में अभी सबसे बड़ी शेयर होल्डर कंपनी टाटा मोटर्स है, जिसके बाद 72.48 फीसदी हिस्सेदारी है. इसके अलावा Alpha TC Holdings के पास 8.96% हिस्सेदारी है. वहीं बाकी की हिस्सेदारी टाटा ग्रुप के अन्य एंटिटी के पास है.

18 साल बाद आएगा टाटा का कोई आईपीओ

टाटा ग्रुप की करीब आधा दर्जन कंपनियां शेयर मार्केट में लिस्टेड हैं. इसमें से सबसे आखिरी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज़ यानी टीसीएस (TCS) है. TCS का 5500 करोड़ रुपये का आईपीओ 18 साल पहले 2004 में बाजार में आया था, लेकिन उसके बाद ​से टाटा ग्रुप की किसी भी कंपनी का आईपीओ नहीं आया है. TCS का आईपीओ रतन टाटा के दौर में आया था. साल 2017 में एन चंद्रशेखरन (N Chandrasekaran) के टाटा संस (Tata Sons) के चेयरमैन बनने के बाद यह टाटा ग्रुप का पहला आईपीओ होगा. टाटा टेक्नोलॉजीज ने अभी केवल आईपीओ लाने की प्रक्रिया की शुरुआत की है.

तगड़ी कमाई करती है ये कंपनी

वित्त वर्ष 2021-22 में टाटा टेक्‍नोलॉजी की कुल इनकम 3530 करोड़ रुपये थी. इस कंपनी का मुख्यालय पुणे में है. कंपनी के ज्यादातर ग्राहक नॉर्थ अमेरिका, यूरोप और एशिया पैसेफिक तक फैले हुए हैं. कंपनी के चार बिजनेस सेग्मेंटस हैं जिसमें रिसर्च एंड डेवलपमेंट, वैल्यू एडेड रीसेलिंग, इंजीनियरिंग और डिजिटल एंटरप्राइज है. कंपनी आईपीओ के जरिये जुटाए गए फंड का इस्‍तेमाल ई-वाहन सेग्‍मेंट को मजबूती देने और एविएशन सेक्टर को बढ़ावा देने में कर सकती है.

टाटा प्ले का आईपीओ आ सकता है पहले

टाटा टेक्‍नोलॉजीज के अलावा टाटा ग्रुप की एक और कंपनी, टाटा प्ले (Tata Play) भी बाजार में उतरने की तैयारी कर रही है. अगर टाटा प्ले का आईपीओ पहले आ जाता है तो यह करीब 18 साल बाद टाटा ग्रुप की किसी कंपनी का पहला आईपीओ होगा. इकनॉमिक टाइम्स के अनुसार टाटा प्ले जल्द ही आईपीओ के लिए कॉन्फिडेंशियल दस्तावेज दाखिल कर सकती है. टाटा प्ले के ज्वाइंट वेंचर पार्टनर टाटा ग्रुप और द वॉल्ट डिज्नी कंपनी इंडिया कुछ महीने पहले ही आईपीओ के लिए सहमति दे चुकी हैं. निवेशकों के लिए टाटा ग्रुप की आने वाली ये कंपनियां एक शानदार मौका साबित हो सकती है. टाटा ग्रुप के नाम की वजह से कंपनियों को आगे की बढ़त में काफी मदद मिलेगी, जिसका फायदा सीधे तौर पर इन कंपनियों के निवेशकों को मिलेगा.