Tata की कार खरीदनी है तो अभी सही मौका, नए साल में बढ़ सकते हैं दाम

By yourstory हिन्दी
December 06, 2022, Updated on : Tue Dec 06 2022 05:00:48 GMT+0000
Tata की कार खरीदनी है तो अभी सही मौका, नए साल में बढ़ सकते हैं दाम
टाटा मोटर्स भारत में Altroz, टियागो, टिगोर, पंच, नेक्सन, हैरियर और सफारी मॉडल्स की बिक्री करती है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

वाहन कंपनी Tata Motorsअगले महीने यानी जनवरी 2023 से अपने यात्री वाहनों (Passenger Vehicles) की कीमतें बढ़ा सकती है. कंपनी का कहना है कि वह अपने मॉडल्स को 1 अप्रैल, 2023 से लागू होने वाले उत्सर्जन नियमों के अनुरूप बनाने के लिए यात्री वाहनों की कीमतें बढ़ाने पर विचार कर रही है. टाटा मोटर्स के प्रबंध निदेशक (यात्री वाहन-इलेक्ट्रिक वाहन) शैलेश चंद्रा ने PTI-भाषा से कहा है कि कीमतों में संशोधन से जिंस कीमतों के प्रभाव को भी दूर किया जा सकेगा, जो साल के अधिकांश समय ऊंचे स्तर पर बनी रही हैं.


चंद्रा के मुताबिक, ‘‘इस नियामकीय बदलाव का लागत पर भी प्रभाव पड़ेगा. वहीं जिंस कीमतों में नरमी का वास्तविक प्रभाव अगली तिमाही से ही आने वाला है.’’ आगे कहा कि बैटरी की कीमतें भी बढ़ गयी हैं और अभी तक इसका बोझ बाजार पर नहीं डाला गया है. इन सब उच्च कीमतों के चलते हम भी मूल्य संशोधन पर विचार कर रहे हैं. बैटरी की कीमतों और नये नियमों ने ईवी खंड को प्रभावित किया है. उन्होंने यह भी कहा कि विभिन्न मॉडलों को नए उत्सर्जन नियमों के अनुरूप ढालने पर भी लागत आएगी.

किन कारों की करती है बिक्री

टाटा मोटर्स भारत में Altroz, टियागो, टिगोर, पंच, नेक्सन, हैरियर और सफारी मॉडल्स की बिक्री करती है. यह टियागो ईवी और नेक्सन ईवी जैसे उत्पादों के साथ इलेक्ट्रिक वाहन खंड में भी है. नवंबर 2022 में टाटा मोटर्स के यात्री वाहनों की थोक बिक्री 55 प्रतिशत बढ़कर 46,037 यूनिट रही. एक साल पहले की समान अवधि में यह आंकड़ा 29,778 यूनिट था.

दूसरी तिमाही में शुद्ध घाटा कम हुआ

टाटा मोटर्स का चालू वित्त वर्ष 2022-23 की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में शुद्ध घाटा कम होकर 898 करोड़ रुपये रह गया. वित्त वर्ष 2021-22 की जुलाई-सितंबर तिमाही में कंपनी को 4,416 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था. हालांकि, टाटा मोटर्स की कुल आय चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में बढ़कर 80,650 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. इससे पिछले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में यह 62,246 करोड़ रुपये थी.


एकल आधार (Standalone Basis) पर कंपनी का शुद्ध घाटा जुलाई-सितंबर तिमाही में कम होकर 293 करोड़ रुपये पर आ गया. एक साल पहले की इसी तिमाही में शुद्ध घाटा 659 करोड़ रुपये था. एकल आधार पर कंपनी की कुल आय भी चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में बढ़कर 15,142 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में यह 11,197 करोड़ रुपये थी.


Edited by Ritika Singh