टाटा ग्रुप का बड़ा फैसला, TATA Steel में मिल जाएंगी ये 7 कंपनियां, जानिए क्यों किया जा रहा है ये मर्जर

By Anuj Maurya
September 23, 2022, Updated on : Sat Sep 24 2022 05:57:35 GMT+0000
टाटा ग्रुप का बड़ा फैसला, TATA Steel में मिल जाएंगी ये 7 कंपनियां, जानिए क्यों किया जा रहा है ये मर्जर
टाटा की मेटल से जुड़ी सभी कंपनियों का टाटा स्टील में मर्जर हो रहा है. इसके तहत 7 कंपनियां टाटा स्टील में मिल जाएंगी. इस खबर से टाटा स्टील के शेयरों में तेजी देखने को मिल रही है.
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Tata Group की तरफ से एक बड़ा फैसला लिया गया है. इसके तहत टाटा ग्रुप (TATA Group) की सभी मेटल से जुड़ी कंपनियों को एक में ही मर्ज किए जाने की योजना है. सारी मेटल कंपनियों को टाटा स्टील (TATA Steel) में मर्ज किया जाना है, जिसके के लिए बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने मंजूरी भी दे दी है. टाटा स्टील ने स्टॉक एक्सचेंज को इस बारे में जानकारी दे दी है और कहा है कि 7 मेटल कंपनियों का टाटा स्टील में विलय होने को मंजूरी मिल चुकी है.

कौन सी हैं ये 7 कंपनियां?

ये सहायक कंपनियां हैं ‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’, ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’, ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’, ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एस एंड टी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’. बोर्ड ने टाटा स्टील की सहयोगी कंपनी ‘टीआरएफ लिमिटेड’ की भी टाटा स्टील लिमिटेड में विलय को मंजूरी दी, जिसमें कंपनी की 34.11 फीसदी हिस्सेदारी है. इन 7 कंपनियों का विलय टाटा ग्रुप की मेटल से जुड़ी सातवीं कंपनी टाटा स्टील में होगा.

किस कंपनी में टाटा स्टील का कितना है स्टेक?

‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में टाटा स्टील की 74.91% हिस्सेदारी है. वहीं ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’ में 74.96% हिस्सेदारी है. इसके अलावा ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’ में टाटा स्टील की करीब 60.03% और ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में 95.01% हिस्सेदारी है. बाकी बची ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एस एंड टी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’, ये दोनों ही कंपनियां टाटा स्टील के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियां हैं.

क्यों किया ये मर्जर?

कंपनी की तरफ से शुक्रवार को जारी बयान के मुताबिक यह टाटा स्टील की लॉन्ग टर्म स्ट्रेटेजी के तहत किया गया है. इस मर्जर की वजह से टाटा स्टील को पूरे देश में मार्केट और सेल्स के नेटवर्क में मदद मिलेगी. कंपनी के अनुसार इससे रॉ मटीरियल सिक्योरिटी, सेंट्रलाइज्ड प्रोक्योरमेंट, इनवेंट्री का पूरा इस्तेमाल, लॉजिस्टिक्स पर कम खर्च और बेहतर फैसिलिटी यूटिलाइजेशन का फायदा भी मिलेगा.

टाटा स्टील के शेयर पर असर

टाटा स्टील में 7 कंपनियों की खबर से शेयर बाजार में लिस्ट टाटा स्टील के शेयरों में तेजी देखने को मिली. शेयर बाजार खुलते ही टाटा स्टील के शेयर ने लंबी छलांग लगाई और 106.20 रुपये के स्तर पर खुला. हालांकि, बाद में इसमें थोड़ी गिरावट देखने को मिली, लेकिन कारोबार के शुरुआती 2 घंटों तक में टाटा स्टील का शेयर लगातार हरे निशान में कारोबार करता रहा. टाटा स्टील के शेयरों में तेजी को बेहद खास माना जा रहा है, क्योंकि सेंसेक्स में करीब 600 अंकों की गिरावट के बावजूद टाटा स्टील हरे निशान में कारोबार करता दिखा.

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें