कोरोना टीका लगवाने वाले इलेक्ट्रॉनिक दुकानदारों को टेक स्टार्टअप आरज़ू दे रहा है आकर्षक ऑफर, ऐप पर सर्टिफिकेट अपलोड करने पर मिलेगा रिफंड

इसमें दुकान के मालिक को टीका लगवाना होता है और इसके बाद उन्हें अपना टीकाकरण का प्रमाण पत्र आरज़ू ऐप पर अपलोड करना होता है। इसके बाद उन्हें 400 रुपये का तत्काल रिफंड क्रेडिट किया जाएगा।

कोरोना टीका लगवाने वाले इलेक्ट्रॉनिक दुकानदारों को टेक स्टार्टअप आरज़ू दे रहा है आकर्षक ऑफर, ऐप पर सर्टिफिकेट अपलोड करने पर मिलेगा रिफंड

Thursday June 10, 2021,

2 min Read

कोरोना महामारी की तीसरी लहर को दूसरी की तुलना में और अधिक शक्तिशाली मानते हुए इससे बचने के हर संभव उपाय किए जा रहे हैं। इसकी चेन तोड़ने को लेकर निरंतर प्रयास किया जा रहा है।


भारतीय अर्थव्यवस्था का समर्थन करने और लोगों को पूरे भारत में टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करने के लिए भारत की अग्रणी B2B रिटेल टेक स्टार्टअप आरज़ू (Arzooo) ने भारत में प्रत्येक रिटेल दुकानदारों के लिए निश्चित सुविधा शुल्क के साथ बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान की घोषणा की है।


इसमें दुकान के मालिक को टीका लगवाना होता है और इसके बाद उन्हें अपना टीकाकरण का प्रमाण पत्र आरज़ू ऐप पर अपलोड करना होता है। इसके बाद उन्हें 400 रुपये का तत्काल रिफंड क्रेडिट किया जाएगा।

f

सांकेतिक चित्र (साभार: shutterstock)

कंज्यूमर ड्यूरेबल के लिए भारत में 50,000 से अधिक खुदरा दुकानें हैं और आरज़ू का टीकाकरण अभियान उनमें से सभी के लिए खुला है। इसमें वह भी शामिल हैं जो आरज़ू प्लेटफॉर्म पर नहीं हैं। इस टीकाकरण अभियान का उद्देश्य जागरूकता फैलाने के साथ-साथ लोगों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करना है। क्योंकि टीकाकरण ही कोरोना से बचाव का एक बेहतरीन तरीका है


आरजू के सीईओ और को-फाउंडर खुशनुद खान, का कहना है कि कोरोना वायरस का प्रसार शुरू होने के बाद से खुदरा समुदाय सबसे कमजोर रहा है। वे हर रोज दुकान पर आने-जाने वालों के साथ काम करते हैं। कोरोना संक्रमण का खतरा भी खुदरा कारोबारियों पर ज्यादा रहता है। इलेक्ट्रॉनिक्स खुदरा विक्रेताओं के साथ उपभोक्ताओं की बहुत अधिक बातचीत होती है। संकमण का खतरा इसलिए भी ज्यादा रहा। इस अभियान के साथ हमारा लक्ष्य है कि हम अपने व्यापारिक भागीदारों और इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग को सामान्य रूप से इन कठिन समय में सुरक्षित रख सकें।