[Techie Tuesday] ऑयल फील्ड में काम करने से लेकर AI स्टार्टअप बनाने तक, जिसे सिलिकॉन वैली की दिग्गज कंपनी ने लिया खरीद: दीप्ति येनिरेड्डी का सफर

इस हफ्ते के टेकी ट्यूज्डे में आपको दीप्ती येनिरेड्डी से मिलवाने जा रहे हैं। वह फिलहाल अमेरिका की एक यूनिकॉर्न कंपनी Phenom People में कन्वर्सेशनल एआई में प्रोडक्ट डिपार्टमेंट की वाइस-प्रेसिडेंट हैं।

[Techie Tuesday] ऑयल फील्ड में काम करने से लेकर AI स्टार्टअप बनाने तक, जिसे सिलिकॉन वैली की दिग्गज कंपनी ने लिया खरीद: दीप्ति येनिरेड्डी का सफर

Tuesday May 25, 2021,

10 min Read

अमेरिका की यूनिकॉर्न कंपनी Phenom People में कन्वर्सेशनल एआई की वीपी प्रोडक्ट के तौर पर दीप्ति येनिरेड्डी सीख रही हैं कि किसी भी चीज को तेजी से बड़े स्तर पर कैसे बनाया जाता है।


यह दीप्ति के उस समय के अनुभव से काफी अलग है, जब उन्होंने My Ally, नाम से एक एक एचआर टेक स्टार्टअप बनाया। सितंबर 2020 में इस स्टार्टअप का Phenom People ने अधिग्रहण कर लिया।

दीप्ति कहती हैं, "My Ally के फाउंडर के रूप में, मैंने सब कुछ शून्य से बनाया है। यहां, मैं उस सफर को बड़े पैमाने पर जारी रख रही हूं- प्रोडक्ट और तकनीक को शून्य से बनाना, और उसी समय में इसे बड़े स्तर से। यह काफी कुछ मिलता-जुलता है फिर भी बहुत अलग है।”
ि

अपने एक दशक लंबी यात्रा से उन्होंने सीखा कि टेक्नोलॉजी का उपयोग यूजर्स की समस्याओं को हल करने में किया जा सकता है, लेकिन इससे पारदर्शिता और विश्वास लाना आसान नहीं था।

वह कहती हैं, "यूजर्स के लिए टेक्नोलॉजी पर भरोसा करना और अपने निवेश पर सही रिटर्न हासिल करना अहम है। हर कोई एआई के आइडिया को पसंद करता है, लेकिन फिर भी कोई ऐसे ब्लैक बॉक्स पर भरोसा नहीं करता है, जो उनके लिए फैसला ले और जहां वे विभिन्न पहलुओं को नहीं देख सकते हैं।"

यह माई एली के साथ उनके मुख्य कार्यों में से एक था। वह और उनकी टीम एक एक्टिविटी सेंटर का बनाया, जिसने उनके एआई सहायक SKY के फैसले लेने के वर्कफ्लो को खोल दिया था। यह यूजर्स को पैरामीटर बताने में सक्षम था और यूजर्स इसके मॉडल बदल सकते थे। इससे पारदर्शिता आई।


दीप्ति कहती हैं, "यह सिर्फ हमारे नजरिए से तकनीक का उपयोग नहीं करता है, बल्कि विश्वास और सुरक्षा के सभी पहलुओं को ध्यान में रखता है- और यूजर्स के बारे में सोचें। आज हर कंपनी ऐसा करने की कोशिश कर रही है। ऐसे में यूजर्स के हाथों में नियंत्रण की कुछ झलक होनी चाहिए।"

फिजिक्स के प्यार के लिए

दीप्ति शुरू से ही फिजिक्स यानी कि भौतिकी और विज्ञान पसंद था। उनका जन्म हैदराबाद में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिका एक टेनिस कोच और मां हाउसवाइफ थीं। दीप्ति के जीवन में खेल ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके भाई संदीप येनिरेड्डी ने भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टेनिस खेला है।


दीप्ति कहती हैं, “मेरे पिता हमें हर दिन टेनिस खेलने के लिए ले जाते थे। मैंने भी इसे खेला और मुझे यह खेल अच्छा भी लगता था, लेकिन मेरी अधिक दिलचस्पी एनवी स्टेडियम में बने पुस्तकालय में अधिक दिलचस्पी थी। मैंने कॉलेज में टेनिस खेला और आईआईटी मद्रास के लिए स्वर्ण पदक जीता। पढ़ाई का मेरे लिए अहम होने का कारण यह था कि मेरे माता-पिता ने शुरुआत से हमें सीखा दिया कि शिक्षा का जीवन में सबसे अहम रोल होता है।”

दीप्ति अपनी मां और भाई के साथ

दीप्ति अपनी मां और भाई के साथ

दीप्ति की मां चाहती थी कि वह दवा के क्षेत्र में पढ़ाई करें। हालांकि हाई स्कूल में जब वह मैथ्स ओलंपियाड में शीर्ष 10 में आईं, तो वो यह जान गईं कि वह दवा के बजाय गणित और विज्ञान में कुछ करना चाहती हैं।


वह कहती हैं, "मुझे पता था कि सबसे बेहतर विकल्प इंजीनियरिंग था। मुझे फिजिक्स से प्यार हो गया था। आज भी मैं भौतिकी की खोजों के बारे में पूरे जोश के साथ पढ़ती हूं, अपने बेटे के साथ भौतिकी की समस्याओं के बारे में बात करती हूं और इसे पढ़ाना पसंद करती हूं।"


1999-2000 में, दीप्ति ने IIT कॉलेजों के बारे में जाना और इसकी तैयारी करनी शुरू की। 2002 में उनका चयन IIT मद्रास में हो गया।

आईआईटी मद्रास में पढ़ाई

दीप्ति IIT बॉम्बे या IIT मद्रास से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहती थीं। वह IIT मद्रास के लिए चयनित हुईं और अगले चार वर्षों तक वहां पढ़ाई थीं। उनकी 120 लोगों की क्लास में सिर्फ छह लड़कियां थीं, जिसमें में से एक वह भी थीं।

दीप्ति कहती हैं, “आईआईटी मेरे लिए एक जीवन को आकार देने वाला अनुभव था। यह पहली बार था जब मैंने लोगों को चीजों को बनाते और विकसित करते, और चीजों को अपने दम पर करते हुए देखा था। हर दिन लोग नई चीजें बना रहे थे, तकनीकी परीक्षण कर रहे थे। अपने पहले साल में, मैं अपने दम पर सोल्डरिंग कर रही थी, और यह एक किताब से बाहर की चीज नहीं थी। मैं साइकिल के लिए एक उपकरण लगा रही थी, जिससे यह पता लगाया जा सके कि वह कितने किलोमीटर जा रही है।"

इस अनुभव ने उनके जीवन को बदल दिया, और उन्होंने महसूस किया कि ऐसा बहुत कुछ है, जिसे लोग थोड़े से ज्ञान के साथ भी कर सकते हैं। उन्होंने अपने कॉलेज के वर्षों के दौरान कई ऐप और उपकरणों के साथ छेड़छाड़ की। यहां तक कि इन्हें शुरू करने के बारे में भी सोचा।


दीप्ति ने डिसलाइनेशन परियोजनाओं (समुद्र के पानी को पीने योग्य पानी बनाने से जुड़ी परियोजनाओं) और अन्य छोटे आइडिया पर काम किया। हालांकि 2006 आते-आते उन्होंने नौकरी पाने का फैसला किया। उन्होंने 2006 से 2009 तक तेल क्षेत्र की कंपनियों जैसे शलम्बरगर और शेल में काम किया। हालांकि कुछ अपना शुरू करने का विचार हमेशा उनके दिमाग में था।


शलम्बरगर में वह 2006 में शामिल हुई थीं। यहां वह तेल और गैस क्षेत्र के भीतर ONGC आदि कंपनियों को डेटा एकत्र करने के लिए हार्डवेयर उपकरण बनाती और चलाती थीं।


2008 में उन्होंने शेल कंपनी में नौकरी ज्वॉइन किया। वहां उन्होंने विभिन्न देशों में विभिन्न हार्डवेयर टूल से डेटा एकत्र करने और उनकी व्याख्या करने का काम किया। इस दौरान उन्होंने बहरीन, मिस्र और स्कॉटलैंड की यात्रा की।

दीप्ति अपने बेटे के साथ

दीप्ति अपने बेटे के साथ

खुद के लिए खड़ा होना

दीप्ति कहती हैं कि एक चीज हमेशा उनके साथ रही थी कि "मैं हमेशा टीम में शामिल कुछ महिलाओं में से एक होती थी"। वह कहती हैं, "मैंने चीजों को शून्य से बनाना सीखा। मैं अधिक दबाव की स्थितियों में लाखों डॉलर दांव पर लगाकर लोगों की टीमों का प्रबंधन कर रहा था। यह पूरे भारत में दूरदराज के इलाकों में था जहां शौचालय नहीं थे, सोने के लिए जगह नहीं थी ... और मैं अकेली महिला थी।"


इकलौती महिला और टीम में सबसे कम उम्र का सदस्य होने का मतलब था कि आपके लिए पूर्वाग्रह रहेंगे। वह याद करती हैं, “क्लाइंट्स और मेरे अपने साथियों को भी मुझे गंभीरता से लेने में समय लगा। मुझे अतिरिक्त प्रयास करने पड़े। मैं हमेशा एक बाहरी की तरह महसूस करती थी, और मुझे उनसे 20 गुना अधिक मेहनत करनी पड़ती थी, ताकि वो मुझे गंभीरता से लें।"


इसका मतलब यह भी था कि उन्हें एक मोटी चमड़ी विकसित करनी थी, ताकि लोगों की टिप्पणियों का उन पर असर न हो। साथ ही जवाब के तौर पर 'नहीं' शब्द को सुनना सीखना था।

वह कहती हैं, "एक संस्थापक के रूप में, आप हर दिन 'नहीं' सुनते हैं ... आप एक मोटी चमड़ी विकसित करते हैं और यह समझाते हैं कि आप जो देख रहे हैं, उसे कोई भी नहीं देख पा रहा है। एक महिला के तौर पर मुझपर कभी विश्वास नहीं किया गया था, लेकिन इसने मुझे आगे बढ़ाया।”
दीप्ति अपने बिजनेस स्कूल के क्लासमेट्स के साथ

दीप्ति अपने बिजनेस स्कूल के क्लासमेट्स के साथ

बिजनेस से जुड़े पहलुओं को सीखना

2009 में, दीप्ति ने महसूस किया कि उनके पास अमेरिका में बेहतर मौके होंगे, क्योंकि यहीं पर नवीनतम तकनीक और इनोवेशन देखे जा रहे थे। वह समझना चाहती थी कि बिजनेस कैसे चलते हैं। इसके साथ ही उन्होंने अमेरिका के डलास में स्थित साउथ मेथोडिस्ट यूनिवर्सिटी के बिजनेस स्कूल में एडमिशन ले लिया।


जब वह 2011 में पास आउट हुईं, तो उन्हें पता था कि उन्हें मैनेजमेंट से जुड़े अधिक अनुभव की आवश्यकता है और उन्होंने सिल्वर क्रीक वेंचर पार्टनर्स और ओपेनहाइमर फंड्स जैसी शुरुआती चरण की वीसी फर्मों में काम किया। वह 2014 के अंत तक यूजीएसटी इन्वेस्टर्स एलपी में काम करती रहीं।


दीप्ति कहती हैं, "मैं वीसी, स्टार्टअप और बनाई जा रही सबसे बड़ी कंपनियों के बारे में बहुत उत्साहित हूं। 2013 मैं मैंने एक बेटे को जन्म दिया और यह मेरे लिया अहम था। क्योंकि मुझे पता था कि मुझे आगे कुछ शुरू करना है। मुझे लगा कि अगर मैं जो कर रही हूं, उसे जारी रखती हूं तो मैं किसी के लिए कोई वैल्यू नहीं जोड़ूंगीं। इसके कारण मैंने कुछ अपना शुरू करने का निर्णय हुआ।”

एलबी स्टेडियम, हैदराबाद में दीप्ति

एलबी स्टेडियम, हैदराबाद में दीप्ति

My Ally को शुरू करना

2015 में, दीप्ति ने IIT मद्रास के अपने एक दोस्त के साथ माई एली की शुरुआत की। यह एआई-संचालित कार्यकारी सहायक के रूप में शुरू हुआ, जो एनएलपी और एमएल के जरिए बैठकें आयोजित करेगा, जो दीप्ति के बिजनेस लाइफ में दर्द देने वाला व्यक्तिगत बिंदु रहा था।


इसने हायरिंग प्रक्रिया के ऑटोमैटिक समाधान बिंदु के रूप में विकसित हुआ, जहां उन्होंने इस तथ्य पर ध्यान केंद्रित किया कि व्यावसायिक परिस्थितियों में एआई के निर्माण में सटीकता की आवश्यकता है।

वह कहती हैं, "आपको इसे एक सीमित तरीके से कार्य करने के लिए मार्गदर्शन की आवश्यकता है, और यह तय करें कि कंपनियों में साक्षात्कार कैसे होते हैं। इसने प्रोडक्ट को सफलता मिलनी शुरू हुई; फिर इसे एक पूर्ण मंच पर विस्तार दिया गया। हमारा एआई कंपनी और उम्मीदवारों के बीच बातचीत को ऑटोमैटिक करेगा।”

माई एली एक एआई शक्ति वाल एचआर ऑटोमेशन सॉल्यूशन है। इसने स्टॉर्म वेंचर्स से फंड जुटाया था। गोकुल राजाराम जैसे सिलिकॉन वैली के दिग्गज इसमें निवेशक थे, और उनके पास Booking.com और SAP जैसे क्लाइंट थे। सितंबर 2020 में, इसे एचआर टेक इंडस्ट्री की एक दिग्गज कंपनी, फेनोम पीपल ने खरीद लिया।


आज, माई एली लाखों बैठकों को ऑटोमैटिक करता है और ग्राहकों के लिए 70 प्रतिशत से अधिक दक्षता लाभ प्रदान करता है।

आईआईटी मद्रास में

आईआईटी मद्रास में

यूजर्स पर ध्यान केंद्रित करना

दीप्ति अब मजबूत और जिम्मेदार तकनीक बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। वह उत्पाद प्रबंधकों और इंजीनियरों को दो अलग-अलग नजरिए से देखती है। वह कहती हैं, "मुझे लगता है कि एक उत्पाद में जो चीज मेरे लिए सबसे अहम है, वह है यूजर्स के प्रति काफी सहानुभूति रखना। एक प्रोडक्ट मैनेजर को हर तरह से यूजर्स के नजरिए से सोचना चाहिए। डेटा-केंद्रित और गुणात्मक नजरिए का इस्तेमाल करें और यूजर्स पर ध्यान केंद्रित करें।”


उनका मानना है कि इंजीनियर दो प्रकार के होते हैं: पहले वे जो जल्दी से कोड करते हैं और शुरुआती चरण में बेहद महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि संस्थापकों को ऐसे लोगों की जरूरत होती है जो तेजी से निर्माण कर सकें, और दूसरे वे जो सुव्यवस्थित होते हैं और उनका एक शानदार ट्रैक रिकॉर्ड होता है (चीजों को बड़े स्तर पर ले जाने के लिए जरूरी)।

दीप्ति सभी महिला तकनीकी विशेषज्ञों को खुद पर विश्वास करने की सलाह देती हैं। वह कहती हैं, "हम यहां एक कारण के लिए हैं, [और महसूस नहीं करना चाहिए] बाहरी महसूस कराने वाला सिंड्रोम, जो हमें महसूस करता है कि हम उस जगह के लायक नहीं है। हम हर जगह के लिए लायक हैं।"

वह कहती हैं कि टेकी लोगों के लिए ऐसे प्रोडक्ट बनाना महत्वपूर्ण है, जो समुदाय के लिए अच्छा हो।


वह कहती हैं, “हर उत्पाद का मकसद अधिक लाभ और पैसा बनाना होता है। तेजी से ग्रोथ सबकी जरूरत है, लेकिन इसके साथ सभी के लिए क्या अच्छा है, यह सोचना भी जरूरी है। हमें सुरक्षा और भरोसे के बारे में सोचने की जरूरत है, अगर हम इसमें से कुछ भी खो रहे हैं, तो इसका मतलब है कि हम हम एक राक्षस बना रहे हैं।”


सभी लीडर्स को अपनी शीर्ष तीन प्राथमिकताओं पर ध्यान केंद्रित करना सीखना चाहिए और अपने द्वारा चुनी गई तीन प्राथमिकताओं के लिए वे जो कुछ भी करते हैं उसे सुव्यवस्थित करना चाहिए।

दीप्ति कहती हैं, "वह आपका ध्रुव तारा है। मैं हमेशा एक कदम पीछे हट कर यह सोचती हूं कि क्या मैं जो कुछ भी कर रहा हूं, वह मेरी शीर्ष तीन प्राथमिकताओं के मुताबिक है। मैंने वह सब कुछ छोड़ दिया है, जो उनसे संबंधित नहीं है। आपके पास हमेशा कुछ करने के लिए होता है। हर कोई आपके लिए अलग चीजें लाता है, लेकिन क्या वे आपकी तीन सर्वोच्च प्राथमिकताओं में हैं?"

Edited by रविकांत पारीक