हृदय रोग विशेषज्ञ से उद्यमी बने इस कार्डियोलॉजिस्ट ने वायु प्रदूषण से लड़ने के लिए शुरू किया एक पर्यावरण तकनीक स्टार्टअप

By Thimmaya Poojary
August 18, 2021, Updated on : Wed Aug 18 2021 13:57:05 GMT+0000
हृदय रोग विशेषज्ञ से उद्यमी बने इस कार्डियोलॉजिस्ट ने वायु प्रदूषण से लड़ने के लिए शुरू किया एक पर्यावरण तकनीक स्टार्टअप
अल्ट्रासाउंड वाली ‘तकनीक’ से वायु प्रदूषण दूर कर रहा है ये स्टार्टअप, कार्डियोलॉजिस्ट ने ईजाद की खास मशीन
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"पर्यावरण तकनीक स्टार्टअप डेविक अर्थ की स्थापना कार्डियोलॉजिस्ट डॉ श्रीकांत सोला ने की है। यह स्टार्टअप वर्कप्लेस पर वायु प्रदूषण को कम करने के लिए एआई-संचालित पल्स रेडियो वेव टेक्नालजी का उपयोग करता है।" 

क

डॉ. श्रीकांत ने एक उपकरण बनाने के विचार पर काम करना शुरू किया, जो कारखानों, गोदामों, शैक्षणिक संस्थानों समेत बड़े इनडोर कार्यस्थलों में वायु प्रदूषण को कम कर सके।

‘इलाज से बेहतर है परहेज’, यह कहावत शायद पर्यावरण तकनीक स्टार्टअप डेविक अर्थ के मिशन का समर्थन करती है। बेंगलुरु मुख्यालय वाले स्टार्टअप की स्थापना 2018 में कार्डियोलॉजिस्ट डॉ श्रीकांत सोला ने की थी, जो स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से स्नातक हैं। डॉ. श्रीकांत एक नवीन रूप से निर्मित डिवाइस के माध्यम से कार्यस्थलों पर वायु प्रदूषण को कम करना चाहते हैं।


डॉ. श्रीकांत एक हृदय रोग विशेषज्ञ हैं, जो पहले क्लीवलैंड क्लिनिक में काम कर चुके हैं। हालाँकि, अपने देश की सेवा करने की उनकी इच्छा ने उन्हें 2008 में भारत वापस आने के लिए प्रेरित किया था। श्री सत्य साईं इंस्टीट्यूट ऑफ हायर मेडिकल साइंसेज, बेंगलुरु में कार्डियोलॉजी विभाग में काम करते हुए डॉ श्रीकांत ने एक चिंताजनक तथ्य को सबके सामने रखा था।


योरस्टोरी से बात करते हुए डॉ. श्रीकांत कहते हैं,

“मैंने बहुत से ऐसे रोगियों को देखा जो अपेक्षाकृत युवा थे लेकिन दिल की समस्याओं से पीड़ित थे। कुछ अध्ययन के बाद अहसास हुआ कि यह मुख्य रूप से बढ़े हुए वायु प्रदूषण के कारण था।”


दरअसल, कुछ मामलों में डॉ. श्रीकांत ने युवा लोगों को इस बीमारी की चपेट में आकर बेहाल होते हुए या कई बार मरते हुए देखा था।

ऐसे हुई शुरुआत

डॉ. श्रीकांत कहते हैं,

“मैं पूरे दिन एंजियोप्लास्टी कर सकता हूं, लेकिन यह कोई स्थायी हल नहीं होगा। इसलिए मैंने कुछ ऐसा बनाने का फैसला किया जो बड़े स्थानों में हवा की गुणवत्ता को बेहतर बना सके।”


उन्होंने एक उपकरण बनाने के विचार पर काम करना शुरू किया, जो कारखानों, गोदामों, शैक्षणिक संस्थानों समेत बड़े इनडोर कार्यस्थलों में वायु प्रदूषण को कम कर सके। इस परियोजना पर एक टीम के साथ काम करने के अलावा, उन्होंने हृदय रोग विशेषज्ञ के रूप में अपने ड्यूटी को निभाया।

पर्यावरण प्रौद्योगिकी स्टार्टअप के पास भारत और अमेरिका में स्थित अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) टीमें हैं।


इस उपकरण को बनाने की प्रेरणा उन्हें उनके चिकित्सा पेशे से मिली। अस्पतालों में उपयोग किए जाने वाले अल्ट्रासाउंड उपकरण छवियों को प्राप्त करने के लिए पल्स का उपयोग करते हैं और उन्होंने प्रदूषक सामग्री की पहचान करने के लिए उसी सिद्धांत को लागू किया।


इसके अलावा, जिस तरह से प्रकृति हवा से प्रदूषकों को हटाती है, जहां सभी कण एक बड़े द्रव्यमान में जमा हो जाते हैं, जिसे बाद में बहाया जा सकता है, इसमें डेविक अर्थ के लिए भी वायु शुद्धिकरण उपकरण विकसित करने के सिद्धांत के रूप में काम किया है।


बायोमेडिकल इंजीनियरिंग की पृष्ठभूमि से आने वाले डॉ श्रीकांत को डेविक अर्थ के उत्पाद प्योर स्काईज़ को विकसित करने में लगभग 10 साल लगे। इस बीच उन्होंने वायु प्रदूषण से निपटने के लिए अपनी पूरी ऊर्जा समर्पित करने के लिए अपनी प्रैक्टिस को छोड़ दिया था।


डॉ श्रीकांत कहते हैं,

"हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि तकनीक प्रभावी, सुरक्षित और मजबूत हो, जो सभी परिस्थितियों में काम कर सके।"

कैसा है यह उत्पाद?

डेविक अर्थ का प्योर स्काई डिवाइस गैसीय और कण प्रदूषकों को संभालने के लिए वाई-फाई सक्षम तकनीक का उपयोग करती है। प्योर स्काई पीएम10 और पीएम2.5 जैसे कणों और 1माइक्रोन से नीचे के नैनो आकार के कणों को लक्षित करता है।


उनके अनुसार, प्योर स्काई अपने प्रतिस्पर्धियों से अलग है क्योंकि यह एक कृत्रिम बुद्धिमत्ता से संचालित पल्स रेडियो वेव टेक्नालजी का उपयोग करता है, जो हवा में प्रदूषकों को जमीन पर रहने और फिर उन्हें दूर करने का काम करता है।

क

पल्स रेडियो वेव टेक्नालजी कुछ समय से हमारे आसपास रही है, जहां इसका उपयोग मिट्टी, पानी और वायु प्रदूषण से निपटने के लिए किया गया है। हालांकि, इन उपकरणों ने उच्च ऊर्जा खपत के चलते बहुत प्रगति नहीं की है।


इस स्टार्टअप के अनुसार, इसके उत्पाद की परिचालन लागत कम है और टेक्नालजी इसे व्यापक क्षेत्र को कवर करने में सक्षम बनाती है। अभी स्टार्टअप बी2बी मार्केट सेगमेंट पर फोकस कर रहा है।


डेविक अर्थ के पास कवर किए जाने वाले क्षेत्र के आधार पर रेट के साथ एक सदस्यता सेवा है। यह कम से कम 5 एकड़ क्षेत्र के लिए 12,999 रुपये प्रति एकड़ और घर के अंदर के लिए न्यूनतम 20,000 वर्ग फुट के लिए 1.99 रुपये प्रति वर्ग फुट है।


स्टार्टअप इस सेगमेंट में कई खिलाड़ियों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है, जिसमें हनीवेल, शार्प, डायसन, फिलिप्स आदि शामिल हैं।

उत्पाद का प्रभाव

डेविक अर्थ ने अपने उत्पाद को भारत में 40 स्थानों पर स्थापित किया है और संस्थापक का दावा है कि इसने कम वायु प्रदूषण के परिणामस्वरूप बेहतर स्वास्थ्य के कारण कार्यस्थलों पर उच्च उत्पादकता को बढ़ावा दिया है।


डॉ श्रीकांत कहते हैं,

"बिजली संयंत्र, सीमेंट, खनन, आदि सहित सेगमेंट में कंपनियों से हमारे उत्पाद के लिए स्वागत बहुत मजबूत रहा है।"


2021 में डेविक अर्थ ने Blue Ashva Capital से प्री-सीरीज़ A राउंड में 10 करोड़ रुपये जुटाए हैं। सिंगापुर और भारत स्थित ये निवेश फर्म स्थायी और लाभदायक व्यवसायों का समर्थन करती है, जो कृषि, डी-कार्बोनाइजेशन, सर्कुलर इकोनॉमी और एसएमई सहित मुख्य क्षेत्रों में वास्तविक चुनौतियों का समाधान कर रहे हैं।


अपनी भविष्य की योजनाओं के हिस्से के रूप में, डेविक अर्थ इस साल अपने उत्पाद की लगभग 150 स्थापनाओं को जोड़ना चाहता है। इसके अलावा, यह अगले साल मध्य पूर्व, दक्षिण पूर्व एशिया और अमेरिका जैसे अन्य बाजारों में भी विस्तार करने जा रहा है। डेविक अर्थ अब इसी तकनीक का उपयोग करके जल प्रदूषण को कम करने के क्षेत्र में आने की योजना बना रहा है।


डॉ श्रीकांत कहते हैं,

"हम एक अग्रणी वैश्विक हरित टेक्नालजी कंपनी बनना चाहते हैं, जिसके उत्पाद उपयोग में आसान और किफायती हों।"


Edited by Ranjana Tripathi