कैसे अपने बांस उत्पादों के साथ ओडिशा में आदिवासी महिलाओं को सशक्त बना रहा है कर्मार क्राफ्ट्स

कैसे अपने बांस उत्पादों के साथ ओडिशा में आदिवासी महिलाओं को सशक्त बना रहा है कर्मार क्राफ्ट्स

Tuesday September 21, 2021,

6 min Read

फाल्गुनी जोशी इस बात को लेकर काफी परेशान थीं कि ओडिशा के नीलगिरी के आदिवासी समुदाय के लिए आजीविका का एकमात्र साधन खदानों में काम करना था, जो उनके स्वास्थ्य और कल्याण के लिए हानिकारक था। 


आय का एक वैकल्पिक स्रोत बनाने के लिए, उन्होंने आदिवासी महिलाओं को बांस की बुनाई का प्रशिक्षण देना शुरू किया।


फाल्गुनी को शुरू में शिल्प सीखने और इसे आय के स्रोत के रूप में अपनाने के बीच समुदाय के प्रतिरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन अब 300 से अधिक आदिवासी महिलाएं उनके साथ काम करती हैं। उन्होंने अपने स्वयं के पैसों का उपयोग करके पहले बैच को प्रशिक्षित किया, जिसके बाद उत्पादों के पहले बैच की बिक्री से प्राप्त आय को व्यवसाय में फिर से लगाया गया और इससे महिलाओं और व्यवसाय को आत्मनिर्भर बनाने में मदद मिली। 


चूंकि ओडिशा में बांस आसानी से उपलब्ध है, इसलिए बुनाई एक आसान विकल्प बन गया और आदिवासी महिलाओं के लिए राजस्व सृजन का एक अच्छा स्रोत बन गया।


संस्थापक की योजना कर्मार क्राफ्ट्स में अधिक महिलाओं को प्रशिक्षित करने और भर्ती करने की है, और इस स्वदेशी शिल्प को दुनिया को दिखाने के लिए अपने बांस उत्पादों के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाने का लक्ष्य है। 

k

बांस सबसे लचीली घासों में से एक है। इसका उपयोग सदियों से घर बनाने के लिए किया जाता रहा है और अब यह एक ऐसे अद्भुत, मजबूत और कलात्मक उत्पाद बनाने में मदद करने के लिए विकसित हुआ है जिसका उपयोग हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं।

योरस्टोरी ने फाल्गुनी से उनके सामने आने वाली चुनौतियों और भविष्य के लिए उनकी योजनाओं पर बात की। इंटरव्यू के संपादित अंश-


योरस्टोरी: कर्मार शिल्प शुरू करने के लिए आपको किस बात ने प्रेरित किया?

फाल्गुनी जोशी: ओडिशा के नीलगिरी के आदिवासी समुदाय के पास आय का केवल एक स्रोत था - पास की खदान में काम करना। इसका असर उनके स्वास्थ्य और बच्चों के स्वास्थ्य पर भी पड़ाता था। आजीविका के वैकल्पिक स्रोतों की कमी ने मुझे कर्मार क्राफ्ट्स शुरू करने के लिए प्रेरित किया।


योरस्टोरी: आपकी शुरुआती चुनौतियाँ क्या थीं और आपने उनसे कैसे पार पाया?

फाल्गुनी: बांस शिल्प को आजमाने और उसे अपनी कमाई का जरिया बनाने के लिए महिलाओं की प्रारंभिक अनिच्छा, हिचकिचाहट और चिंता ही एकमात्र चुनौती थी। चूंकि यह शिल्प एक निश्चित समुदाय से जुड़ा था, इसलिए वे झिझक रहे थे। यह देखकर कि वे खुलकर सामने आने के लिए संघर्ष कर रहे थे, मैंने भी उनके साथ शिल्प सीखना शुरू कर दिया। कुछ दिनों में, मैं उन्हें उनके घरों से उठाकर लाती और प्रशिक्षण के बाद वापस छोड़ देती थी।


योरस्टोरी: क्या आपको अपने जेंडर के कारण किसी चुनौती का सामना करना पड़ा?

फाल्गुनी: यह एक दुखद वास्तविकता है कि इस युग में भी महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक माना जाता है। उद्यमी समुदाय में 80 प्रतिशत से अधिक पुरुष शामिल हैं। मैं अक्सर ऐसे पुरुषों से मिलती हूं जो सोचते हैं कि मैं किसी रोल के लिए फिट नहीं हूं और उम्मीद करते हैं कि मैं केवल एक आदमी की मदद कर रही हूं। मैंने बिजनेस डील, कई बड़ी बिजनेस डील खो दीं क्योंकि कुछ लोग एक महिला उद्यमी के विचार को स्वीकार नहीं कर सके। मैं इन बातों का मुझ पर ज्यादा असर नहीं होने देती क्योंकि मुझे एक महिला होने पर गर्व है; मुझे एक उद्यमी होने पर गर्व है!


मुझे गर्व है कि मैं ओडिशा में 300 से अधिक महिला कारीगरों के साथ काम करती हूं। यह केवल शुरुआत है, और कोई भी जेंडर गैप और असमानता मुझे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने से हतोत्साहित या विचलित नहीं कर सकती है।


योरस्टोरी: क्या इसके पीछे कोई कारण है कि आपने कर्मार क्राफ्ट्स शुरू करने के लिए बांस शिल्प पर ही ध्यान केंद्रित किया है?

फाल्गुनी: बांस सबसे लचीली घासों में से एक है। इसका उपयोग सदियों से घर बनाने के लिए किया जाता रहा है और अब यह एक ऐसे अद्भुत, मजबूत और कलात्मक उत्पाद बनाने में मदद करने के लिए विकसित हुआ है जिसका उपयोग हम अपने दैनिक जीवन में करते हैं। बांस का उपयोग न केवल शिल्प या भवन निर्माण के लिए किया जाता है; बल्कि बम्बू शूट (shoot) एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य भोजन भी है क्योंकि यह पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ-साथ प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भी भरपूर होता है। ग्रामीण महिलाओं के लिए बांस आसानी से उपलब्ध भी था क्योंकि यह उनकी अपनी जमीन पर उगता था ... कम खर्च और अधिक लाभ!

क

ओडिशा में बांस आसानी से उपलब्ध है, जिसने बुनाई को एक आसान विकल्प और आदिवासी महिलाओं के लिए राजस्व सृजन का एक अच्छा स्रोत बना दिया है।

महामारी के कारण कारीगर ऑर्डर के आधार पर काम करते हैं। उन्हें बिना किसी छिपी हुई फीस के उनकी सेवाओं के लिए भुगतान किया जाता है। हम अपने मास्टर प्रशिक्षकों को विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों के लिए भी भेजते हैं जो उन्हें उद्यमियों और कारीगरों के रूप में विकसित होने में मदद करते हैं। जैसा कि कर्मार क्राफ्ट्स दिसंबर 2019 में शुरू हुआ, इसलिए महामारी ने कारीगरों की आय को भी प्रभावित किया। महामारी ने हमें तगड़ा झटका दिया, लेकिन हम विकास पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।


योरस्टोरी: डिजिटल क्रांति ने कई स्टार्टअप की मदद की है। क्या इससे कर्मार क्राफ्ट्स को लाभ हुआ है?

फाल्गुनी: डिजिटल क्रांति ने अवसरों, बाजारों, प्रमोशन और संस्कृतियों के मामले में दुनिया को करीब लाते हुए अवसरों की एक विस्तृत श्रृंखला लाई है। इन महिलाओं के प्रयासों को प्रदर्शित करने और उन्हें एक मंच और कई अवसर देकर कर्मार को फायदा हुआ है।


योरस्टोरी: आपके और आपके साथ काम करने वाली ग्रामीण महिलाओं के लिए सशक्तिकरण का क्या अर्थ है?

फाल्गुनी: मेरे लिए, सशक्तिकरण का अर्थ है - अपनी पसंद और खुद की आवाज का होना। मैं राजस्थान के सबसे रूढ़िवादी समाजों में से एक में पली-बढ़ी हूं। मैंने देखा कि मेरे परिवार की महिलाएं परेशान थीं क्योंकि उनके पास कोई विकल्प या आवाज नहीं थी। इस दुनिया में महिला सशक्तिकरण लैंगिक समानता हासिल करने की दिशा में एक छोटा कदम है।


योरस्टोरी: अगले पांच वर्षों के लिए आपकी क्या योजनाएं हैं?

फाल्गुनी: कर्मार क्राफ्ट्स आज गर्व से 300 महिला कारीगरों के साथ जुड़ा हुआ है; हमने सिर्फ तीन महिलाओं के साथ शुरुआत की थी! अगले पांच वर्षों में हमारा लक्ष्य विदेशों में अपने कारोबार का विस्तार करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाना है और भारतीय ग्रामीण समाजों में महिलाओं के लिए एक प्रेरणा के रूप में खड़ा होना है। हमारी अगले कुछ महीनों में 100 और महिलाओं को बांस शिल्प में प्रशिक्षित करने की योजना है। हम प्रशिक्षण प्रदान करके अधिक से अधिक कारीगरों को छत्र के नीचे लाना चाहते हैं, जिससे महिलाओं को स्वतंत्रता और आत्मनिर्भरता प्राप्त करने में मदद मिलेगी।


योरस्टोरी: महिला उद्यमियों के लिए स्टार्टअप इकोसिस्टम कैसा है?

फाल्गुनी: मेरे दिमाग में एक तस्वीर थी कि केवल पुरुष उद्यमी ही सफल होते हैं। जब मैंने हर एंड नाउ प्रोजेक्ट में प्रवेश किया तो मैं गलत साबित हुई। यह एक पहल है जो महिला उद्यमियों को सशक्त बनाती है और जीआईजेड द्वारा, जर्मन संघीय आर्थिक सहयोग और विकास मंत्रालय (बीएमजेड) की ओर से और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई), भारत सरकार के साथ साझेदारी में कार्यान्वित की जाती है।


इसने मुझे आत्मविश्वास, व्यावसायिक ज्ञान और जीवन भर का अनुभव दिया। मुझे ऐसी प्रेरक और व प्रतिभाशाली महिलाओं से मिलने का अवसर दिया गया, जो मेरी कहानी से मेल खाती हैं, सहानुभूति रखती हैं, और मुझे और मेरे काम का समर्थन करती हैं।


स्टार्टअप इकोसिस्टम में महिला उद्यमियों ने भाईचारे का एक बंधन बनाया है जो आने वाली पीढ़ियों और बड़े सपने देखने वाली युवा लड़कियों को प्रेरित करेगा।


Edited by Ranjana Tripathi

Daily Capsule
Physics Wallah’s UAE expansion
Read the full story