अपनी नौकरी खोने के बाद, आंध्र प्रदेश के मंडसा के दो इंजीनियरों ने बनाया ग्रोसरी-डिलिवरी ऐप

By yourstory हिन्दी
October 15, 2020, Updated on : Mon Oct 19 2020 04:05:06 GMT+0000
अपनी नौकरी खोने के बाद, आंध्र प्रदेश के मंडसा के दो इंजीनियरों ने बनाया ग्रोसरी-डिलिवरी ऐप
ए रूपेश और वाई ढिल्ली राव ने मंडसा, श्रीकाकुलम के निवासियों के लिये किराने का सामान देने वाला एक ऐप बनाया है। वे 1,000 रुपये से नीचे की खरीद पर 9 रुपये डिलिवरी चार्ज लेते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के अनुसार, लॉकडाउन घोषित होने के ठीक बाद, अप्रैल के महीने में अनुमानित 1.2 करोड़ लोगों ने अपनी नौकरी खो दी। जबकि कई लोगों को अभी भी नई नौकरियां नहीं मिली हैं, ऐसे ही कुछ आंध्र प्रदेश में श्रीकाकुलम जिले के मंडसा के के दो इंजीनियरों के साथ हुआ। लेकिन वे हिम्मत नहीं हारे और कुछ नया करने और व्यवहारिक आजीविका खोजने की कोशिश कर रहे हैं।


ए रूपेश और वाई ढिल्ली राव जिन्होंने क्रमशः एक सिविल इंजीनियर और एक रोबोटिक इंजीनियर के रूप में काम किया, ने महामारी में समस्या का अपना समाधान ढूंढ लिया।

ढिल्ली राव ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया, "हम अप्रैल में शहर लौट आए और सितंबर के अंत तक बेरोजगार रहे। यह शहर कुल एक महीने से अधिक समय तक लॉकडाउन के अधीन था और आंशिक लॉकडाउन अभी भी लागू है। जैसा कि लोग लॉकडाउन के दौरान घर पर रहने के लिए मजबूर हैं, उन्हें आवश्यक सामान प्राप्त करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ा था। हमने इसके बारे में कुछ करने का सोचा।''

जिले में मामलों की बढ़ती संख्या के कारण, उन्होंने SSV Egrocery नामक एक ऑनलाइन शॉपिंग ऐप पेश करने का फैसला किया, और होम डिलीवरी सुविधाओं और थोक डीलरों के साथ मिलकर गुणवत्ता की वस्तुओं की खरीद करने का फैसला किया।

ए रूपेश और वाई ढिल्ली राव (फोटो साभार: द न्यू इंडियन एक्सप्रेस)

ए रूपेश और वाई ढिल्ली राव (फोटो साभार: द न्यू इंडियन एक्सप्रेस)

द लॉजिकल इंडियन के अनुसार, ढिल्ली ने कहा, "हम सुनिश्चित करते हैं कि एक घंटे के भीतर वस्तुओं को ग्राहकों तक पहुंचाया जाए। हमने बहुत कम निवेश के साथ कारोबार शुरू किया, जिसमें से कुछ ऐप के डेवलपमेंट पर भी खर्च किए गए और साथ ही विज्ञापन के लिए भी।"


यह ऐप 1,000 रुपये से कम की खरीदारी पर लोगों को घर तक सामान पहुंचाने के लिए केवल 9 रुपये का शुल्क प्राप्त करता है। एक छोटा शहर होने के बावजूद, ऐप ने प्रति दिन 30 का ऑर्डर काउंट देखा है।


लगभग दो सप्ताह पहले शुरू किया गया व्यवसाय फल, सब्जियां और किराने का सामान वितरित करता है। यह जोड़ी दो टाइम स्लॉट्स में काम करती है - सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक और शाम 5 बजे से 7 बजे तक।


मंडासा के रहने वाले बी शिव प्रसाद ने कहा, “मैंने कुछ दिनों पहले 800 रुपये की सब्जियां और फल ऑर्डर किए और उन्हें 45 मिनट में डिलीवर कर दिया गया। संक्रमण के जोखिम के बीच बाजार में जाने के बजाय, मैं एप्लिकेशन पर ऑर्डर देता हूं। SSV EGrocery ऐप पर ऑर्डर देने के आधे घंटे बाद ही मुझे डिलीवरी मिल गई और वे बाजार मूल्य से भी कम लेते हैं।”