2030 तक इन उत्पादों में जीवाश्म ईंधन आधारित रसायनों का इस्तेमाल बंद कर देगी यूनिलीवर

By yourstory हिन्दी
September 03, 2020, Updated on : Thu Sep 03 2020 06:16:30 GMT+0000
 2030 तक इन उत्पादों में जीवाश्म ईंधन आधारित रसायनों का इस्तेमाल बंद कर देगी यूनिलीवर
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कंपनी की इस पहले से सर्फ, सनलाइट, विम और डोमेक्स जैसे वैश्विक सफाई और कपड़े धोने के ब्रांडों में बदलाव आएगा।

चित्र साभार

चित्र साभार: Glassdoor



उपभोक्ता वस्तुएं बनाने वाली प्रमुख कंपनी यूनीलीवर ने कहा है कि वह एक अरब यूरो की ‘स्वच्छ भविष्य निवेश पहल’ के तहत 2030 तक स्वच्छता एवं धुलाई उत्पादों में जीवाश्म ईंधन आधारित रसायनों का इस्तेमाल बंद कर देगी।


यूनीलीवर ने कहा कि वह अपने सफाई एवं धुलाई उत्पादों में कार्बन आधारित जीवाश्म ईंधन का इस्तेमाल पूरी तरह बंद कर देगी और उसकी जगह नवीकरणीय कार्बन का उपयोग करेगी।


कंपनी की इस पहले से सर्फ, सनलाइट, विम और डोमेक्स जैसे वैश्विक सफाई और कपड़े धोने के ब्रांडों में बदलाव आएगा।


इस निवेश के जरिए ऐसे उत्पाद विकसित किए जाएंगे जिनके लिए कम पानी की जरूरत हो और जो प्राकृतिक रूप से नष्ट हो जाएं। इसके साथ ही कंपनी 2025 तक नई प्लास्टिक के इस्तेमाल को घटाकर आधा करेगी।


इसके पहले यूनिलीवर ने साल 2039 अपने सभी उत्पादों को कार्बन उत्सर्जन से मुक्त करने के लक्ष्य की घोषणा की थी।


(सौजन्य से- भाषा पीटीआई)