दिल्ली स्थित इस स्पोर्ट्स स्टार्टअप ने पीपीई किट का निर्माण कर 5 महीने में कमाया 4.5 करोड़ रुपये का राजस्व

By Rashi Varshney
September 02, 2020, Updated on : Wed Sep 02 2020 07:31:30 GMT+0000
दिल्ली स्थित इस स्पोर्ट्स स्टार्टअप ने पीपीई किट का निर्माण कर 5 महीने में कमाया 4.5 करोड़ रुपये का राजस्व
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोविड-19 से झटका मिलने के बाद पिता-पुत्र की जोड़ी के स्पोर्ट्स स्टार्टअप स्पोर्टवोल्ट ने पीपीई किट का निर्माण किया और मेड इन इंडिया ब्रांड बनने पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए एक लाख से अधिक किट बेची हैं।

क्षितिज तिवारी और उनके पिता कर्नल प्रकाश तिवारी

क्षितिज तिवारी और उनके पिता कर्नल प्रकाश तिवारी



कोविड-19 महामारी ने अधिकांश उद्योगों को एक गंभीर झटका दिया है और शैक्षणिक संस्थान भी इससे अछूते नहीं हैं। महामारी के चलते देश भर में स्कूल और कॉलेज अचानक बंद हो गए।


संस्थानों के बंद होने से कंपनियों और उनसे जुड़ी सेवाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। स्पोर्टवोल्ट, दिल्ली स्थित एक स्टार्टअप भी इससे प्रभावित हुआ है, जो खेल पाठ्यक्रम, प्रशिक्षित और संबद्ध कोच और खेल के बुनियादी ढांचे से लेकर शिक्षण संस्थानों तक उपलब्ध कराता है।


जिस कंपनी ने 2016 में दिल्ली के धौला कुआं में आर्मी पब्लिक स्कूल (एपीएस) में शून्य निवेश और एक पायलट प्रोजेक्ट के साथ शुरुआत की थी, उसके राजस्व में पहले ही साल से 50 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये तक की बढ़ोतरी देखी गई।


लेकिन मार्च 2020 में देशव्यापी लॉकडाउन लागू होने के बाद स्पोर्टवोल्ट के काम में भी गिरावट देखी गई।


30 वर्षीय स्पोर्टवोल्ट के सह-संस्थापक और सीईओ क्षितिज तिवारी का कहना है कि लॉकडाउन ने कंपनी को कड़ी टक्कर दी और यह स्पष्ट हो गया कि जल्द ही व्यापार में कोई उछाल के आसा नहीं थे।


क्षितिज कहते हैं, “हम वित्तीय वर्ष 2020 में लाभप्रदता देख रहे थे, लेकिन बहुत कम ही लोग जानते थे कि महामारी हमें इस तरह प्रभावित करेगी।"


क्षितिज और उनके पिता कर्नल प्रकाश तिवारी जो कि पूर्व आर्मी मैन और स्पोर्टवोल्ट के सह-संस्थापक हैं, वे इस संकट के सामने विचलित नहीं हुए हैं।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मानिर्भर भारत के नारे से प्रेरित होकर पिता-पुत्र की जोड़ी व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) के निर्माण के लिए तैयार हुई और तिवारी समूह नामक एक नई कंपनी की स्थापना की।

पीपीई बायोलॉजिकल एजेंटों के लिए अपने जोखिम को कम करके स्वास्थ्य सेवा श्रमिकों की सुरक्षा के लिए सुरक्षात्मक गियर हैं। पीपीई में गॉगल्स, फेस-शील्ड्स, मास्क (सर्जिकल/ एन -95), दस्ताने (सर्जिकल/ परीक्षण), कवरल/ गाउन (एप्रन के साथ या बिना), हेड कवर और शू कवर शामिल हैं।




बड़ा मौका

क्षितिज का कहना है कि यह संयोग था। स्पोर्टवोल्ट में टीम चिकित्सा उपकरण विक्रेताओं के साथ संपर्क में थी क्योंकि यह खेल-संबंधी फिजियोथेरेपी के साथ काम कर रहे थे। अप्रैल में एक व्यक्ति उनके पास आया जिसने थोक में पीपीई किट खरीदने के बारे में पूछताछ की। वह व्यक्ति पहले चीन से किट मंगवाता था और महामारी के कारण आपूर्ति बंद हो गई थी।


यह क्षितिज के लिए एक बड़ा मौका बन गया। वो कहते हैं,

“मैंने देखा कि भारत में बहुत कम विक्रेता पीपीई किट बना रहे थे और हम एक देश के रूप में मांग में अचानक वृद्धि को पूरा करने के लिए पर्याप्त उत्पादन नहीं कर रहे थे। मुझे लगता है कि भारत के लिए यह उन वस्तुओं के एक मैनुफेक्चुरिंग केंद्र बनने के लिए सबसे अच्छा समय था।”

उसी समय के आसपास, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने स्वास्थ्य कर्मियों के लिए पीपीई के तर्कसंगत उपयोग और अन्य लोगों के लिए दिशानिर्देशों का एक सेट जारी किया, जो एंट्री, क्वारंटाइन केंद्रों, अस्पतालों, प्रयोगशालाओं, प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा और सामुदायिक सेटिंग्स के विभिन्न बिंदुओं पर काम करते हैं।


क्षितिज का कहना है कि वह पीपीई किट निर्माताओं के पास पहुंच गए और डॉक्टरों से सलाह के आधार पर डिजाइन के साथ आए और उनका निर्माण शुरू किया।


क्षितिज ने कहा,

"इस तरह के दृष्टिकोण ने न केवल एक व्यवसाय के रूप में महामारी से निपटने में हमारी मदद की, बल्कि छोटे और मध्यम निर्माताओं को भी मदद की, जिन्होंने अन्यथा अपना कारोबार बंद कर दिया था।"

उनका कहना है कि लक्षित दर्शकों के संदर्भ में दो खंड थोक में पीपीई किट खरीद रहे हैं- सरकार और कॉरपोरेट फर्मों की कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) और कंपनी अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए दोनों को लक्षित कर रही है।


सीएसआर में कंपनी पहले ही आईसीआईसीआई फाउंडेशन, कैपजेमिनी फाउंडेशन और पेट्रोनेट एलएनजी से सौदे कर चुकी है।


एक इंवेस्ट इंडिया रिपोर्ट, जिसने पीपीई बाजार के आंकड़ों का दस्तावेजीकरण किया है, बताती है कि वैश्विक पीपीई किट बाजार अब 52 बिलियन डॉलर का है और 2025 में 92 बिलियन डॉलर को पार करने की उम्मीद है। अकेले भारत 7,000 करोड़ रुपये (लगभग 1 अरब डॉलर) का बाजार है।
पीपीई किट

पीपीई किट



निवेश, योजनाएं और धन

क्षितिज का कहना है कि पिछले पांच महीनों में तिवारी ग्रुप ने 4.5 करोड़ रुपये से अधिक का राजस्व कमाया है।


उनका कहना है कि अब तक एक लाख से अधिक पीपीई किट का निर्माण और बिक्री की जा चुकी है और संख्या बढ़ रही है।


इसके अलावा कंपनी ने ATEK डिफेंस के साथ भी समझौता किया है और बुलेट प्रूफ जैकेट जैसे रक्षा और रक्षा कवच के लिए अधिकृत डीलर बन गई है। यह तिवारी समूह के तहत एक अलग डिवीजन के रूप में टॉयलेट पेपर का निर्माण शुरू करने की योजना बना रहा है।


अपने पिछले उद्यम स्पोर्टवोल्ट की तरह टीम ने इस व्यवसाय को भी बूटस्ट्रैप करने की योजना बनाई है और अब तक इसमें 35 लाख रुपये का निवेश किया है।


क्षितिज ग्रुप का कहना है, 'तिवारी ग्रुप हेल्थकेयर, डिफेंस और इंफ्रा सेक्टर में कदम रख रहा है।'


वे कहते हैं,

"हमारा उद्देश्य स्थानीय स्वामित्व के साथ व्यावसायिक मॉडल का निर्माण और रखरखाव करना है और वास्तव में एक मेड इन इंडिया ब्रांड बन गया है।"