इन जोड़ियों ने साथ मिलकर शुरू किया था कारोबार, आज सफल बिजनेस में गिना जाता है नाम

ऐसे कई स्टार्टअप्स हैं जिन्हें कपल-प्रेन्योर्स ने शुरू किया था और आज एक ऊंचे मुकाम पर पहुंचा दिया है. इस वैलेंटाइन डे पर आइए ऐसे ही कुछ स्टार्टअप्स पर नजर डालते हैं जिन्हें न सिर्फ कपल-प्रेन्योर्स ने शुरू किया बल्कि अपनी कैटेगरी में लीडर्स भी बन चुके हैं.

इन जोड़ियों ने साथ मिलकर शुरू किया था कारोबार, आज सफल बिजनेस में गिना जाता है नाम

Tuesday February 14, 2023,

4 min Read

बीते कुछ सालों में भारतीय स्टार्टअप ईकोसिस्टम में कपल प्रेन्योर्स का ट्रेंड काफी चलन में नजर आया है. कपल-प्रेन्योर्स यानी पति और पत्नी के द्वारा साथ में चलाए जा रहे स्टार्टअप्स का. ऐसे कई स्टार्टअप्स हैं जिन्हें कपल-प्रेन्योर्स ने शुरू किया था और आज एक ऊंचे मुकाम पर पहुंचा दिया है.


इस वैलेंटाइन डे पर आइए ऐसे ही कुछ स्टार्टअप्स पर नजर डालते हैं जिन्हें न सिर्फ कपल-प्रेन्योर्स ने शुरू किया बल्कि अपनी कैटेगरी में लीडर्स भी बन चुके हैं.

Mamaearth

mamaearth founders

Mamaearth का नाम तो आपने सुना ही होगा. मामाअर्थ होनासा कंज्यूम प्राइवेट लिमिटेड की एक वेंचर है. इसे गजल अलग और वरुण सिंह ने 2016 में शुरू किया था.


पति-पत्नी दोनों ने अपनी मेहनत और लगन के दम पर इस कंपनी को 2022 में यूनिकॉर्न कंपनी क्लब में शामिल करा दिया. मामाअर्थ सभी पर्सनल केयर सेगमेंट में प्रॉडक्ट्स बनाती है और यह अपने कंज्यूमर्स के तौर पर युवाओं से लेकर स्किन केयर को प्राथमिकता देने वाले लोगों को टारगेट करती है.


4 सालों के अंदर-अंदर ब्रैंड के पोर्टफोलियो में 120 से ज्यादा प्रोडक्ट्स हैं और 25 लाख कस्टमर्स हैं. मामाअर्थ की को-फाउंडर गजल अलग को शार्ट टैंक के पहले सीजन में जज के तौर भी देखा गया था.

CashKaro

cashkaro founders

CashKaro को स्वाति और रोहन भार्गव ने मिलकर 2013 में शुरू किया था. CashKaro इलेक्ट्रॉनिक्स से लेकर फूड, क्लोदिंग, कॉस्मेटिक्स और ग्रोसरी जैसे वर्टिकल में ऑनलाइन शॉपिंग पर बड़े डील और डिस्काउंट ऑफर करती है.

CashKaro ने इंडिया में एमेजॉन, फ्लिपकार्ट, मेकमाईट्रिप जैसे 1500 से ज्यादा ईकॉमर्स के साथ पार्टनरशिप की है. इन रिटेल प्लैटफॉर्म्स पर कैशकरो के जरिए जो भी सेल्स होती है उस पर ये ईटेलर्स से कमिशन चार्ज करती है. अपने कमिशन का 70 फीसदी हिस्सा कंज्यूमर्स को कैशबैक की तरह वापस कर देती है.

ये कैशबैक असल अमाउंट होता है, यानी इसे यूजर्स अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं. या फिर ऐमजॉन/फ्लिपकार्ट गिफ्ट वाउचर्स की तरह रिडीम भी कर सकते हैं.

कंपनी ने रतन टाटा, कलारी कैपिटल, और कोरिया इनवेस्ट्मेंट पार्टनर्स जैसे निवेशकों से पैसे जुटाए हैं. स्वाति और रोहन की मुलाकात लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स में हुई थी और दोनों तभी से साथ हैं. 2009 में दोनों ने शादी की थी.

 

कैशकरो अपने CashKaro, EarnKaro, CashKaro स्टोर्स, BankKaro जैसे कई ऐप्स के जरिए कूपन्स, प्राइस कंपैरिजन और रिवॉर्ड्स ऑफर करती है.

कंपनी 2 करोड़ मेंबर्स को 1500 से ज्यादा ईकॉमर्स साइट्स पर ऑनलाइन शॉपिंग करने के साथ ही कैशबैक और रिवॉर्ड्स हासिल करने का मौका देती है.

कैशकरो ने पिछले 2 सालों में अच्छी खासी ग्रोथ हासिल की है. कंपनी का रेवेन्यू FY21 में 100 करोड़ रुपये था जो FY22  में 225 करोड़ रुपये हो गया है. साथ ही CashKaro ने सीरीज C में एफल ग्रुप समेत अन्य निवेशकों से 130 करोड़ रुपये की फंडिंग भी जुटाए हैं.

Chumbak

chumbak fouders

Chumbak के फाउंडर्स शुभ्रा चड्डा और विवेक प्रभाकर की 2005 में शादी हुई थी और 2009 में दोनों ने मिलकर चुंबक की शुरुआत की. चुंबक एक लाइफस्टाइल ब्रैंड है जो खूबसूरत और यूनिक होम डेकोर और फैशन एक्सेसरीज की रेंज ऑफर करता है.

इन कपल-प्रेन्योर्स ने रंगों के रंगीन भारतीय कॉम्बिनेशन वाले प्रोडक्ट्स को पॉपुलर करने के इरादे से बनाया गया था. 14 सालों में चुंबक आज भारत में बेंगलुरु, मुंबई और दिल्ली जैसे शहरों में काफी पॉपुलर ब्रैंड बन चुका है.


चुंबक के बेंगलुरु और दिल्ली में फ्लैगशिप स्टोर्स हैं और साथ-साथ ऑनलाइन स्टोर्स भी हैं. फ्लैगशिप स्टोर्स के अलावा चुंबक के पूरे देश में 54 रिटेल स्टोर्स और कई अन्य ईकॉमर्स प्लैटफॉर्म पर भी मौजूद है.

SUGAR Cosmetics

sugar cosmetics

SUGAR Cosmetics भारत में प्रीमियम कॉस्मेटिक्स कंपनियों में से एक है. यह ब्रैंड खास तौर पर मिलेनियल्स को टारगेट करता है. SUGAR कॉस्मेटिक्स को कौशिक मुखर्जी और विनीता सिंह ने 2012 में शुरू किया था.


विनीता कंपनी की सीईओ हैं और कौशिक मुखर्जी COO हैं. ब्रैंड के लिप्स, आई, फेस, नेल्स और स्किन कैटेगरीज में बेस्ट सेलिंग प्रोडक्ट्स हैं. कंपनी इंडिया ही नहीं जर्मनी, इटली, यूएस और कोरिया जैसे देशों में भी अपने प्रोडक्ट्स बेचती है. 

The Quorum

The quorum founders

विवेक नारायण और सोन्या जेहान ने 2018 में The Quorum की शुरुआत थी. ये देश का पहले कंटेम्पररी प्राइवेट मेंबर्स क्लब है.

Quorum वर्क और सोशल लाइफस्टाइल क्लब है जिसके सेंटर में कल्चर और कम्यूनिटी हैं. इसे खासतौर पर ग्लोबल इंडियन सिटिजन के लिए बनाया गया है.

विवेक ने इस क्लब को इंडिया में मौजूदा मेंबर्स ओनली क्लब का परिदृश्य बदलने के इरादे से शुरू किया था. वहीं सोन्या की एस्थेटिक और आर्टिस्टिक स्किल ने The Quorum’s को ब्रैंड इमेज दिलाई. ब्रैंड का गुड़गांव और मुंबई में डुअल क्लब नेटवर्क है और हाल ही में हैदराबाद में तीसरा क्लब लॉन्च किया है.

Quorum's के क्लब की कम्यूनिटी में आंत्रप्रेन्योर्स, वेंचर कैपिटलिस्ट्, CXOs, बैकर्स, ऑथर्स, जर्नलिस्ट्स, आर्टिस्ट्स, फिल्ममेकर्स और पब्लिक फिगर्स शामिल हैं.