जिस यूनिवर्सिटी में मां पढ़ी बेटे ने उसी की 100 लड़कियों को Vedanta में दी नौकरी

लिंक्डइन पर अपने विस्तृत नोट में, अग्रवाल ने कहा कि उनकी मां, जिन्हें वह प्यार से 'मां जी' कहते हैं, ने इसी यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की थीं. उन्होंने यह भी कहा कि वह कई वर्षों तक भारत के सबसे पुराने महिला विश्वविद्यालय की अपनी यात्रा को याद रखेंगे.

जिस यूनिवर्सिटी में मां पढ़ी बेटे ने उसी की 100 लड़कियों को Vedanta में दी नौकरी

Wednesday February 22, 2023,

3 min Read

वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड (Vedanta Resources Limited) के चेयरमैन अनिल अग्रवाल (Anil Agarwal) ने बुधवार को लिंक्डइन पर राजस्थान के टोंक जिले में स्थित बनस्थली यूनिवर्सिटी (Banasthali University) के अपने हाल के दौरे के बारे में अपडेट साझा किया. अरबपति बिजनेसमैन ने यहां अपनी पुरानी यादें साझा की.

बनस्थली यूनिवर्सिटी की उनकी ये यात्रा आकस्मिक नहीं थी. उन्होंने कहा कि उन्होंने बनस्थली से 100 से अधिक "प्रतिभाशाली महिलाओं" को हायर किया जो अब वेदांता के लिए काम करेंगी.

"मैं हाल ही में एक ऐसी यूनिवर्सिटी में गया था जहाँ लड़कियां न केवल टेक्नोलॉजी की चैंपियन हैं और विमान उड़ाती हैं, बल्कि हमारी दुनिया की टॉप सीईओ और लीडर बनने की राह पर हैं. यह किसी भी कंपनी के लिए सौभाग्य की बात होगी कि ये महिलाएं उनके विकास की नई इबारत लिखेंगी. मुझे यकीन है कि ये उज्ज्वल युवा दिमाग न केवल वेदांता, बल्कि हमारे भारत को भी आगे बढ़ाएंगे,” उन्होंने अपनी पोस्ट के कैप्शन में लिखा.

लिंक्डइन पर अपने विस्तृत नोट में, अग्रवाल ने कहा कि उनकी मां, जिन्हें वह प्यार से 'मां जी' कहते हैं, ने इसी यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की थीं. उन्होंने यह भी कहा कि वह कई वर्षों तक भारत के सबसे पुराने महिला विश्वविद्यालय की अपनी यात्रा को याद रखेंगे.

"मेरी मां जी ने यहां पढ़ाई की है और इस हॉस्टल में रहती थीं जहां मैं खड़ा हूं, इसलिए वहां जाना ऐसा लगा जैसे किसी तीर्थ स्थान (पवित्र तीर्थ) पर जा रहा हूं," उन्होंने विश्वविद्यालय के बाहर खड़े खुद की एक तस्वीर साझा करते हुए बताया.

यूनिवर्सिटी में माइनिंग बॉस ने 17,000 लड़कियों से मुलाकात की. उन्होंने लिखा, "उनके सपनों को साकार करने के लिए संकल्पित..."

69 वर्षीय दिग्गज बिजनेसमैन ने कहा कि वह उनकी आंखों में "जुनून" और "विश्वास" देख सकते हैं. उन्होंने कैप्शन में लिखा, "ये बेटियां मिसाल हैं की (भारत की बेटियां एक उदाहरण हैं) महिलाएं बेहतर के लिए हमारी दुनिया को बदल सकती हैं और बदल देंगी."

भारत की महिलाओं को भारतीय देवी दुर्गा, लक्ष्मी और सरस्वती का संस्करण बताते हुए बिजनेस टाइकून ने कहा कि इस संस्था ने उनके विश्वास को मजबूत किया कि आज की महिलाएं "कल की दुनिया का नेतृत्व करेंगी."

उन्होंने अपने पोस्ट में कहा, "मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि हम बनस्थली से 100 से अधिक प्रतिभाशाली महिलाओं को भर्ती करने और हमारे साथ काम करने में सक्षम हैं. मुझे यकीन है कि ये उज्ज्वल युवा दिमाग न केवल वेदांता, बल्कि भारत का भी विकास करेंगे."

इससे पहले, अग्रवाल ने भारत की महिलाओं की सराहना करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया. उन्होंने कहा कि महिलाएं हर क्षेत्र में देश का नेतृत्व कर रही हैं.

उन्होंने अगले 25 वर्षों में भारत के बारे में अपने दृष्टिकोण को साझा करते हुए कहा कि India at 100 का नेतृत्व महिलाओं द्वारा किया जाएगा. उन्होंने कहा कि महिलाएं न केवल हमारे देश का नेतृत्व कर रही हैं बल्कि देश भर में हमारी कंपनियों और समुदायों का नेतृत्व भी कर रही हैं.