रोम रैंकिंग सीरीज कुश्ती प्रतियोगिता: स्वर्ण के लिये भिड़ेंगी विनेश, अंशु ने रजत जीता

रोम रैंकिंग सीरीज कुश्ती प्रतियोगिता: स्वर्ण के लिये भिड़ेंगी विनेश, अंशु ने रजत जीता

Saturday January 18, 2020,

3 min Read

भारतीय पहलवान विनेश फोगाट ने चीन की दो प्रतिद्वंद्वियों को पस्त करते हुए शुक्रवार को यहां रोम रैंकिंग सीरीज कुश्ती प्रतियोगिता की 53 किग्रा स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश किया जबकि युवा पहलवान अंशु मलिक को 57 किग्रा फाइनल में हारने से रजत पदक से संतोष करना पड़ा। विनेश ने क्रिस्टिना बेरेजा (10-0) और लैनुआन लुओ (15-5) के खिलाफ तकनीकी श्रेष्ठता के बूते जीत हासिल की जिसके बाद उन्होंने कियानयु पांग (4-2) को शिकस्त दी।


k

फोटो क्रेडिट: Amar Ujala



रोम, भारतीय पहलवान विनेश फोगाट ने चीन की दो प्रतिद्वंद्वियों को पस्त करते हुए शुक्रवार को यहां रोम रैंकिंग सीरीज कुश्ती प्रतियोगिता की 53 किग्रा स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश किया जबकि युवा पहलवान अंशु मलिक को 57 किग्रा फाइनल में हारने से रजत पदक से संतोष करना पड़ा।


विनेश ने क्रिस्टिना बेरेजा (10-0) और लैनुआन लुओ (15-5) के खिलाफ तकनीकी श्रेष्ठता के बूते जीत हासिल की जिसके बाद उन्होंने कियानयु पांग (4-2) को शिकस्त दी।


यूक्रेन की बेरेजा के खिलाफ विनेश ने ‘डबल लेग’ आक्रमण से जीत हासिल की तो लुओ पर क्वार्टरफाइनल की जीत काफी मुश्किल रही, हालांकि स्कोर लाइन से ऐसा नहीं दिखता।


लुओ मजबूत प्रतिद्वंद्वी थी जो पहले पीरीयड के बाद 5-2 से बढ़त बनाये थीं लेकिन विनेश ने कुछ चतुर प्रयासों से दूसरे पीरियड में अंक जुटाये। दो बार उन्होंने लुओ को पैर से गिराया।


पांग के खिलाफ सेमीफाइनल में विनेश पूरी तरह से नियत्रंण में थी और 4-0 से आगे थी लेकिन अंत में दो अंक गंवा बैठीं।


विनेश का सामना अब सत्र के पहले स्वर्ण के लिये इक्वाडोर की लुईसा एलिजाबेथे वालवरडे मेलेमड्रेस से होगा।


अंशु ने ट्रायल्स की शानदार फार्म जारी रखते हुए सीनियर स्तर पर अपने पहले अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में पदक हासिल किया। हालांकि वह स्वर्ण पदक मुकाबले में नाईजीरिया की ओडुनायो एडेकुओरोये से तकनीकी श्रेष्ठता से हार गयीं।





अठारह साल की भारतीय पहलवान ने फाइनल में पहुंचने तक दबदबा बनाया हुआ था जिसमें उन्होंने अमेरिका की जेना रोस बर्कर्ट, नार्वे की ग्रेस बुलेन और कनाडा की 2019 विश्व चैम्पियन लिंडा मोरेस को हराया था।


अंशु ने ट्रायल्स के दौरान विश्व चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता पूजा ढांडा को हराकर उलटफेर किया था।


लेकिन दिव्या काकरान कांस्य पदक प्ले-आफ में हारकर पोडियम स्थान हासिल करने से चूक गयीं। उन्हें खाली हाथों लौटना पड़ा, वह कनाडा की डेनियल सुजाने लापागे से हार गयीं।


भारत एक और पदक की उम्मीद कर सकता है क्योंकि निर्मला देवी भी 50 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में अमेरिका की सारा एन हिल्डरब्रांड से हारकर कांस्य पदक के लिये भिड़ेंगी जिसके लिये उनका सामना एक और अमेरिकी विक्टोरिया लेसी एंथोनी से होगा।


किरण पहले ही 76 किग्रा स्पर्धा से बाहर हो गयी हैं।


पुरूषों की फ्रीस्टाइल स्पर्धा में सत्यव्रत कादियान (97 किग्रा) और सुमित मलिक (125 किग्रा) क्वार्टरफाइनल में मिली पराजय से बाहर हो गये।


कादियान को यूक्रेन के मुराजी मैकहेडलीद्जे से 0-2 से हार का सामना करना पड़ा जबकि सुमित पर कनाडा के अमरवीर धेसी ने तकनीकी श्रेष्ठता के बूते जीत हासिल की।