वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
April 10, 2022, Updated on : Sun Apr 10 2022 06:11:22 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

एस्ट्रो आर्किटेक्ट नीता सिन्हा की कहानी

पिछले दो दशकों से, एस्ट्रो आर्किटेक्ट नीता सिन्हा फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली को एक सुगम फिल्म निर्माण प्रक्रिया के लिए उनकी फिल्म के सेट पर 'एनर्जी पॉकेट्स' को बैलेंस करने के लिए परामर्श प्रदान कर रही है। यहां जानिए कैसे नीता बॉलीवुड के बड़े लोगों के लिए सबसे अधिक मांग वाली एस्ट्रो सलाहकार बनीं

एस्ट्रो आर्किटेक्ट नीता सिन्हा

नीता सिन्हा को अब व्यापक रूप से एक एस्ट्रो आर्किटेक्ट के रूप में जाना जाता है - वह कहती हैं कि यह शब्द प्रसिद्ध राजनीतिक कैंपेन सलाहकार दिलीप चेरियन द्वारा गढ़ा गया है।


वह कहती हैं, "मैं उस विज्ञान को जिसकी मैं प्रैक्टिस करती हूं उसे एक नियमित वास्तु या फेंग शुई (Feng Shui) टैग से अलग करना चाहती थी। मैं अपने विज्ञान को आधुनिक विज्ञान कहती हूं क्योंकि इसकी नींव और सिद्धांत वास्तु, फेंगशुई और ज्योतिष के प्राचीन विज्ञान पर आधारित हैं। यह वास्तव में आधुनिक वास्तुकला का समाधान है।”


आज, नीता बॉलीवुड और कॉर्पोरेट जगत के कुछ सबसे प्रभावशाली नामों के लिए कंसल्टेशन देती हैं, जिनमें अक्षय कुमार, ऋतिक रोशन, शाहरुख खान, मनीष मल्होत्रा, सलमान खान, करण जौहर, यश बिड़ला, करिश्मा कपूर, स्मिता ठाकरे, टीना अंबानी, अंबिका हिंदुजा, कुमार मंगलम बिड़ला, और कई अन्य शामिल हैं।


यहां तक कि, 2002 में देवदास के बाद से, वह संजय लीला भंसाली की कुछ कालातीत फिल्मों की सफलता के पीछे का रहस्य हैं।


गंगूबाई काठियावाड़ी के लिए, नीता ने फिल्म में लाए गए कास्ट और क्रू मेंबर्स की गर्मजोशी और जुनून को बढ़ाने के लिए लाल रंग को टोन किया।


उन्होंने टीम को बिना किसी सीमा के सकारात्मकता और रचनात्मकता के प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए दर्पण और लटकते पौधों को शामिल करने के लिए भी कहा।


जहां नीता का फिल्म इंडस्ट्री के साथ संबंध विविध है, वह पेन एंटरटेनमेंट के जयंतीलाल गड़ा थे जिन्होंने सबसे पहले उनके काम में अपना विश्वास दिखाया, और नीता के लिए एस्ट्रो आर्किटेक्चर में एक सफल करियर की यात्रा शुरू हुई।

250 रुपये से लेकर 500 करोड़ तक का सफर

आज बिहार में जिंदगियां बदलने का काम रहे हैं अमित कुमार दास जिन्होंने खुद की जिंदगी बदलने के लिए बुरे से बुरा वक्त देखा लेकिन कभी मायूस नहीं हुए और न ही हिम्मत हारी, बल्कि, हर असफलता से कुछ नया सीखते हुए एक बड़ा मुकाम हासिल कर दिखाया।

अमित कुमार दास

अमित कुमार दास

बिहार के अमित कुमार दास ने खुद की जिंदगी बदलने के लिए बुरे से बुरा वक्त देखा लेकिन कभी मायूस नहीं हुए और न ही हिम्मत हारी, बल्कि, हर असफलता से कुछ नया सीखते हुए एक बड़ा मुकाम हासिल कर दिखाया।


अररिया जिले के फारबिसगंज कस्बे के रहने वाले अमित कुमार दास का बचपन बेहद गरीबी में गुजरा। पिता पेशे से किसान थे और मां गृहणी। परिवार की आर्थिक स्थिति काफी नाजुक थी। अमित ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा जैसे-तैसे गाँव के सरकारी स्कूल से पूरी की। घर वालों पर बोझ न बनें इसलिए हायर एजुकेशन के लिए गाँव छोड़ दिल्ली आकर बस गए। लेकिन, उन्हें क्या पता था कि यहां मुसीबतों ने पहले से ही पैर पसार रखे हैं। घर से निकलते वक्त उनके पास केवल 250 रुपये ही थे।


दिल्ली आकर इस बात का अंदाजा तो हो चुका था कि इंजीनियरिंग करने के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं। खुद का खर्च उठाने के लिए वह ट्यूशन्स पढ़ाने लगे। डीयू से पढ़ाई करते वक्त उन्होंने अतिरिक्त बचे हुए समय में कंप्यूटर सीखने का मन बनाया। इस दूसरे सपने को पूरा करने के लिए वे दिल्ली के एक प्राइवेट कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर पर पहुंच गए। प्रशिक्षण केंद्र के रिसेप्शन पर पहुंचते ही रिसेप्‍शनिस्ट ने उनसे इंग्लिश में कई सवाल पूछे जिसका अमित जवाब नहीं दे सके। इस कारण उन्हें उस संस्थान में एडमिशन नहीं मिल पाया।


अंग्रेजी सीखने के बाद अमित ने पुन: उसी संस्थान में दाखिला लेने का प्रयास किया। अबकी बार एडमिशन मिल गया। पहला कोर्स छ: माह का था। इस कोर्स में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद उन्हें कोचिंग इंस्टीट्यूट ने प्रोग्रामर का फ्री कोर्स ऑफर किया। उन्होंने प्रोग्रामिंग सीखी। कोर्स कंप्लीट होने के बाद उसी कोचिंग में कई महीनों तक पढ़ाया लेकिन नौकरी में मन नही लगा तो साल 2001 में जॉब छोड़कर अपनी सॉफ्टवेर कंपनी शुरू कर दी।


अमित को वर्ष 2006 में सिडनी में हो रहे एक सॉफ्टवेयर फेयर में शामिल होने का मौका मिला। इस अवसर ने उनकी किस्मत को पलटकर रख दिया और एक ऐसा मंच मिला जिसके माध्यम से अपने हुनर को अंतरराष्ट्रीय लेवल पर साबित कर पाए। इससे प्रेरित होकर उन्होंने अपनी कंपनी को सिडनी ले जाने का फैसला कर लिया। आइसॉफ्ट नाम की इस सॉफ्टवेयर टेकनोलॉजी ने देखते ही देखते बुलंदियों के नए मुकाम हासिल करने शुरू कर दिए। आज उनकी कंपनी हजारों कर्मचारियों और दुनियाभर में करीब सैकड़ों क्लाइंट्स के साथ कारोबार कर रही है जिसका सालाना टर्नओवर 200 करोड़ रुपए से भी अधिक है।

YouTube चैनल से यह बूटस्ट्रैप्ड एडटेक स्टार्टअप बन गया सूनिकॉर्न

नोएडा स्थित PhysicsWallah का उद्देश्य सस्ती कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराना है। लॉन्च के पांच साल बाद, इसमें 1,500 कर्मचारी, छह मिलियन छात्र, ऑनलाइन और ऑफलाइन कक्षाएं हैं, और यह जल्द ही यूनिकॉर्न बनने पर नजर गड़ाए हुए है।

PhysicsWallah

अलख पांडे को बचपन में सीखना बहुत पसंद था, लेकिन उनकी विनम्र पृष्ठभूमि ने उन्हें अपना सपना पूरा नहीं करने दिया। उनका सपना था एक IIT डिग्री।


इलाहाबाद में जन्मे और पले-बढ़े, युवा लड़के ने हारकोर्ट बटलर तकनीकी विश्वविद्यालय, कानपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। लेकिन, यह जानते हुए कि उनके परिवार ने उनकी पढ़ाई के लिए अपना घर बेच दिया था, अलख अपना काम करने के लिए उत्सुक थे और ग्रेजुएशन के दौरान ऑफलाइन कोचिंग सेंटरों में जेईई/एनईईटी पाठ्यक्रम पढ़ाते थे।


छात्रों की कई समस्याओं के बारे में जानने और बदलाव लाने के लिए उत्सुक, अलख ने 2016 में एक YouTube चैनल शुरू किया जो जेईई / एनईईटी परीक्षाओं के लिए फिजिक्स और केमिस्ट्री के लेक्चर फ्री में ऑफर करता है। 2019 में, वह आईआईटी बीएचयू के पूर्व छात्र प्रतीक माहेश्वरी से जुड़े, जिन्होंने पेन पेंसिल, नाइट पांडा और मून 2 नून जैसे स्टार्टअप की स्थापना की।


अलख कहते हैं, "कुछ मुलाकातों के बाद, मुझे प्रतीक का एहसास हुआ और मैंने बहुत अच्छा तालमेल बिठाया और उन्हें सह-संस्थापक बनने के लिए कहा।"


प्रतीक वह तकनीकी व्यक्ति थे जिन्होंने मई 2020 में अलख को पीडब्लू ऐप (PhysicsWallah) लॉन्च करने में मदद की। इतने सारे डाउनलोड हुए कि ऐप पहले दिन ही क्रैश हो गया; सात दिनों में तीन लाख डाउनलोड हुए थे।


आज, Physics Wallah छह मिलियन से अधिक छात्रों और 1,500 कर्मचारियों का एक परिवार है, जिसका उद्देश्य सस्ती कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक सामग्री प्रदान करना है। इसने एक ऐप लॉन्च किया है, ऑनलाइन और ऑफलाइन कक्षाएं चलाता है, और यूनिकॉर्न स्टेटस पर नजर गड़ाए हुए है।


YouTube चैनल किसी भी उम्मीदवार को Competition Wallah, JEE Wallah, Physics Wallah Foundation, NCERT Wallah, Defence Wallah - NDA, Physics Wallah - English, PW - UP Bihar पर वीडियो देखने की अनुमति देता है। स्टार्टअप फिजिक्सवाला धन जुटाने के लिए कुछ प्रभावशाली निवेशकों के साथ बातचीत कर रहे हैं।

आईटी की नौकरी छोड़ खेती से कमा रहे लाखों रुपये

हैदराबाद के रामपुर गाँव में जन्में आर नंदा किशोर रेड्डी का बचपन काफी साधारण से पारिवारिक माहौल में गुजरा था। पिता पेशे से किसान थे। जिस वजह से उन्हें किसानी करने का शौक भी बचपन से ही रहा है।

आर नंदा किशोर रेड्डी

आर नंदा किशोर रेड्डी

हैदराबाद के रामपुर गाँव में जन्में आर नंदा किशोर रेड्डी का बचपन काफी साधारण से पारिवारिक माहौल में गुजरा था। पिता पेशे से किसान थे। जिस वजह से उन्हें खेती करने का शौक भी बचपन से ही रहा है। लेकिन, समाज और परिवार को देखते हुए उन्होंने आई.टी में इंजीनियरिंग करने का मन बनाया।


हालांकि, यह फील्ड उन्हें बहुत अधिक दिनों तक प्रभावित नहीं कर पाया और एक दिन ऐसा आया जब नंदा ने एक मोटी सैलरी वाली जॉब से रिजाइन दे दिया है और पिता के पास वापस गाँव चले गए। जहां उन्होंने खेतों में पारंपरिक तरीके से हो रही फसलों में बदलाव करके ऑर्गेनिक खेती पर जोर देना शुरू कर दिया।


चूंकि, नंदा ने तकनीक की दुनिया में काफी समय तक काम किया था जिसका उन्हें यहां पर पूरा फायदा मिला। नई चीजों को समझना और उन्हें उपयोग में लाना उनके लिए काफी आसान काम था। इसलिए उन्होंने खेती को फायदेमंद बनाने और शारीरिक श्रम को कम करने के लिए अधिक से अधिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया।


ऑर्गेनिक फार्मिंग में उन्होंने मल्टी फार्मिंग विकल्प को चुना। शुरुआत में वह एक एकड़ में पॉली हाउस और अन्य दो एकड़ में विदेशी खीरा व पालक उगाने लगे। एक साल में इसकी पैदावार 30 टन हुई। जिससे उन्हें 3.5 लाख रुपये का मुनाफा हुआ। इस मुनाफे का गणित अब धीरे-धीरे उन्हें समझ आने लगा था। इसलिए उन्होंने इसका दायरा बढ़ा दिया। तीन महीने में पालक और खीरे की खेती समाप्त हो जाने के बाद उन्होंने खाली पड़े खेतों में शिमला मिर्च, हरी मिर्च और भिंडी की खेती करनी शुरू कर दी।

प्लास्टिक प्रदूषण के बारे में जागरूकता फैला रही है 10 साल की यह बच्ची

पॉडकास्ट चलाने के अलावा, सियोना विक्रम बच्चों के लिए 'Little WISE club' नामक एक पहल की अगुवाई करती हैं, जिसका उद्देश्य प्लास्टिक और प्लास्टिक के खिलौनों के बिना की दुनिया बनाना है।

सियोना विक्रम

सियोना विक्रम

दस साल की सियोना विक्रम अपनी उम्र के मुकाबले अपने मिशन के प्रति ज्यादा मुखर हैं। एक पॉडकास्टर, स्पीकर और सोशल आंत्रप्रेन्योर, सियोना का जन्म और पालन-पोषण यूके में हुआ। वह अपने जीवन के पहले आठ वर्ष यूके में रहीं। वह अब बेंगलुरु में रहती है और जैन हेरिटेज स्कूल (JHS), हेब्बल में पढ़ती है।


जब सियोना 7 साल की थीं, तब उन्होंने पॉडकास्ट के बारे में पता चला और उन्हें इस तरह का आइडिया दिमाग में आया। उन्होंने कई बच्चों के पॉडकास्ट पर रिसर्च किया और सुना, लेकिन यह भी महसूस किया कि बच्चों के लिए लगभग कोई पॉडकास्ट नहीं था जो उन्हें वर्तमान वैश्विक घटनाओं के बारे में सूचित करे और उन्हें उनकी पाठ्यपुस्तकों में उपलब्ध सीमित जानकारी से आगे की जानकारी दे।


इसलिए, उन्होंने अपना पॉडकास्ट शुरू करने का फैसला किया - लिटिल माइंड चैट्स, जो उन्हें पसंद है। उनके पॉडकास्ट की पंचलाइन है 'माइंड्स आर लिटिल, नॉट ऑवर थॉट्स' यानी 'दिमाग छोटे हैं, हमारे विचार नहीं'।


सियोना कहती हैं, “मैं अपने पॉडकास्ट के माध्यम से वास्तविकता-आधारित जानकारी का इस्तेमाल करके बच्चों को दुनिया से जोड़ना चाहती थी। मैं बच्चों को विभिन्न विषयों पर शिक्षित करना चाहती हूं, मेहमानों और उद्योग के विशेषज्ञों के साथ इंटरव्यू करना चाहती हूं। मैं चाहती थी कि उन्हें अच्छे और उपयोगी आइडिया दूं।”


एक पॉडकास्ट के दौरान, उन्होंने सीखा कि कैसे प्लास्टिक प्रदूषण के कारण समुद्र में कछुए मर रहे हैं। और इसने 2020 के अंत में Little WISE क्लब की उत्पत्ति का नेतृत्व किया। अपने क्लब के माध्यम से, सियोना अब प्लास्टिक, प्लास्टिक के खिलौने, या जीवाश्म ईंधन के बिना एक दुनिया बनाने का लक्ष्य बना रही हैं।


अब तक वह अपने पॉडकास्ट के 104 से अधिक एपिसोड प्रसारित करने का दावा करती हैं, जो हर शनिवार और विशेष दिनों में निकलता है।


उन्होंने 'गोल्डन क्रेन पॉडकास्ट अवार्ड' जीता है और पॉडकास्टिंग में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार 'पॉडकास्ट अवार्ड्स 2021' के लिए फाइनल स्लेट नॉमिनी रहीं।


Edited by Ranjana Tripathi