Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

एलन मस्क के मालिक बनने के बाद ट्विटर में क्या-क्या हुआ?

दुनिया के सबसे रईस शख्स एलन मस्क ने 26 अक्टूबर को सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म ट्विटर को खरीद लिया था. ट्विटर का मालिक बनने के बाद से मस्क ने ऑर्गनाइजेशन के अंदर छंटनी से लेकर फीचर्स के स्तर पर कई बदलाव किए हैं.

एलन मस्क के मालिक बनने के बाद ट्विटर में क्या-क्या हुआ?

Monday November 14, 2022 , 5 min Read

दुनिया के सबसे रईस शख्स एलन मस्क ने जिस दिन से ट्विटर को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई उसी दिन से सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म के भविष्य को लेकर कई तरह के कयास लगाए जाने लगे थे. काफी हां ना, हां ना के बाद आखिरकार मस्क ट्विटर को 44 बिलियन डॉलर में खरीदने पर राजी हो गए और उसके बाद शुरू हुआ असली खेल. 

26 अक्टूबर, 2022 को मस्क कंपनी में एक वॉश बेसिन लेकर दाखिल हुए और सैन फ्रांसिस्को स्थित कंपनी में अपनी ग्रैंड एंट्री के विडियो के साथ सोशल मीडिया पर ट्वीट किया ‘Let That Sink in!.’ अपनी शानदार एंट्री से लेकर अब तक मस्क ने ट्विटर के अंदर कई बदलाव किए हैं.

इसमें से हालिया ऐलान उन्होंने रविवार को किया, जिसमें कहा गया कि ट्विटर जल्द ही ऑर्गनाइजेशन को उनसे संबंधित अकाउंट्स को वेरिफाई करने की प्रक्रिया शुरू करेगा.

इससे पहले उन्होंने शुक्रवार को अपने बहुचर्चित 8 डॉलर प्रति महीने वाले ब्लू चेक सब्सक्रिप्शन सर्विस को कुछ समय के लिए स्थगित करने का ऐलान किया था. मस्क के मुताबिक जल्द ही इस फीचर को जल्द ही दोबारा शुरू किया जाएगा.

आइए एक नजर डालते हैं मस्क के ट्विटर को खरीदने से लेकर उनके द्वारा लिए गए अब तक के फैसलों पर.....

मस्क ने ट्विटर की कमान संभालते ही सबसे पहले ट्विटर को एक पब्लिक कंपनी से प्राइवेट कंपनी बनाया. उसके बाद कंपनी के बोर्ड को भंग करते हुए सीईओ पराग अग्रवाल समेत 6 सीनियर एग्जिक्यूटिव्स को बाहर का रास्ता दिखा दिया.

कंटेंट मॉडरेशन काउंसिल बनाने ऐलान किया गया. और कहा गया कि प्लैटफॉर्म पर कंटेंट या बैन अकाउंट्स को दोबारा रिस्टोर करने पर अंतिम फैसला इसी कमेटी का होगा. इतना ही नहीं जो मस्क पहले एडवर्टाइजिंग के सख्त खिलाफ थे उन्होंने खुद एडवर्टाइजर्स को एक लेटर लिखते हुए एक पॉजिटिव संकेत दिया.

ये सभी फैसले महज दो दिन के अंदर लिए गए. लोग अभी इन फैसलों को पचाने की कोशिश ही कर रहे थे कि मस्क ने कुछ और झटके दिए. दो ही दिन बाद मस्क कंपनी के HR एग्जिक्यूटिव्स से कहा कि वो तत्काल प्रभाव से ट्विटर के वर्कफोर्स को 1 नवंबर (जिस दिन कर्मचारियों को रिटेंशन बोनस दिया जाता है) से पहले कम करना चाहते हैं. 

एक टीम बनाई गई जिसे ये पता लगाने का जिम्मा सौंपा गया कि मास लेऑफ का कंपनी के फाइनैंशल्स पर कितना असर पड़ेगा. टीम की रिपोर्ट के मुताबिक इस छंटनी से मस्क को लाखों डॉलर्स का नुकसान हो सकता था. फिर मस्क ने मास लेऑफ को कुछ समय के लिए टाल दिया.

1 नवंबर आया, लोगों को तय हिसाब से सैलरी बांटी गई. अगले ही दिन मस्क ने चीफ अकाउंटिंग ऑफिसर रॉबर्ट कैेडेन को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया.

मस्क ने सब्सक्रिप्शन प्लान के लिए 5 डॉलर के बदले 8 डॉलर चार्ज करने का ऐलान किया. ट्विटर ब्लू नाम से पॉपुलर इस मॉडल में सब्सक्राइबर्स को बिना ऐड कंटेंट देखने की सुविधा है मगर ब्लू टिक इसका हिस्सा नहीं था. मगर अब ऐसी खबर है कि ट्विटर ब्लू सब्सक्राइब करने वालों को अब ब्लू टिक भी दिया जाएगा.

मस्क ने एक ट्वीट कर कहा कि जिन लोगों के पास पहले से ब्लू टिक है अगर उन्होंने 8 डॉलर नहीं दिए तो उनसे ब्लू टिक छीन लिया जाएगा. पब्लिक फिगर्स को नीले रंग की बजाय एक दूसरा सेकंड्री टैग दिया जाएगा जो उनके लिए वेरिफाइड अकाउंट के प्रूफ की तरह काम करेगा.

कंपनी के बड़े पदों और बड़ी सुविधाओं में बदलावों के बाद अब मस्क ने एंप्लॉयीज के स्तर पर फैसले लेने शुरू किए. उन्होंने 2 नवंबर को कंपनी की वर्क फ्रॉम एनीवेयर (कहीं से भी काम करने की पॉलिसी) को खत्म करते हुए सभी एंप्लॉयीज को ऑफिस से काम करने का फरमान जारी कर दिया. एंप्लॉयीज के कैलेंडर Days of rest को भी खत्म कर दिया.

3700 कर्मचारियों को निकालने की खबर बताते हुए मस्क ने सभी एंप्लॉयीज को एक लेटर भेजकर कहा कि जो जहां है वहीं से घर लौट जाए. उन्हें कंपनी से निकाला गया है या उनकी नौकरी बनी हुई इसकी जानकारी उन्हें अगले दिन मेल में दे दी जाएगी. जिन्हें नहीं निकाला जाएगा वो अगले दिन से ऑफिस आ सकते हैं.

इस मास लेऑफ से भी जैसे मस्क को तसल्ली नहीं हुई. उन्होंने टीम को इंफ्रास्ट्रक्टर से 1 अरब डॉलर की कॉस्ट सेविंग प्लान तैयार करने का आदेश दिया. 

मस्क के ट्विटर खरीदने के बाद से उसके एडवर्टाइजर्स की लिस्ट में से कई दिग्गज कंपनियों ने अपना नाम हटा लिया है. इनमें मस्क की कंपनी टेस्ला के कई बड़े कॉम्पिटीटर्स का नाम भी शामिल है.

मस्क ने बताया कि इस कारण उसके रेवेन्यू में भारी गिरावट आई है. कंपनी हर दिन 4 मिलियन डॉलर का नुकसान झेल रही है. ऐसी स्थिति में कंपनी के पास छंटनी के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता. 

इस बीच ये भी खबर आई कि मस्क ने 8 डॉलर प्रति महीने वाले सब्सक्रिप्शन मॉडल को अमेरिकी मध्यावधि चुनावों तक टालने का फैसला किया है. उन्होंने ये भी कहा कि अगर कोई शख्स फर्जी अकाउंट बनाने की गतिविधि में शामिल पाया जाता है तो उसे स्थायी रूप से बैन कर दिया जाएगा. 

मस्क ने 9 नवंबर को एंप्लॉयीज को भेजे पहले लेटर में लिखा कि कंपनी का भविष्य आगे बहुत मुश्किल नजर आ रहा है. इस भविष्य में बैंकरप्सी की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. 

इस बीच बीते गुरुवार यानी 10 नवंबर को ट्विटर से कई अन्य एग्जिक्यूटिव्स ने मस्क को अपना इस्तीफा सौंप दिया. इसमें HR लीडर कैथलीन पसीनी और हेड ऑफ ट्रस्ट एंड सेफ्टी योएल रोथ के नाम हैं.

हालांकि मस्क ने इस उतार चढ़ाव भरे सफर के बाद एंप्लॉयीज के साथ एक मीटिंग में ये भरोसा दिलाने की कोशिश की कि ट्विटर के हालात जैसे भी हों वो उसे सही ट्रैक पर लाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.


Edited by Upasana