Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

क्या है Polygon zkEVM? कैसे Web3 की तकदीर बदल सकता है?

Polygon zkEVM एक लेयर 2 स्केलिंग सॉल्यूशन है जो डेवलपर्स को सिक्योर एथेरियम ब्लॉकचेन पर सभी प्रूफ और डेटा सॉर्स को रखते हुए स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट ऑफ-चेन सहित मनमाने ट्रांजेक्शन को एग्जीक्यूट करने में सक्षम बनाता है.

क्या है Polygon zkEVM? कैसे Web3 की तकदीर बदल सकता है?

Saturday August 13, 2022 , 4 min Read

हाल ही में Web3 इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोवाइडर और ब्लॉकचेन फर्म Polygon ने दुनिया के पहले ज़ीरो-नॉलेज स्केलिंग सॉल्यूशन फॉर एथेरियम (Ethereum - zkEVM) की घोषणा की थी. इसके स्केलेबिलिटी के साथ-साथ, ट्रांजेक्शन कोस्ट (लागत) को कम करके और एथेरियम के साथ उपयोग और निर्माण के अनुभव में बड़े सुधार करके Web3 टेक्नोलॉजी को अपनाने को बढ़ावा देने की उम्मीद है.

ज़ीरो-नॉलेज प्रूफ नामक एडवांस क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करते हुए, Polygon zkEVM पहला एथेरियम के समान स्केलिंग सॉल्यूशन है जो सभी मौजूदा स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स, डेवलपर टूल और वॉलेट के साथ काम करता है.

Polygon ने एक बयान में कहा कि zkEVM की घोषणा क्रिप्टोग्राफिक रिसर्च में एक सफलता है, जो डेवलपर्स को Web3 के भविष्य का निर्माण करने के लिए सशक्त बनाने के लिए तैयार है.

what-is-polygon-zkevm-future-of-web3-ethereum-blockchain

तो आइए समझते हैं कि आखिर ये Polygon zkEVM आखिर है क्या?

Polygon zkEVM एक लेयर 2 स्केलिंग सॉल्यूशन है जो डेवलपर्स को सिक्योर एथेरियम ब्लॉकचेन पर सभी प्रूफ और डेटा सॉर्स को रखते हुए स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट ऑफ-चेन सहित मनमाने ट्रांजेक्शन को एग्जीक्यूट करने में सक्षम बनाता है. लेयर 2 एक बेस ब्लॉकचेन लेयर के ऊपर बनी ब्लॉकचेन को रैफर करता है जिसे लेयर 1 के रूप में जाना जाता है.

zkEVEM का मतलब जीरो-नॉलेज एथेरियम वर्चुअल मशीन (EVM) है. कंपनी के बयान के मुताबिक, Polygon zkEVM मूल रूप से EVM के बराबर है और पूरे एथेरियम इकोसिस्टम से पूरी तरह से लाभान्वित होता है. यह ट्रांजेक्शन की लागत को कम करने और एथेरियम की सिक्योरिटी के जरिए थ्रूपुट बढ़ाने के लिए ज़ीरो-नॉलेज (ZK) प्रमाणों की शक्ति का फायदा उठाता है.

अब समझते हैं कि Polygon zkEVM लागत को कैसे कम करता है?

ZK प्रूफ टेक्नोलॉजी ट्रांजेक्शन को ग्रुप्स में बैच करके फीस को कम करती है, जिसे बाद में सिंगल, बल्क ट्रांजेक्शन के रूप में एथेरियम नेटवर्क पर रिले किया जाता है. इस सिंगल ट्रांजेक्शन के लिए गैस फीस तब सभी प्रतिभागियों के बीच बांट दी जाती है.

कंपनी के बयान के अनुसार, ZK 'रोलअप' अप्रोच लेयर 1 एथेरियम सीरीज़ पर वर्तमान लागत की तुलना में 90% तक फीस कम कर सकता है.

Polygon zkEVM की हाई सिक्योरिटी और सेंसरशिप प्रतिरोध भुगतान और DeFi ऐप्लीकेशंस के डेवलपर्स के लिए अधिक आकर्षक लेयर 2 स्केलिंग सॉल्यूशन हो सकता है.

Polygon के मुताबिक, zkEVM सिस्टम EVM के साथ संबंधित चेन्स से डिसेंट्रलाइज्ड ऐप्लीकेशंस के माइग्रेशन को आसान बनाती है. ब्लॉकचेन डेवलपर कम्यूनिटी उसी कोड, टूलिंग, ऐप्स और स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स का उपयोग करना जारी रख सकती है जिसे वे एथेरियम पर उपयोग करते हैं, लेकिन बहुत अधिक थ्रूपुट और कम फीस के साथ.

कंपनी ने अपने बयान में आगे यह भी बताया कि "प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग करना, जैसे कि Solidity और टूलसेट जैसे Metamask, Hardhat, Truffle, और Remix, जिनसे वे पहले से परिचित हैं, डेवलपर्स केवल नोड्स को स्विच करके डीएपी को माइग्रेट कर सकते हैं. यह Polygon zkEVM को NFT (non-fungible token), नई गेमिंग टेक्नोलॉजी और एंटरप्राइज ऐप्लीकेशन के निर्बाध निर्माण के लिए आदर्श रूप से अनुकूल बनाता है. मौजूदा पॉलीगॉन डीएपी न्यूनतम समर्थन के साथ बहुत आसानी से zkEVM में माइग्रेट कर सकते हैं."

आपको बता दें कि एक नोड कई टूल्स में से एक है जो एक ब्लॉकचेन प्रोटोकॉल चलाता है.

Polygon के को-फाउंडर मिहेलो बेजेलिक (Mihailo Bjelic) ने कहा, "Web3 इन्फ्रास्ट्रक्चर में तीन प्रमुख गुण होने चाहिए: स्केलेबिलिटी, सिक्योरिटी और एथेरियम कंपीटेबिलिटी. अब तक, इन सभी एसेट्स को एक बार में पेश करना व्यावहारिक रूप से संभव नहीं हो पाया है. Polygon zkEVM एक सफल तकनीक है जो अंततः इसे प्राप्त करती है, इस प्रकार यहां से Web3 को बड़े पैमाने पर अपनाने का एक नया चैप्टर शुरू होता है.”

Web3 इंटरनेट की ग्रोथ की अगली स्टेप के लिए जिम्मेदार है. क्रिप्टो, ब्लॉकचेन, मेटावर्स और NFT इसी की देन है. Web3 डिसेंट्रलाइजेशन (Decentralization), खुलेपन और ज्यादा बड़े यूजर यूटिलिटी कॉन्सेप्ट्स पर बनाया गया है. Web3 का उद्देश्य यूजर्स को अपने डेटा पर ज्यादा कंट्रोल देना है.

हालांकि, Web3 अभी अपने शुरुआती दौर में है. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि भविष्य क्या रुख लेता है...