पति के लिए हेल्दी स्नैक्स बनाने से हुई थी शुरुआत, आज दुनिया भर में फैल गया है विजया की रसोईं का स्वाद

घर से शुरु हुए पत्नी के बिजनेस ने इतना विस्तार पा लिया कि पति ने ब्रिटिश टेलीकॉम की अपनी अच्छी-खासी सैलरी वाली नौकरी छोड़ दी और जुड़ गये पत्नी के बिजनेस से

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

पति को इंग्लिश चैनल तैर कर पार करना था और वे इसकी ट्रेनिंग ले रहे थे। पति के लिए पौष्टिक आहार की खोज के साथ हुई विजया की इस कहानी ने आज एक बड़े स्टार्टअप का रूप ले लिया है। एक अकेले इंसान से शुरू हुई इस यात्रा में आज 15 लोग विजया के साथ उत्पादन में जुड़े हुए हैं।

a

विजया रानी

2015 में विजया रानी के पति इंग्लिश चैनल को तैर कर पार करने की ट्रेनिंग ले रहे थे। तब अपने पति को सहयोग देने के लिए विजया ने कुछ पौष्टिक स्नैक को खोजना शुरू किया, जिससे उनके पति को एनर्जी लेवल बरकरार रखने में मदद मिले।


सिरिमिरि (SIRIMIRI) नाम से पौष्टिक स्नैक शुरू करने से पहले के दिनों को याद करते हुए विजया ने बताया,


'मैं एक हेल्थी स्नैक्स की तलाश कर रही थी, जिसमें किसी तरह के प्रिजरवेटिव, कृत्रिम एडिटिव और शुगर न हो। साथ ही उसे चलते-फिरते खाया जा सकता हो, हालांकि इस तरह के उत्पादों को ढूंढना एक कठिन काम था।'

उन्होंने यह भी पाया कि मूसली, ग्रेनोला जैसे मौजूद तथाकथित पौष्टिक उत्पादों में शुगर और कृत्रिम प्रिजरवेटिव जैसे कई अस्वास्थ्यकर घटक भरे हुए थे।


ऐसे में विजया ने खुद ही नट्स, अनाज और फलों के विभिन्न संयोजनों के साथ प्रयोग करना शुरू किया और इसके लिए कई तरह के पौष्टिक स्नैक्स तैयार किए। उन्होंने करीब तीन से चार महीने तक सामाग्रियों और उनकी पौष्टिक मूल्यों पर शोध किया।

हेल्दी स्नैक

वह शुरू में केवल अपने परिवार के लिए इन उत्पादों को बनाना चाह रही थी। हालांकि बाद में उन्होंने देखा कि उनके दोस्त और रिश्तेदार भी इसी तरह के उत्पादों की तलाश में थे। विजया के बनाए प्रॉडक्ट कुछ ही समय में उनके परिवार और दोस्तों में बच्चों के बीच नाश्ते के रूप में हिट हो गए।


इस तरह यह बिजनेस 2017 में एक आदमी के साथ विजया के घर से शुरू हुआ था। आज बेंगलुरु में 5,000 स्क्वायर फीट जगह में मौजूद प्रॉडक्शन प्लांट में 15 सदस्यों की टीम काम करती है।


उन्होंने बताया,

'मैंने 2017 की शुरुआत में इसे काफी सोचने समझने के बाद बिजनेस में बदलने का फैसला लिया था। मैंने जो प्रॉडक्ट अपने परिवार के लिए बनाए थे, उसकी रेसिपी में थोड़ा बदलाव किया। उसके मार्केट के मुताबिक स्टैंडर्ड बनाया। उसे बड़े बैच में पैक किया और फिर इसे बिक्री के लिए भेजा।'

विजया आगे बताती हैं,

2017 की आखिरी तिमाही तक मैने प्रॉडक्ट के वैरिएंट और टाइप को अंतिम रूप दे दिया था। इसके बाद मैंने एमेजॉन मार्केप्लेस के जरिए SIRIMIRI प्रॉडक्ट को बेचने के लिए एमेजॉन सहेली प्रोग्राम में खुद को इनरोल किया।'

विजया ने SIRIMIRI नाम को चुनने का फैसला लिया। स्पेनिश में इस शब्द का मतलब 'हल्की बूंदा बांदी' है। वहीं कन्नड़ में इसका मतलब 'देवी लक्ष्मी' है। उन्होंने बताया कि वह अपने ब्रांड के लिए ऐसा नाम चाहती थी जो अर्थपूर्ण और आकर्षक होने के साथ याद रखने में भी आसान हो और SIRIMIRI ऐसा ही नाम है।





SIRIMIRI तीन तरह के एनर्जी बार और तीन तरह के मूसली के साथ शुरू हुआ था, जिसे एमेजॉन मार्केटप्लेस के जरिए बेचा जाता था। धीरे-धीरे मांग के आधार पर कई प्रॉडक्ट को शामिल किया गया। फिलहाल ब्रांड के तहत 8 तरह के हेल्थी बार, मूसली के छह तरह के प्रॉडक्ट और एक हेल्थ मिक्स प्रॉडक्ट शामिल है।


विजया बताती हैं,

'एमेजॉन सहेली प्रोग्राम के प्रतिनिधियों ने हमें यह समाझने में मदद की कि कैसे डेडिकेटेड सहेली स्टोरफ्रंट के जरिए प्रॉडक्ट को लिस्ट किया जाए और उसे बेचा जाए। प्रोग्राम से मुझे बिजनेस और ऑपरेशन के स्तर पर कई जानकारियां मिली। साथ ही पैकेजिंग, मार्केटिंग और शिपिंग में मुझे सहयोग दिया गया। इससे मुझे अपनी समझ बढ़ाने और सही यूजर तक पहुंचने में मदद मिली।'

वह यह भी कहती हैं कि एक घरेलू कंपनी के रूप में उनके पास किसी बड़ी मार्केटिंग स्ट्रैटजी को अपनाने के लिए पैसे नहीं थे। ऐसे में एमेजॉन मार्केटप्लेस पर बिक्री के जरिए उन्हें स्टॉक जमा करने की फीस और शेल्फ स्पेस हासिल करने में पैसे खर्च करने से बचने में मदद मिली। ईकॉमर्स सेक्टर की इस दिग्गज कंपनी ने उन्हें उनके प्रॉडक्ट के बदले में ज्यादा मार्जिन दिया। इससे उन्हें प्रॉफिट को वापस निवेश कर बिजनेस को बढ़ाने में मदद मिली। विजया ने शुरुआत में सामग्रियों और उपकरण के लिए 2.5 लाख रुपये के निवेश से बिजनेस शुरू किया।


उन्होंने बताया,

'बिजनेस बढ़ने के साथ हमें उत्पादन भी बढ़ाना पड़ा। ऐसे में हमें 5,000 स्क्वायर फीट के प्लांट में ट्रांसफर होना पड़ा। इसके अलावा हमने अपनी टीम को एक से बढ़ाकर 15 सदस्यों तक विस्तार किया। उत्पादन और पैकेजिंग के लिए नए इक्विपमेंट खरीदे।'

विजया आगे बताती हैं,

'ये निवेश केवल इसलिए संभव हो सका क्योंकि एमेजॉन पर बिक्री शुरू होने के बाद हमें 20 गुना बढ़ोतरी देखने को मिली। एमेजॉन पर जाने के बाद से हमारी आमदनी में 370 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और हम इस वित्तीय वर्ष में पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 500 प्रतिशत की बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे हैं।'

SIRIMIRI की सफलता और उसकी ग्रोथ की संभावना को देखते हुए विजया के पति ने ब्रिटिश टेलीकॉम में अपनी अच्छी खासी सैलरी वाली नौकरी छोड़ दी और अब वह भी बिजनेस चलाने में विजया की मदद करते हैं। विजया अब बिजनेस और ऑपरेशन स्तर पर ब्रांड से जुड़ी विभिन्न पहलुओं को सक्रियता से देखती हैं।




विजया का मानना है कि पोष्टिक स्नैक्स के कारोबार में जगह बनाना कोई आसान काम नहीं है। उन्होंने बताया,


'सबसे बड़ी सीख और चुनौती हमारे उत्पादों के लिए सही टारगेट यूजर को खोजना और उनके विचारों के मुताबिक प्रॉडक्ट को बनाने की है। मैं इस मोर्चे पर काम करना जारी रखूंगी, क्योंकि मेरे पौष्टिक भोजन के बिजनेस को लेकर जुनून है।'

SIRIMIRI के फाउंडर के पास कंपनी की ग्रोथ के लिए लॉन्ग-टर्म प्लान हैं। कंपनी अपना कस्टमर बेस बढ़ाने और पौष्टिक स्नैक्स तलाशने वाले वाले प्रीमियम कंज्यूमर्स सेगमेंट तक पहुंचने की योजना पर काम रही है। इसके तहत SIRIMIRI की यह भी कोशिश रहेगी कि उसके मौजूदा ग्राहक कंपनी के उत्पादों को बार-बार खरीदें। इसके लिए कंपनी लगातार इनोवेटिव प्रॉडक्ट पेश करती रहेगी।


विजया ने बताया,

'यह देश में एक महिला उद्यमियों के आगे आने के लिए सबसे अच्छा समय समय है, क्योंकि एमेजॉन सहेली जैसे प्रोग्राम महिला उद्यमियों को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए एक ईकोसिस्टम का निर्माण कर रहे हैं, जो ईकॉमर्स की दुनिया में नया है। यह निश्चित रूप से SIRIMIRI के लिए गेम चेंजर रहा है।'


  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Our Partner Events

Hustle across India