माँ-बेटी की इस जोड़ी ने शुरू किया एक प्राकृतिक और टॉक्सिन-मुक्त बेबीकेयर ब्रांड

By Tenzin Norzom
February 18, 2022, Updated on : Mon Feb 21 2022 05:29:28 GMT+0000
माँ-बेटी की इस जोड़ी ने शुरू किया एक प्राकृतिक और टॉक्सिन-मुक्त बेबीकेयर ब्रांड
पुणे की रहने वाली मां-बेटी आकांक्षा और मोनिशा शर्मा एक प्राकृतिक और टॉक्सिन-मुक्त बेबीकेयर ब्रांड CITTA के साथ अब बाज़ार में अपनी एक जगह बनाने की ओर आगे बढ़ रही हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बेबीकेयर के दिग्गज ब्रांड कुछ साल पहले मीडिया की नज़रों में आ गए थे क्योंकि उन्हें कई मुकदमों का सामना करना पड़ गया था, जिसमें कहा गया था कि कंपनियां टैल्क युक्त एस्बेस्टस का उपयोग कर रही हैं जो कैंसर का कारण बन सकता है। इस दौरान आकांक्षा शर्मा लॉस एंजिल्स में फैशन इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन एंड मर्चेंडाइजिंग से परिधान उद्योग प्रबंधन में स्नातक की पढ़ाई कर रही थीं।


उन्होने योरस्टोरी को बताया, "यह मेरे लिए एक आंख खोलने वाला था। शिशुओं की त्वचा सबसे अधिक संवेदनशील होती है और उसमें हम कुछ ऐसा लगा रहे हैं जिससे स्थायी बीमारी हो सकती है।"


जब वह भारत लौटी, तो आकांक्षा ने अपनी मां मोनिशा के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की, जिन्होंने कॉस्मेटिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और एमबीए किया है। महामारी के दौरान, माँ-बेटी की इस जोड़ी ने बेबी स्किनकेयर पर शोध करना शुरू कर दिया और CITTAलॉन्च किया। यह एक प्राकृतिक बेबी बाथ और स्किनकेयर ब्रांड है जो क्रूरता और विष मुक्त है।

ऐसे रही यात्रा

मोनिशा हमारी रसोई में पाए जाने वाले प्राकृतिक अवयवों से जुड़े पारंपरिक स्किनकेयर फ़ार्मुलों की अच्छाई में दृढ़ विश्वास रखती हैं। जब आकांक्षा अमेरिका में थीं, तब वे फोन पर तमाम त्वचा देखभाल उपचारों पर उन्हें निर्देश भी देती थीं।


मोनिशा कहती हैं, “हम एक संयुक्त परिवार में रहते हैं और मैं हमेशा अपने दादा-दादी के आसपास रही हूँ। पारंपरिक दादी और नानी के नुस्के का प्यार और पोषण से जुड़े हुए होते हैं। लेकिन इन दिनों बढ़ते एकल परिवारों के साथ हमें लगता है कि ये परंपराएं गायब होती जा रही हैं।"


CITTA के साथ इस तरह की पारंपरिक प्रथाओं को आगे बढ़ाने का विचार था, जिसके साथ दोनों सुरक्षा से भी समझौता नहीं करना चाहते थे। दोनों ने अप्रैल 2021 में ब्रांड को व्यावसायिक रूप से लॉन्च करने से पहले अपना अधिकांश समय लैब रिसर्च में बिताया।


उन्होंने भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न घरेलू और पारंपरिक प्रथाओं का अध्ययन किया। तेल मालिश जैसे उत्पाद के लिए आकांक्षा कहती हैं, “हमने देखा कि भारत के पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्रों में क्या उपयोग किया जा रहा है। हमने पश्चिम और पूर्व में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न तेलों का अध्ययन किया, उनके लाभों को देखा और जो हम पेश करना चाहते हैं उसके आधार पर मिला दिया। CITTA का मसाज ऑयल अब खुशबू रहित और 12 तेलों का मिश्रण है।“


पुणे में स्थित यह स्टार्टअप गुजरात में थर्ड पार्टी की सुविधा के लिए अपने फॉर्मूलेशन और आउटसोर्स मैन्युफैक्चरिंग को डिजाइन करता है। यह ब्रांड उत्पादों की पांच अलग-अलग रेंज पेश करता है, जिसमें मॉइस्चराइजिंग बेबी बाम, शैम्पू, मसाज ऑयल और बेबी पाउडर शामिल हैं।


डिजिटल-फ़र्स्ट D2C ब्रांड के रूप में CITTA के उत्पादों को अपनी वेबसाइट के अलावा Amazon, Flipkart और FirstCry जैसे ऑनलाइन मार्केटप्लेस के माध्यम से उत्पाद बेंचता है। यह अब पुणे से ऑफलाइन बाजार में कदम रख रहा है।


CITTA नाम संस्कृत शब्द चित से प्रेरित था, जिसका अर्थ है "शुद्ध चेतना"। संस्थापकों के अनुसार, यह उनके व्यक्तिगत दृष्टिकोण के साथ जुड़ा हुआ है कि वे CITTA में क्यों और कैसे काम करते हैं, इसके प्रति सचेत रहते हैं। मोनिशा कहती हैं, "नाम पारंपरिक है, लेकिन आधुनिक भी लगता है।"

CITTA

सांकेतिक चित्र

बेबीकेयर बाजार में प्रतिस्पर्धा

CITTA के उत्पादों को 659 रुपये की शुरुआती कीमत पर पेश किया जाता है, जो जॉनसन एंड जॉनसन और हिमालया बेबीकेयर जैसी स्थापित दिग्गज कंपनियों की तुलना में थोड़ा अधिक है। भारत में D2C बूम के बीच, कई छोटे ब्रांड भी बेबीकेयर मार्केट में काम कर रहे हैं, जिसके 2021 और 2026 के बीच सात प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने का अनुमान है।


वे कहती हैं, "हम अपने उत्पादों, उपयोग की गई सामग्री की गुणवत्ता और हमारे फॉर्मूलेशन के बारे में बहुत आश्वस्त हैं। हां, बाजार में बहुत सारे बड़े और विशिष्ट ब्रांड आ रहे हैं, लेकिन यह अवसर को बताता है। इतनी प्रतिस्पर्धा है क्योंकि बाजार बड़ा है।"


20 लाख रुपये के शुरुआती निवेश के साथ शुरू हुए इस ब्रांड में अधिकांश निवेश रिसर्च एंड डेवलपमेंट के साथ-साथ उत्पादों के लिए जरूरी सामान के लिए था। CITTA अब इंस्टाग्राम और फेसबुक जैसे सोशल प्लेटफॉर्म के माध्यम से ऑनलाइन मार्केटिंग पर केंद्रित है।


हालाँकि, कोरोना महामारी के दौरान शुरू हुए इस युवा ब्रांड के लिए लॉजिस्टिक की बात करें तो महामारी का प्रभाव अभी भी महसूस किया जाता है। समय-समय पर विभिन्न स्थानों पर लगाए गए लॉकडाउन उनके व्यवसाय को धीमा कर देते हैं। मोनिशा कहती हैं, लक्ष्य ऑनलाइन और खुदरा दोनों चैनलों के माध्यम से हर भारतीय घर में मौजूद होना है और फिर निर्यात के अवसरों को देखना है।


अभी के लिए CITTA बेबीकेयर बाजार में विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के लिए और अधिक उत्पाद विकसित करने पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहा है।


Edited by Ranjana Tripathi

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें