आज है World Heritage Day, एक नज़र डालें भारत के इन प्रमुख विरासत स्थलों पर

By रविकांत पारीक
April 18, 2022, Updated on : Wed Jul 06 2022 13:04:33 GMT+0000
आज है World Heritage Day, एक नज़र डालें भारत के इन प्रमुख विरासत स्थलों पर
World Heritage Day (विश्व विरासत दिवस), जिसे स्मारकों और स्थलों के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में भी जाना जाता है, हर साल 18 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिन समृद्ध विरासत के बारे में जागरूकता बढ़ाने पर केंद्रित है जो हमारी संस्कृति और परंपरा का एक अभिन्न अंग है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

स्मारकों और स्थलों के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस, जिसे विश्व विरासत दिवस (World Heritage Day) के रूप में भी जाना जाता है, हर साल 18 अप्रैल को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य — पृथ्वी पर सांस्कृतिक विरासत और विविधता के बारे में जागरूकता फैलाना है।


साल 1982 में, International Council on Monuments and Sites (ICOMOS) ने प्रस्ताव दिया कि 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। बाद में, 1983 में 22वें आम सम्मेलन में UNSECO द्वारा तारीख को मंजूरी दी गई। इसका उद्देश्य सांस्कृतिक विरासत और स्मारकों के बारे में ज्ञान बढ़ाना और लोगों को उनके संरक्षण के लिए संवेदनशील बनाना है। इसलिए, इस दिन को स्मारकों और स्थलों के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस भी कहा जाता है।


United Nations Educational, Scientific and Cultural Organisation (UNESCO) ने 167 देशों में कुल 1155 स्मारकों को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों के रूप में नामित किया है।


इस वर्ष, यह दिन खुले, रचनात्मक और अंतर-पीढ़ीगत संवादों के माध्यम से "विरासत और जलवायु (Heritage and Climate)" विषय के साथ मनाया जा रहा है।


वहीं, भारत कुल 3691 स्मारकों और स्थलों का घर है। इनमें से 40 को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों के रूप में नामित किया गया है, जिनमें ताजमहल, अजंता गुफाएं और एलोरा गुफाएं शामिल हैं। विश्व धरोहर स्थलों में असम में काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान जैसे प्राकृतिक स्थल भी शामिल हैं।


अब आइए एक नज़र डालते हैं भारत के इन प्रमुख विरासत स्थलों पर।

ताजमहल

ताजमहल

ताजमहल (आगरा)

दुनिया के सात अजूबों में से एक, ताजमहल को सम्राट शाहजहाँ ने अपनी तीसरी पत्नी मुमताज महल की याद में बनवाया था, जिनका देहांत 1631 में हुआ था। यह आगरा में यमुना नदी के तट पर स्थित है। स्मारक की संरचना भारतीय, फारसी और इस्लामी स्थापत्य शैली के तत्वों के साथ पारंपरिक मुगल वास्तुकला को दर्शाती है।


ताजमहल को 1983 में श्रेणी I के तहत UNESCO World Heritage List में एक सांस्कृतिक स्मारक के रूप में शामिल किया गया था।

अजंता की गुफाएं

अजंता की गुफाएं

अजंता की गुफाएं (औरंगाबाद)

बौद्ध धर्म के असाधारण प्रतिनिधित्व के रूप में, 32 बौद्ध गुफाओं के समूह को महाराष्ट्र राज्य में विश्व धरोहर स्थल माना गया है। इन शानदार गुफाओं में भगवान बुद्ध के जीवन का वर्णन करने वाली समृद्ध मूर्तियां और पेंटिंग शामिल हैं।


महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित इन गुफाओं को व्यापक रूप से बौद्ध धार्मिक कला की उत्कृष्ट कृतियों के रूप में मान्यता प्राप्त है। इन गुफाओं को भारत के विभिन्न मध्यकालीन चीनी बौद्ध यात्रियों के संस्मरणों के साथ-साथ 17 वीं शताब्दी की शुरुआत में अकबर-युग के मुगल अधिकारी द्वारा भी संदर्भित किया गया है।

सूर्य मंदिर

सूर्य मंदिर

सूर्य मंदिर (कोणार्क)

ओडिशा में सूर्य देवता को समर्पित सूर्य मंदिर वास्तुशिल्प का अद्भुत नमूना है। यह न केवल एक महत्वपूर्ण वास्तुकला है बल्कि दक्षिण के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है, और एक विशाल रथ के रूप में इसका उल्लेखनीय आकार विरासत स्थल के रूप में इसके महत्व को बढ़ाता है।


इसे 13वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह 24 पहियों के साथ सूर्य के रथ के आकार में बंगाल की खाड़ी के पूर्वी तट पर महानदी डेल्टा में बनाया गया है, सात घोड़ों द्वारा संचालित प्रतीकात्मक पत्थर की मूर्तियों के साथ।

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (असम)

अपने महान एक सींग वाले गैंडे और समृद्ध जैव विविधता के लिए लोकप्रिय, काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान, भारत में प्रसिद्ध विरासत स्थलों में से एक है। असम सरकार यहां की वनस्पतियों और जीवों की श्रेणी को संरक्षित करने के प्रयास कर रही है।


काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में दुनिया के दो तिहाई विशाल एक सींग वाले गैंडे रहते हैं। काजीरंगा के 'बिग फाइव' में एक सींग वाला गैंडा, रॉयल बंगाल टाइगर, एशियाई हाथी, जंगली भैंसा और दलदली हिरण शामिल हैं। यह लंबी हाथी घास, दलदल, और गहरे उष्णकटिबंधीय गीले चौड़े पत्तों वाले जंगलों का एक विस्तृत क्षेत्र है, जो ब्रह्मपुत्र सहित चार मुख्य नदियों और पानी के कई छोटे निकायों से घिरा हुआ है।

KHAJURAHO

खजुराहो

खजुराहो (मध्य प्रदेश)

अभूतपूर्व कलात्मक कृतियों के साथ, खजुराहो समूह के स्मारकों का निर्माण चंदेल राजवंश द्वारा 950-1050 ईस्वी के बीच किया गया था। यह विशेष रूप से अपनी मूर्तियों और कलाकृतियों के लिए जाना जाता है जो हिंदू, साथ ही साथ जैन धर्म के नृत्य, संगीत और संस्कृति का जश्न मनाती हैं।

सांची में स्थित बौद्ध स्मारक

सांची में स्थित बौद्ध स्मारक

सांची (मध्य प्रदेश)

सांची में स्थित बौद्ध स्मारक बौद्ध संरचनाओं की एक श्रृंखला है जो 200 ईसा पूर्व से 100 ईसा पूर्व की है। यह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 24 जनवरी 1989 को, यूनेस्को ने अपने अद्वितीय सांस्कृतिक महत्व के कारण इसे विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया।

महाबोधि तीर्थ परिसर

महाबोधि तीर्थ परिसर

महाबोधि मंदिर परिसर (बिहार)

महाबोधि तीर्थ परिसर, बिहार के बोधगया में एक बौद्ध मंदिर है, जहां माना जाता है कि बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था। यह दो हजार से अधिक वर्षों से एक हिंदू और बौद्ध तीर्थस्थल रहा है।

चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान

चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान

चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान (गुजरात)

चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान, चंपानेर के पास स्थित है, जो चावड़ा राजवंश के सबसे उल्लेखनीय शासक वनराज चावड़ा द्वारा 8वीं शताब्दी में स्थापित एक शहर है। चंपानेर-पावागढ़ में पाए जाने वाले ग्यारह विभिन्न प्रकार की संरचनाओं में से मस्जिदें, मंदिर, अन्न भंडार, मकबरे, कुएं, दीवारें और छतें हैं।


Edited by Ranjana Tripathi

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें