दिल्ली में दिवाली की रात पटाखे जलाने पर हो सकती है इतने महीने की जेल और जुर्माना

दिल्ली में दिवाली की रात पटाखे जलाने पर हो सकती है इतने महीने की जेल और जुर्माना

Friday October 21, 2022,

3 min Read

दिल्ली में प्रदूषण की वजह से ख़राब होती वायु गुणवत्ता को लेकर अरविन्द केजरीवाल सरकार काफी सतर्क है. दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) लगातार बढ़ रहा है और दिवाली के मद्देनज़र दिल्ली सरकार ने पटाखों को लेकर सख्ती दिखाते हुए राजधानी में पटाखे (Firecrackers) जलाने और खरीदने को लेकर एक नये नियम की जानकारी दी.


पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने बताया कि दिल्ली में पटाखे खरीदने और जलाने पर 200 रुपये जुर्माना और 6 महीने कैद की सजा हो सकती है. राय ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस ने  कहा कि राजधानी में पटाखों के उत्पादन, भंडारण और बिक्री पर विस्फोटक कानून की धारा 9बी के तहत 5,000 रुपए तक का जुर्माना और तीन साल तक जेल की सजा का प्रावधान है. वहीँ, पिछले महीने सितम्बर में  दिल्ली सरकार ने एक आदेश जारी कर अगले साल एक जनवरी तक सभी तरह के पटाखों के उत्पादन, बिक्री और इस्तेमाल पर पूरी तरह बैन लगा दिया था. राय ने कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘‘प्रदूषण का स्तर हर साल दिवाली के आसपास बढ़ता है. इसकी खास वजह पटाखे फोड़ना है. पटाखों से निकलने वाला उत्सर्जन खासकर बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों के लिए बेहद खतरनाक हैं.’’ मंत्री ने कहा, ‘‘इसलिए, दिल्ली सरकार ने इस साल भी सभी तरह के पटाखों के उत्पादन, बिक्री और इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है. इस प्रतिबंध में पटाखों की ऑनलाइन डिलीवरी भी शामिल है.’’ 

408 टीम दिल्ली में रखेगी आतिशबाजी पर नजर 

गोपाल राय ने कहा है कि प्रतिबंध को सख्ती से लागू करने के लिए दिल्ली में 408 टीम का गठन किया गया है. इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने सहायक पुलिस आयुक्त के तहत 210 टीमों का गठन किया है. राजस्व विभाग ने 165 टीमों का गठन किया है और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने 33 टीमों का गठन किया है. मंत्री ने कहा कि अभी तक इस कानून के उल्लंघन के 188 मामले सामने आए हैं, और 16 अक्टूबर तक 2,917 किलोग्राम पटाखे जब्त किए गए हैं.


दिल्ली से सटे राज्यों में भी पटाखों पर बैन की मांग 

राय ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव से यह अपील की है कि पटाखों पर बैन दिल्ली के अलावा इसके आसपास के शहरोंयानी एनसीआर में भी सख्ती से लागू किया जाए. बता दें, पिछले साल हरियाणा ने दिल्ली से संबंधित अपने 14 जिलों में सभी तरह के पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल पर बैन लगा दिया था, वहीँ उत्तर प्रदेश ने दिवाली पर सिर्फ दो घंटे के लिए क्षेत्रों में हरे पटाखों के इस्तेमाल की इजाजत दी थी. 



Edited by Prerna Bhardwaj