हिंदी में पहली बार 'बेस्टसेलर' किताबों की घोषणा, 10-10 किताबों की लिस्ट जारी

By yourstory हिन्दी
August 25, 2017, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:16:30 GMT+0000
हिंदी में पहली बार 'बेस्टसेलर' किताबों की घोषणा, 10-10 किताबों की लिस्ट जारी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस सूची में हिंदी के कई नामी लेखक और किताबें तो हैं ही, अनुवाद की श्रेणी में अंग्रेजी में लोकप्रिय किताबें भी हिंदी पाठकों के दिल में अपनी जगह बनायीं हुई दिख रही हैं।

बेस्टसेलर किताबों की लिस्ट जारी करते संजय गुप्त

बेस्टसेलर किताबों की लिस्ट जारी करते संजय गुप्त


अभी तक हिंदी के बेस्टसेलर की अवधारणा की शुरुआत नहीं हो सकी है। साथ ही हिंदी की पुस्तकों की लोकप्रियता एवं बिक्री के बारे में जानकारी का अब तक कोई स्वतंत्र एवं प्रामाणिक तंत्र नहीं है। 

अब वर्ष की हर तिमाही में दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन द्वारा बेस्टसेलर पुस्तकों की सूची जारी की जायेगी। बेस्टसेलर की यह सूची तीन श्रेणियों में होगी - कथा, कथेतर और अनुवाद। 

बीते बुधवार को राजधानी दिल्ली में एक भव्य कार्यक्रम में दैनिक जागरण और निल्सन बुक स्कैन द्वारा पहली बार हिंदी में बेस्टसेलर पुस्तकों की सूची जारी की गयी। पाठकों के लिए 'दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर' सूची कथा, कथेतर और अनुवाद श्रेणियों में जारी हुई। यह सूची अप्रैल-जून 2017 तक की अवधी में होने वाली बिक्री पर आधारित है। इस सूची में हिंदी के कई नामी लेखक और किताबें तो हैं ही, अनुवाद की श्रेणी में अंग्रेजी में लोकप्रिय किताबें भी हिंदी पाठकों के दिल में अपनी जगह बनायीं हुई दिख रही हैं। 39 हिंदी भाषी शहरों के पुस्तक विक्रेताओं से आंकड़े जमा करने के बाद इस सूची को तैयार किया गया है। इस सूची को तैयार करने में कई मानदंडों का ध्यान रखा गया है। दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन बेस्टसेलर में उन्हीं किताबों को शामिल किया गया है जिन का पहला संस्करण 1 जनवरी, 2011 या उसके बाद प्रकाशित हुआ है। पहले 'दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर' की घोषणा पर टिपण्णी करते हुए जागरण प्रकाशन समूह के सिनिअर वाईस प्रेसिडेंट बंसंत राठौर ने कहा,'हम अपनी गौरवशाली भाषा को सुरक्षित और प्रोत्साहित करने के लिए प्रयासरत हैं। कोई भी भाषा तभी दीर्घायु हो सकती है जब उसमे नित्य नए आयाम जुड़े। 

जागरण प्रकाशन समूह के सीईओ एवं दैनिक जागरण प्रधान संपादक संजय गुप्त ने कहा, 'आज आम धारणा यह है कि अंग्रेजी हिंदी को चुनौती दे रही है। ऐसे में कैसे हिंदी को सम्मान के साथ देखा जाये, इससे जुड़े लोग, इससे जुड़ी हमारी संस्कृति एवं देश को सम्मान मिले यह प्रश्न हमारे सामने था। हिंदी को आगे ले जाने के लिए हिंदी साहित्य को मान और बढावा देना महत्पूर्ण है । हमने निल्सन के साथ मिलकर काम किया ताकि एक विश्वनीय सूची तैयार कर सकें।'

निल्सन बुकस इंडिया के निदेशक विक्रांत माथुर ने कहा, 'हमने विश्व की कई भाषाओं में इस तरह का काम किया है ।हिंदी विश्व की चौथी सबसे बड़ी भाषा है और ४०% भारतीयों की भाषा है। हमने हिंदी बुक बेस्टसेलर के देशभर के ३९ हिंदी भाषी छेत्रों एवं ऑनलाइन प्लेटफार्म से आंकड़े इकठ्ठा करने के बाद यह परिणाम निकाला है।' 'दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर' हिंदी साहित्य में बेस्टसेलर की पहचान करने की पहली एवं एकमात्र पहल है। हिंदी साहित्य की दुनिया में किसी पुस्तक को बेस्टसेलर कहने का कोई भी पारदर्शी एवं प्रामाणिक तंत्र अब तक नहीं था। वर्ष की हर तिमाही में दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन द्वारा बेस्टसेलर पुस्तकों की सूची जारी की जाएगी। यह पहल दैनिक जागरण की मुहिम ‘हिंदी हैं हम’ के तहत की गयी है। जिन पुस्तकों ने अप्रैल-जून 2017 के 'दैनिक जागरण बेस्टसेलर' में बाज़ी मारी हैं उनके नाम श्रेणियों के अनुसार इस प्रकार हैं:

image


बेस्टसेलर सूची इसी दिशा में एक सार्थक प्रयास है। हिंदी साहित्य के बाज़ार को इस प्रयास द्वारा निश्चित तौर पर विकसित होने की संभावना मिलेगी।

अभी तक हिंदी के बेस्टसेलर की अवधारणा की शुरुआत नहीं हो सकी है। साथ ही हिंदी की पुस्तकों की लोकप्रियता एवं बिक्री के बारे में जानकारी का अब तक कोई स्वतंत्र एवं प्रामाणिक तंत्र नहीं है। दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन के द्वारा बेस्टसेलर सूची इसी दिशा में एक सार्थक प्रयास है। हिंदी साहित्य के बाज़ार को इस प्रयास द्वारा निश्चित तौर पर विकसित होने की संभावना मिलेगी।

वर्ष की हर तिमाही में दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन द्वारा बेस्टसेलर पुस्तकों की सूची जारी की जायेगी। बेस्टसेलर की यह सूची तीन श्रेणियों में होगी - कथा, कथेतर और अनुवाद। दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन बेस्टसेलर में उन्हीं किताबों को शामिल किया गया है जिन का पहला संस्करण 1 जनवरी, 2011 या उसके बाद प्रकाशित हुआ है।

यह भी पढ़ें: दो दोस्तों ने मिलकर बनाई मीट कंपनी, अब हर महीने कमाते हैं 3 करोड़

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें