घर पर इलाज के साथ कर्नाटक की 105 वर्षीय महिला ने दी कोरोना को मात

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बुजुर्ग महिला को बुखार था, उन्हे एक परीक्षण से गुजरना पड़ा और परिणाम पिछले सप्ताह सकारात्मक आया था।

घर पर इलाज के साथ कर्नाटक की 105 वर्षीय महिला ने दी कोरोना को मात

Tuesday September 15, 2020,

2 min Read

वरिष्ठ नागरिकों को नॉवल कोरोनावायरस के लिए अधिक संवेदनशील माना जाता है, लेकिन उनमें से कई रोगी इस बीमारी पर विजय प्राप्त कर रहे हैं।


कोप्पल तालुक के कटारकी गाँव की रहने वाली 105 वर्षीय एक महिला कमलाम्मा लिंगनगौडा हिरगौदर ने अपने घर में वायरल संक्रमण के इलाज के बाद कोविड-19 से सफलतापूर्वक रिकवर किया है।


आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बुजुर्ग महिला को बुखार था, उन्हें एक परीक्षण से गुजरना पड़ा और परिणाम पिछले सप्ताह सकारात्मक आया था।


सौ से अधिक साल उम्र की इन महिला के पास कोई अन्य स्वास्थ्य समस्या नहीं थी और उन्होंने अस्पताल जाने से इनकार कर दिया। इसके बजाय, उसने अपने बेटे के निवास पर घर पर आइसोलेशन के तहत उपचार किया। पोते श्रीनिवास हयाती, जो पेशे से एक डॉक्टर हैं, उनकी देखरेख में घर पर उपचार के बाद कमलाम्मा रिकवर हुई हैं और उनकी कोविड-19 परीक्षण रिपोर्ट अब नकारात्मक है।

सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र



पत्रकारों से बात करते हुए कमलाम्मा के पोते ने कहा कि उन्हें लगता है कि यह उनकी उम्र को देखते हुए यह चुनौतीपूर्ण था, लेकिन जब उनके पास कोई अन्य स्वास्थ्य समस्या नहीं थी, तो वे सामान्य उपचार के अधीन थीं और उनकी दादी अब कोरोनावायरस से डरने वालों के लिए एक प्रेरणा हैं।


हालाँकि वे भोजन लेने में संकोच करती थीं, फिर भी उन्हें दलिया और पानी दिया जाता था और उन्हें दी जाने वाली दवाई सीमित थी।


जब से केरल में 30 जनवरी को नॉवल कोरोनावायरस के पहले सकारात्मक मामले की पुष्टि हुई, महामारी पूरे भारत में फैल गई है और तब से इसने भारत में 48 लाख से अधिक लोगों को प्रभावित किया है। 6 सितंबर को देश ब्राजील से ऊपर है और वर्तमान में यहाँ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कोविड संख्या है।