पिछड़े लोगों को वित्तीय साक्षरता और सरकारी योजनाओं का लाभ दिला रही हैं 17 साल की काशवी

गुरुग्राम स्थित सोशल एंटरप्राइज 'इन्वेस्ट द चेंज' पिछड़े लोगों को वित्तीय साक्षरता हासिल करने और विभिन्न सरकारी योजनाओं तक पहुंचने में मदद करता है.

पिछड़े लोगों को वित्तीय साक्षरता और सरकारी योजनाओं का लाभ दिला रही हैं 17 साल की काशवी

Monday December 11, 2023,

9 min Read

घरेलू सहायिका सकीना आजीविका की तलाश में झारखंड से दिल्ली आई थी. एक स्टॉल कर्मचारी के रूप में उनकी शुरुआती नौकरी में बहुत कम वेतन मिलता था. जल्द ही, उन्हें घरेलू सहायिका के रूप में काम मिल गया और प्रति माह 1,500 रुपये कमाने लगीं. हालाँकि इससे उसके रहने की स्थिति में सुधार हुआ, लेकिन घर पर पैसे भेजने और खर्चों को कवर करने के कारण वह बचत करने में असमर्थ हो गई.

वह कहती है, “मुझे चिंता होने लगी कि अगर मुझे कुछ हो गया तो मेरा परिवार कैसे बचेगा?”

इसके बाद वह इन्वेस्ट द चेंज (Invest The Change) द्वारा आयोजित एक जागरूकता सत्र में आईं. इन्वेस्ट द चेंज — 17 वर्षीय काशवी जिंदल द्वारा शुरू किया गया एक सामाजिक उद्यम है.

सत्र के माध्यम से, उन्हें प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) के बारे में पता चला जो दुर्घटना के कारण मृत्यु या विकलांगता से सुरक्षा प्रदान करती है. पॉलिसी के लिए प्रति वर्ष 20 रुपये का भुगतान करना पड़ता है, जिसके बारे में उनका कहना है कि यह "काफी किफायती" है.

वह YourStory को बताती हैं, “सत्र वास्तव में मददगार था. मैं इस योजना में नामांकन करना चाहती थी, लेकिन मेरे पास कोई बैंक खाता नहीं था, इसलिए काशवी की टीम ने एक बैंक में खाता खोलने में मेरी मदद की. योजना में नामांकन करने से मुझे आश्वासन मिला कि भविष्य में, मेरे मौजूद न रहने पर भी मेरा परिवार आर्थिक रूप से समर्थित रहेगा.”

इन्वेस्ट द चेंज स्वास्थ्य, दुर्घटना और जीवन बीमा के लिए सरकारी योजनाओं पर केंद्रित है

गुरुग्राम स्थित संगठन सरकारी योजनाओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने से लेकर आवेदन प्रक्रिया में लोगों की मदद करने के साथ-साथ उन्हें वित्तीय साक्षरता के बारे में सिखाने में समर्थन करता है.

कैसे हुई शुरुआत?

जिंदल का कहना है कि वह हमेशा वित्तीय बाजारों के बारे में उत्सुक रही हैं क्योंकि उनके पिता गौरव पिछले 15 वर्षों से अपना हेज फंड चला रहे हैं.

वह कहती हैं, “उन्हें वित्तीय दुनिया में काम करते हुए देखकर, मेरी भी इसमें गहरी रुचि हुई. मुझे याद है कि मैं उनसे बाजार के उतार-चढ़ाव के बारे में सवालों की झड़ी लगा देती थी, भले ही मैं उस समय ज्यादा कुछ समझ नहीं पाती थी."

बाद में, स्कूल में अर्थशास्त्र (इकोनॉमिक्स) काशवी का पसंदीदा विषय बन गया और 10वीं कक्षा तक उन्होंने फाइनेंस में अपना करियर बनाने का फैसला कर लिया था.

काशवी जिंदल

काशवी जिंदल

पिछड़े लोगों की मदद करने की प्रेरणा तब मिली जब एक 31 वर्षीय हाउसकीपिंग स्टाफ की उनकी अपार्टमेंट की सोसायटी में मृत्यु हो गई. श्रमिक का परिवार तबाह हो गया क्योंकि वह एकमात्र कमाने वाला था.

जिंदल ने सोसायटी के अन्य कार्यकर्ताओं के साथ वित्तीय मामलों पर चर्चा शुरू की और पाया कि उनके बीच वित्त और अर्थव्यवस्था के बारे में जानकारी का व्यापक अभाव था.

वह कहती हैं, "शोध के दौरान मुझे पता चला कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना जैसी कई सरकारी योजनाएं ऐसी त्रासदियों के दौरान लोगों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए उपलब्ध हैं."

उन्होंने पाया कि लोग ज्यादातर सरकारी बीमा योजनाओं से अनजान हैं.

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के राष्ट्रीय सर्वेक्षण कार्यालय (NSO) की रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीण भारतीयों के सबसे गरीब पांचवें हिस्से (10.2%) में से लगभग 10% के पास किसी न किसी रूप में निजी या सरकारी स्वास्थ्य बीमा है. इससे कई लोगों को स्वास्थ्य संबंधी वित्तीय झटके झेलने पड़ते हैं.

अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि स्थिति अन्य प्रकार की बीमा पॉलिसियों के लिए अलग नहीं है.

जिंदल याद करती हैं कि COVID-19 महामारी के बीच कई परिवारों को अपनी बचत में डुबकी लगानी पड़ी. इनमें से कई परिवारों के पास जीवन या स्वास्थ्य बीमा योजनाओं का अभाव था, जिससे वे इस चुनौतीपूर्ण समय में असुरक्षित हो गए.

इस अहसास ने जिंदल को सरकारी योजनाओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए 2021 में 'इन्वेस्ट द चेंज' शुरू करने के लिए प्रेरित किया, जो वित्तीय संकट के समय में सहारा दे सकती है.

अपनी सोसायटी में आयोजित अपने शुरुआती सत्र को याद करते हुए वह बताती हैं, "प्रतिक्रिया बेहद सकारात्मक थी, सोसायटी के लगभग 50 कार्यकर्ताओं ने सरकारी योजनाओं पर जागरूकता सत्र में सक्रिय रूप से भाग लिया. सत्र के बाद, हमें इन विशिष्ट योजनाओं के लिए आवेदन करने में सहायता मांगने वाले लोगों के फोन आए. हमने उनके लिए फॉर्म भरने की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए सोसायटी में कियोस्क लगाए."

सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाना

संगठन तीन-चरणीय दृष्टिकोण का अनुसरण करता है. सबसे पहले, यह सेमिनारों के लिए कंटेंट तैयार करता है. जिंदल का कहना है कि यद्यपि स्वास्थ्य और जीवन बीमा योजनाओं पर अधिक ध्यान केंद्रित किया गया है, संगठन अटल पेंशन योजना और अन्य योजनाओं को भी कवर करता है.

प्रारंभिक सत्र के दौरान, जिंदल उपलब्ध योजनाओं की विविध श्रृंखला और उनसे जुड़े लाभों के बारे में बताती हैं. इसके बाद के सत्रों में उन व्यक्तियों के लिए व्यावहारिक सहायता शामिल है जो ऑनलाइन आवेदन करने में चुनौतियों का सामना करते हैं, उन्हें फॉर्म भरने की प्रक्रिया के माध्यम से मार्गदर्शन करते हैं.

तीसरा, टीम यह सत्यापित करने के लिए प्रतिभागियों से संपर्क करती है कि उन्हें इच्छित लाभ प्राप्त हुआ है या नहीं. यदि कोई एप्लिकेशन असफल होता है, तो टीम संभावित समाधान सुझाती है.

इन्वेस्ट द चेंज में 15 स्वयंसेवकों की एक टीम है जो जिंदल को सत्र आयोजित करने से लेकर फॉलो-अप करने में मदद करती है. अब तक, उन्होंने बस ड्राइवरों और दिहाड़ी मजदूरों जैसे 3,000 ब्लू-कॉलर श्रमिकों को पात्र सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने में मदद की है.

टीम ने अब तक लगभग 30 सत्र आयोजित किए हैं.

जिंदल ने अपने पड़ोस, स्कूलों और रेस्तरां में सत्र आयोजित करना शुरू किया. उन्होंने बुनियादी वित्तीय अवधारणाओं और सरकारी बीमा योजनाओं के बारे में एक कार्यशाला आयोजित करने के लिए रोटरी कौशल विकास केंद्र के साथ भी साझेदारी की.

काशवी जिंदल

जिंदल का कहना है कि इन सत्रों के संचालन के लिए कोई निश्चित समय चक्र नहीं है. इन सत्रों को आयोजित करने के लिए वह जहां भी होती है, स्कूलों और सोसायटियों तक पहुंचती है.

इन्वेस्ट द चेंज ने कई लोगों को प्रभावित किया है. उनमें से एक प्रकाश मंडल हैं, जो गुरुग्राम में एक ऑफिस बॉय हैं, जो महामारी के दौरान पैसों को लेकर मुश्किल दौर से गुजर रहे थे. जिंदल के संगठन ने उन्हें सरकारी नीतियों के बारे में सिखाया जो उनकी मदद कर सकती थीं.

उन्होंने कहा, "सभी योजनाओं में से मेरा ध्यान प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना पर था, जहां मुझे प्रति वर्ष 436 रुपये का प्रीमियम देना पड़ता था और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, जहां मुझे प्रति वर्ष 20 रुपये का प्रीमियम देना पड़ता था."

उन्हें योजनाओं की पहले से कोई जानकारी नहीं थी. सत्र में भाग लेने के बाद, उन्हें योजनाओं के बारे में संदेह हुआ क्योंकि न्यूनतम लागत पर लाभ की पेशकश की जा रही थी. हालाँकि, उन्होंने गहन ऑनलाइन शोध के बाद नामांकन करने का निर्णय लिया.

उन्होंने आगे कहा, “नामांकन करते समय मुझे कागजी कार्रवाई को पूरी तरह से समझने में समस्याओं का सामना करना पड़ा, लेकिन काशवी जिंदल और उनकी टीम ने कागजी प्रक्रिया में मेरी मदद की. इन दो योजनाओं ने मेरे जीवन में बहुत आसानी ला दी है क्योंकि अब छोटी राशि का भुगतान करके मैं भविष्य में होने वाली किसी भी अप्रत्याशित घटना के प्रति आश्वस्त रह सकता हूं."

इन सत्रों में वित्तीय साक्षरता पर पाठ भी शामिल हैं.

काशवी बताती हैं, “वित्तीय साक्षरता लोगों को स्वतंत्र और सूचित निर्णय लेने में सक्षम बनाती है. इसलिए हम पैसे बचाने और अधिक प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के तरीके भी सुझाते हैं ताकि वे अपनी संपत्ति बढ़ा सकें.”

चुनौतियाँ और भविष्य

कोई भी यात्रा बाधाओं के बिना नहीं होती और जिंदल का जीवन भी इससे अलग नहीं है.

वह मुख्य रूप से हिंदी और अंग्रेजी में संवाद करती है, जिससे कुछ स्थितियों में कठिनाई होती है क्योंकि कई कर्मचारी दोनों भाषाओं में पारंगत नहीं होते हैं. वह कहती हैं, "हमने इस समस्या को कम करने के लिए कुछ क्षेत्रीय भाषाएं बोलने वाले स्वयंसेवकों को रखने का फैसला किया."

इसके अलावा, उन्होंने बताया कि ज्यादातर लोग उनके साथ अपनी निजी जानकारी साझा करने को लेकर आशंकित रहते थे. वह आगे कहती हैं, “लोग धोखे से डरते हैं इसलिए वे आसानी से भरोसा नहीं करते. समूह के भीतर विश्वास बनाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य रहा है लेकिन भौतिक सत्रों के दौरान, हमने उस अविश्वास से लड़ने के लिए संबंध बनाने की कोशिश की."

काशवी जिंदल

इसके अलावा, वह स्वीकार करती है कि उनकी उम्र एक और समस्या थी क्योंकि कई लोग उन्हें गंभीरता से नहीं लेते थे. वह कहती हैं कि दूसरों को यह समझाना कठिन था कि उनका काम केवल एक शौक नहीं था बल्कि एक सामाजिक उद्देश्य के प्रति एक समर्पित प्रयास था.

फिर भी, जिंदल का कहना है कि इस पूरी यात्रा में उनके पिता उनके प्रबल समर्थक रहे हैं. प्रेजेंटेशन कंटेंट बनाने में मदद करने से लेकर कंपनी के लिए लॉजिस्टिक से जुड़े मुद्दों को सुलझाने और चुनौतीपूर्ण क्षणों के दौरान प्रेरणा देने तक, वह लगातार उनके सबसे बड़े चीयरलीडर रहे हैं.

चुनौतियों के बारे में बात करते हुए, उन्होंने यह भी बताया कि चूंकि वह एक छात्रा हैं, इसलिए कई बार अपनी पढ़ाई और अपने संगठन के काम को मैनेज करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है. लेकिन वह कहती हैं कि जीवन में कुछ भी हासिल करने के लिए हमें अपने लक्ष्यों को प्राथमिकता देनी होगी.

वह कहती हैं, "मैं अपनी दिनचर्या में शीर्ष पर बने रहने के लिए प्लानर और शेड्यूल बनाती हूं."

जिंदल का कहना है कि भविष्य के लिए वह कंपनी का विस्तार करना और अधिक लोगों तक पहुंचना चाहती हैं.

अंत में, वह कहती हैं, “हम वेबसाइट पर एक ऐप भी इंटीग्रेट कर रहे हैं जो दी गई जानकारी के आधार पर उन विभिन्न योजनाओं को फ़िल्टर करेगा जिनके लिए उपयोगकर्ता पात्र है. इससे उपयोगकर्ताओं के लिए योजनाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया सरल हो जाएगी.”

(Translated by: रविकांत पारीक)