एक ऐसी शिक्षिका, जिन्होंने निकाह के दिन भी बच्चों को दी तालीम और विदाई के दिन भी पढ़ाया.

By Kuldeep Bhardwaj
May 02, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:16 GMT+0000
एक ऐसी शिक्षिका, जिन्होंने निकाह के दिन भी बच्चों को दी तालीम और विदाई के दिन भी पढ़ाया.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कहते है "काम करो ऐसा कि पहचान बन जाए, हर कदम ऐसे चलो कि निशान बन जाए।' इसे साकार किया है बिहार के छपरा की एक बेटी तत्हीर फातिमा ने, जो एक स्कूल में अध्यापिका है। तत्हीर ने हफ्ते भर से जारी खुद के निकाह की रस्मों के बीच एक दिन भी स्कूल जाना नहीं छोड़ा। यहां तक कि निकाह व विदाई के दिन भी स्कूल पहुंची और बच्चों को पढ़ाया।

image


 सैय्यद मोहम्मद ईमाम और शमां आरा की पुत्री तत्हीर फातिमा सारण जिले के लहलादपुर प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय लशकरीपुर उर्दू में अध्यापिका हैं। उनका निकाह आलमगंज पटना सिटी निवासी सैय्यद मूसा अली रिजवी के पुत्र जफर अली रिजवी से तय हुआ अप्रैल महीने की नौ तारीख को। परिवार में जश्न का माहौल था। सगे संबंधी नाते रिश्तेदार समेत सभी खुशी में शिरकत करने दूर दूर से आये। परिजन निकाह की तैयारियों में जुटे थे। सभी को शाम के वक्त शहनाई के साथ निकाह के कबूलनामे का इंतजार था। लेकिन, जश्न के इस अवसर पर भी तत्हीर ने विद्यालय से छुट्टी नहीं ली।


image


बकौल तत्हीर, 

"निकाह के लिए लंबी छुट्टी पर जाना मुझे पंसद नहीं। मेरा प्रथम कर्तव्य बच्चों को तालीम देना है। मैं कुछ अलग नहीं कर रही हूं। सरकार ने मुझे इसी काम के लिए नियुक्त किया है, जिसे मैं बखूबी निभाना चाहती हूं।"


image


 बतौर शिक्षिका अपनी जिम्मेदारियों के प्रति समर्पण की वजह से भले ही तत्हीर को लगता है कि उन्होंने कुछ विशेष नहीं किया है, लेकिन आज के परिवेश में वे मिसाल बन गई हैं। निकाह के पांच दिनों पूर्व से प्रारम्भ हल्दी रतजगा, मेंहंदी आदि की रस्मों के बीच निकाह के दिन भी बच्चों को पढ़ाने की बात पूरे इलाके में हो रही है। निकाह ही नहीं, तत्हीर ने निकाह के अगले दिन भी स्कूल में बाकायदा बच्चों को पढ़ाया साथ ही अपनी शादी की खुशियाँ भी इन्हीं बच्चों को चॉकलेट खिलाकर मनाया।


 

image


वही निकाह के बाद अपने शौहर संग ससुराल जाने के दिन भी तत्हीर रोज की भांति स्कूल पहुंचीं, बच्चों की उपस्थिति बनाई और क्लास ली। उसके बाद घर पहुंची, तब विदाई की रस्म पूरी हुई।



image


स्कूल के बच्चे तत्हीर से भावनात्मक लगाव महसूस करते हैं। छात्र पिंटू कुमार, कुनाल कुमार, काजल कुमारी, खुशबू तारा आदि ने बताया कि मैडम जब तक वापस नहीं आ जातीं, सबको उनकी कमी खलेगी।


image


बतौर एक टीचर तत्हीर फातिमा द्वारा पेश की गई सराहनीय और अनुकरणीय मिसाल के बाबत मिली जानकारी पर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी कमरूद्दीन अंसारी ने भी तत्हीर की प्रशंसा करते हुए उसे सम्मानित करने की घोषणा की है। जिला शिक्षा पदाधिकारी चन्द्रकिशोर प्रसाद ने कहा कि तत्हीर का कार्य प्रशंसनीय और अन्य शिक्षकों के लिए अनुकरणीय है।


image


ऐसी ही और प्रेरणादायक कहानियाँ पढ़ने के लिए हमारे Facebook पेज को लाइक करें

अब पढ़िए ये संबंधित कहानियाँ:

मजदूरी से 9 रुपए रोज़ कमा कर बड़ी मुश्किल से पढ़ाई करने वाली आरती आज पढ़ा रही हैं सैकड़ों लड़कियों को मुफ्त

गांवों के विकास के लिए प्रोफेशनल करियर छोड़ 22 साल की मोना कौरव बनीं महिला सरपंच, सालभर में बदल दी तस्वीर

कूड़ा बीनने वाले बच्चों को तालीम देने और भविष्य बनाने में जुटे हैं बनारस के एक शख्स